Search

तहरीक –ए– तालिबान ने पाकिस्तान के पेशावर में आर्मी द्वारा संचालित स्कूल पर हमला किया

तहरीक– ए– तालिबान के हमलावरों ने पाकिस्तान के पेशावर में सेना द्वारा संचालित स्कूल में 16 दिसंबर 2014 को हमला किया.

Dec 18, 2014 11:11 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

तहरीक– ए– तालिबान के हमलावरों ने पाकिस्तान के पेशावर में सेना द्वारा संचालित स्कूल में 16 दिसंबर 2014 को हमला किया. आतंकी हमले में कम– से– कम 141 लोगों की मृत्यु हो गई जिसमें 132 बच्चे और 9 स्कूल के स्टाफ के सदस्य थे. कई अन्य घायल हुए.

आतंकवादी समूह ने हमलों की जिम्मेदारी ली है और कहा है कि यह नरसंहार पेशावर के निकट उत्तरी वजीरिस्तान के आदिवासी इलाके में सेना द्वारा की गई कार्रवाई का बदला है. वर्तमान में, पाकिस्तान की सेना ने देश के आतंकवादियों के खिलाफ ‘ऑपरेशन जर्ब–ए– अज्ब’ और ‘ऑपरेशन खैबर– 1’ चला रही है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ जिन्होंने घटनास्थल का दौरा किया ने इस नरसंहार को राष्ट्रीय त्रासदी बताया औऱ कहा कि देश के आदिवासी क्षेत्र से आतंकवादियों को हटाने के लिए चलाया जा रहा ऑपरेशन 'जर्ब–ए– अज्ब' जारी रहेगा. पाकिस्तान सरकार ने इस नरसंहार के बाद तीन दिनों के राष्ट्रव्यापी शोक की भी घोषणा की.

इस घटना ने विश्व के नेताओं का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया
• संयुक्त राज्य अमेरिका ने तालिबान के स्कूल पर इस हमले की कड़ी निंदा की है और कहा है कि अमेरिका मासूम बच्चों और शिक्षकों पर किए गए इस बेमतलब औऱ अमानवीय हमले की कड़े शब्दों में निंदा करता है और वह पाकिस्तान के लोगों के साथ है.
• संयुक्त राष्ट्र महासचिव बानकी– मून ने भी तालिबान के हमले की निंदा करते हुए कहा कि कोई भी कारण ऐसी क्रूर और भयानक घटना उचित नहीं ठहरा सकता. उन्होंने कहा कि ऐसी घटना के लिए कोई भी बहाना नहीं चलेगा और यह भयानक एवं निराश्रित बच्चों पर किया गया कायरतापूर्ण हमला है.
• ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरून और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रैंकोइस होलैंडे ने भी इस आतंकवादी हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है.
 
हमले पर भारत का रूख
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से फोन पर बात की और इस क्रूर आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की. भारत ने पाकिस्तान को यथासंभव सहायता करने की पेशकश की और पाकिस्तान में हुए इस नृशंस हमले के मद्देनजर, प्रधानमंत्री ने भारत के सभी स्कूलों में 17 दिसंबर 2014 को दो मिनट का मौन रखने की अपील की.
 
विभिन्न देशों में हुए स्कूली हमले
• 10 नवंबर 2014: बोको हरम द्वारा नाइजीरिया के पोटिस्कम सरकारी स्कूल में आत्मघाती बम विस्फोट इसमें कम से कम 47 मौतों की सूचना मिली.
• 6 जुलाई 2013: योबे स्टेट स्कूल, नाइजीरिया में बोको हरम द्वारा गोलीबारी कम से कम 42 मौतें रिपोर्ट की गईं.
• 3 सितंबर 2004: बेस्लान स्कूल बंधक संकट, रूस कम से कम 385 मौतों की रिपोर्ट.
• 26 मार्च 2001: क्यांगुली सेकेंडरी स्कूल– माचाकोस, कीन्या में आगजनी कम से कम 57 मौतों की रिपोर्ट.
• 15 मई 1974: नेतीन मीर प्राथमिक स्कूल बंधक संकट, इस्राइल कम से कम 34 मौतों की रिपोर्ट.
• 18 मई 1927: बाथ, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्कूल में बमबारी कम से कम 44 मौतों की रिपोर्ट की गई.
• 2009 से 2013 के बीचः अफगानिस्तान में 1073 हमले.
• साल 2013 में सोमालिया और यमन के स्कूलों में क्रमशः 54 और 35 हमले किए गए.