Search

भारतीय शतरंज खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद ने पहली बार ‘लंदन क्लासिक’ का खिताब जीता

भारतीय शतरंज खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद ने 15 दिसंबर 2014 को पहली बार लंदन क्लासिक शतरंज टूर्नामेंट का खिताब जीता.

Dec 16, 2014 12:03 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

भारतीय शतरंज खिलाड़ी और पांच बार के विश्व विजेता विश्वनाथन आनंद ने 15 दिसंबर 2014 को ब्रिटिश ग्रैंडमास्टर माइकल एडम्स को हराकर पहली बार लंदन क्लासिक शतरंज टूर्नामेंट का खिताब जीता. आनंद ने एडम्स को पांचवें और आखिरी दौर में मात देकर खिताब जीता.

कुल छह खिलाडियों के बीच राउंड रोबिन आधार पर खेल गये टूर्नामेंट में आनंद ने पहली चार बाजियां ड्रॉ करवायी . आनंद को खिताब जीतने के लिये इसमें जीत की जरुरत थी और इसमें एडम्स ने भी उनकी मदद की जिन्होंने सफेद मोहरों से ड्रॉ करवाने के बजाय मुकाबले में बने रहने की तरजीह दी. आनंद ने इस जीत से एलीट शतरंज में अपनी जीवंत उपस्थिति बरकरार रखी.

लंदन स्कोरिंण प्रणाली में काले मोहरों से जीत दर्ज करने वाले खिलाड़ी को अधिक तवज्जो दी गयी जबकि गिरी और क्रैमनिक ने इससे पहले सफेद मोहरों से जीत दर्ज की थी. अमेरिका के हिकारु नकामुरा भी खिताब के दावेदार थे लेकिन वह विश्व के दूसरे नंबर के खिलाडी इटली के फैबियानो कारुआना से पार नहीं पा सके और उन्होंने बाजी ड्रॉ करवायी. नकामुरा छह अंक के साथ चौथे स्थान पर रहे जबकि एडम्स और कारुआना दोनों के समान चार-चार अंक रहे.

विदित हो कि लंदन क्लासिक से दो सप्ताह पहले आनंद को विश्व चैंपियनशिप मुकाबले में नार्वे के मैगनस कार्लसन के हाथों हार का सामना करना पडा था. आनंद ने फुटबॉल की तरह की स्कोरिंग प्रणाली में कुल सात अंक बनाये. इस प्रणाली के तहत जीत पर तीन और ड्रॉ पर एक अंक मिलता है. चार ड्रॉ के बाद एकमात्र जीत से आनंद के रुस के व्लादीमीर क्रैमनिक और नीदरलैंड के अनीस गिरी के समान अंक हो गये थे. इसके बाद वह टाईब्रेक में अव्वल रहे और उन्हें खिताब मिला.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS