Search

बहुमत की दौड़

कुल सीट - 542
  • पार्टीसीट (जीते+आगे)बहुमत से आगे/पीछे

    बहुमत 272

रूस ने ईकेएस (टुंड्रा) प्रणाली के पहले उपग्रह कॉसमॉस 2510 का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया

इस उपग्रह को उत्तरी रूस में स्थित प्लेस्तेक कॉस्मोड्रोम (Plesetsk Cosmodrome) की 43/4 साइट से सोयुज-2.1बी रॉकेट द्वारा प्रक्षेपित किया गया.

Nov 19, 2015 16:04 IST

रूस ने अपनी नवीनतम पूर्व चेतावनी प्रणाली के पहले उपग्रह एकीकृत अंतरिक्ष प्रणाली (ईकेएस) का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया. इस उपग्रह को आधिकारिक तौर पर कॉसमॉस 2510 (टुंड्रा 11एल) नाम दिया गया.

इस नई पीढ़ी के उपग्रह का मॉस्को की क्षमता को बहाल हेतु निर्माण अंतरिक्ष में विश्व भर की मिसाइल प्रक्षेपण की पहचान करने और ट्रैक का पता लगाने के लिए गया. इस उपग्रह को उत्तरी रूस में स्थित प्लेस्तेक कॉस्मोड्रोम (Plesetsk Cosmodrome) की साइट 43/4 से सोयुज-2.1बी रॉकेट द्वारा प्रक्षेपित किया गया.

कॉसमॉस 2510 को रूस एयरोस्पेस रक्षा बलों के उप कमांडर अलेक्जेंडर गोलोव्को की निगरानी में प्रक्षेपित किया गया.


टुंड्रा 11एल उपग्रह की मुख्य विशेषताएं
•    रूस के अंतरिक्ष यान और अंतरिक्ष स्टेशन के उपकरणों के निर्माता आरकेके एनर्जिया ने टुंड्रा अंतरिक्ष यान का निर्माण किया.
•    इस उपग्रह को रूस एयरोस्पेस रक्षा बलों द्वारा संचालित किया जाएगा.
•    उपग्रह को दीर्घ वृत्ताकार भू-समकालिक कक्षा में स्थापित कर दिया गया, जिसे टुंड्रा कक्षा कहा गया.
•    यह उपग्रह समुद्र और इसके साथ ही अमेरिकी क्षेत्र से लांच की गई मिसाइलों का पता लगाने में सक्षम होगा.

ईकेएस क्या है?
•    ईकेएस (एकीकृत अंतरिक्ष सिस्टम) ओको कार्यक्रम के यूएस-केएमओ और यूएस-के उपग्रहों का एक प्रतिस्थापन है.
•    ये बाह्य अंतरिक्ष से प्रक्षेपित बैलिस्टिक मिसाइलों की पहचान करने में सक्षम हैं और पूर्व चेतावनी रडार वोरोनिश के समान है.
•    रूस द्वारा वर्ष 2020 तक छह टुंड्रा उपग्रहों के लांच करने की योजना हैं.
•    अगला टुंड्रा मिशन वर्ष 2016 में लांच किया जाना है.