Search

लक्षद्वीप में पवन हंस लिमिटेड की हेलिकॉप्टर सेवाओं को जारी रखने के प्रस्ताव को मंजूरी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्षद्वीप में अंतरद्वीप संपर्क हेतु पवन हंस लिमिटेड की हेलिकॉप्टर सेवाओं को 5 वर्ष के लिए आगे भी जारी रखने के प्रस्ताव को मंजूरी दी.

Jun 29, 2013 15:10 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

लक्षद्वीप (भारत): केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्षद्वीप में पवन हंस लिमिटेड की हेलिकॉप्टर सेवाओं को जारी रखने के प्रस्ताव को मंजूरी दी.

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्षद्वीप में अंतरद्वीप संपर्क स्थापित करने के लिए पवन हंस लिमिटेड (पीएचएल) की हेलिकॉप्टर सेवाओं को 1 अप्रैल 2012 से 31 मार्च 2017 तक 5 वर्ष की अवधि के लिए आगे भी जारी रखने के प्रस्ताव को 28 जून 2013 को मंजूरी दी.

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पवन हंस लिमिटेड से हेलिकॉप्टरों को किराए पर लेने/चार्टर करने की लागत को पूरा करने के केंद्र सरकार के लगभग 1990.64 लाख प्रति वर्ष की अनुदान राशि के प्रावधान के प्रस्ताव को भी मंजूरी प्रदान की. इस उद्देश्य के लिए सेवा-कर और विदेशी मुद्रा उतार-चढ़ाव के प्रभारों को संघ शासित राज्य लक्षद्वीप और गृह मंत्रालय द्वारा वहन किया जाना है.

पवन हंस लिमिटेड फरवरी 1987 से लक्षद्वीप में हेलिकॉप्टर सेवाएं उपलब्ध करा रहा है. इस व्यवस्था को 31 मार्च 2007 के बाद 5 वर्ष के लिए और बढ़ाया गया था. पिछले 25 वर्षों के दौरान हेलिकॉप्टर सेवाएं लक्षद्वीप में परिवहन और संचार प्रणा‍ली का एक हिस्सा बन गई हैं.

लक्षद्वीप

लक्षद्वीप भारत के दक्षिण-पश्चिम में हिंद महासागर में स्थित एक भारतीय द्वीप-समूह है. इसकी राजधानी कवरत्ती है. समस्त केंद्र शासित प्रदेशों में लक्षद्वीप सब से छोटा है. यह भारत की मुख्यभूमि से लगभग 300 किमी दूर पश्चिम दिशा में अरब सागर में स्थित है. लक्षद्वीप द्वीप-समूह में कुल 36 द्वीप है परन्तु केवल 7 द्वीपों पर जनजीवन है. देशी पर्यटकों को 6 द्वीपों पर जाने की अनुमति है जबकि विदेशी पयर्टकों को केवल 2 द्वीपों (अगाती व बंगाराम) पर जाने की अनुमति है.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS