Search

दक्षिण कोरिया में एमईआरएस विषाणु से दो रोगियों की मृत्यु

मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम नमक विषाणु उस समय चर्चा में आया जब इससे  संक्रमित दो रोगियों की दक्षिण कोरिया में मृत्यु हो गयी.

Jun 4, 2015 10:08 IST

MERS :मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम


मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम नमक विषाणु उस समय चर्चा में आया जब इससे  संक्रमित दो रोगियों की दक्षिण कोरिया में मृत्यु हो गयी.


सऊदी अरब की यात्रा पर जा रहे एक यात्री में मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम नामक विषाणु की सकारात्मक पुष्टि के साथ अब तक कुल 25 मामलों में इसकी पुष्टि की गयी है.


मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम की खोज 2012 में की गयी थी तथा इसका केंद्र सऊदी अरब है. इस वायरस के संक्रमण से निमोनिया और गुर्दे की विफलता, साँस लेने में कठिनाई, जुकाम और सार्स जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं.यह वायरस मुख्यतः कोरोना वायरस समूह से सम्बंधित है.


प्रारंभिक अवस्था में ऐसा माना जाता था कि यह वायरस ऊटों के संपर्क में आने से होता है लेकिन यह ऊँटों के दूध तथा मानव तरल पदार्थ और बूंदों के जरिये भी फैल सकता है.


यूरोपियन सेंटर फॉर डिजीज प्रेवेंसन एंड कंट्रोल के अनुसार पूरे विश्व में इसके 1167 मामलें सामने आएं हैं जिनमें से 479 लोगों की मौत हो चुकी है.

Now get latest Current Affairs on mobile, Download # 1 Current Affairs App