Search

चालू खाते का घाटा 2012-13 में जीडीपी के 4.8 प्रतिशत तक पहुंची

चालू खाते का घाटा (कैड) 2012-13 में जीडीपी के 4.8 प्रतिशत तक पहुंच गया जो अब तक का सर्वोच्च वार्षिक घाटा है.

Jun 28, 2013 19:17 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

चालू खाते का घाटा (कैड) 2012-13 में जीडीपी के 4.8 प्रतिशत तक पहुंच गया जो अब तक का सर्वोच्च वार्षिक घाटा है. ऐसा निर्यात में गिरावट के बीच तेल और सोने पर ऊंचे आयात खर्च से हुआ.  

वित्त वर्ष 2012-13 की आखिरी तिमाही में यह तेजी से घटकर 3.6 प्रतिशत पर आ गया जबकि इससे पहले की तिमाही (अक्टूबर दिसम्बर) में यह 6.7% के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया था.

वित्त वर्ष 2011-12 की मार्च तिमाही में कैड 4.4 प्रतिशत थी. आरबीआई के आंकड़े के मुताबिक वित्त वर्ष 2011-12 में चालू खाते का घाटा (कैड) 78.2 अरब डालर (4.2 प्रतिशत) था लेकिन तेल और सोने के ज्यादा आयात के कारण पिछले वित्त वर्ष के दौरान यह 87.8 अरब डालर (4.8 प्रतिशत) पर पहुंच गया.

चालू खाते का घाटा (कैड)
किसी निश्चित अवधि में विदेशी मुद्रा के अंतर और बाह्य प्र्रवाह के बीच अंतर को दर्शाता है.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS