Search

वायुसेना के लापता AN-32 विमान क्रैश में कोई नहीं बचा, वायुसेना ने ट्वीट कर दी जानकारी

ये विमान 3 जून को लापता हुआ था और 9 दिन बाद यानी 11 जून को इसका मलबा मिला था. वायुसेना ने इस विमान को खोजने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया.

Jun 13, 2019 15:41 IST
Image for representative purpose only

भारतीय वायुसेना ने ट्वीट कर जानकारी दी की वायुसेना के लापता विमान AN-32 में सवार कोई भी यात्री जिंदा नहीं बचा है. भारतीय वायुसेना ने ट्वीट करते हुए कहा कि आठ सदस्यों का बचाव दल क्रैश साइट पर पहुंच गया है, जहां उन्हें कोई भी जीवित शख्स नहीं मिला है.

भारतीय वायुसेना ने विमान में सवार सभी 13 लोगों के परिजनों को इस बारे में सूचित कर दिया है. भारतीय वायुसेना ने हादसे के दौरान जान गंवाने वाले सभी लोगों को श्रद्धांजलि दी है.

वायुसेना के जिन 13 जवानों ने अपनी जान गंवाई उनमें विंग कमांडर जीएम चार्ल्स, स्क्वाड्रन लीडर एच विनोद, फ्लाइट लेफ्टिनेंट आर थापा, फ्लाइट लेफ्टिनेंट ए तंवर, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एस मोहंती, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एम के गर्ग, वारेंट ऑफिसर केके मिश्रा, सार्जेंट अनूप कुमार, कारपॉरल शेरिन, लीड एयरक्राफ्ट मैन एसके सिंह, लीड एयरक्राफ्ट मैन पंकज, नॉन कॉम्बैट एंप्लॉयी पुताली, नॉन कॉम्बैट एंप्लॉयी राजेश कुमार है.

विमान 03 जून को गायब हुआ था

ये विमान 3 जून को लापता हुआ था और 9 दिन बाद यानी 11 जून को इसका मलबा मिला था. वायुसेना ने इस विमान को खोजने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया. इस अभियान को खोजने के लिए सुखोई 30 एयरक्राफ्ट और सी-130 स्पेशल ऑपरेशन एयरक्राफ्ट को लगाया गया.

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें!

अरुणाचल प्रदेश में दिखा था मलबा

वायुसेना के इस आठ दिनों से लापता विमान के मलबे को 11 जून 2019 को अरुणाचल प्रदेश के सियांग और शी-योमी जिले की सीमा पर गट्टे गांव के आस-पास एमआइ-17 हेलीकॉप्टर से 12 हजार फीट की ऊंचाई पर देखा गया था. भारतीय वायुसेना के अनुसार, इस इलाके में घने जंगल हैं और वहां पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है.

वायुसेना में 1986 में में हुआ था शामिल:

रूस निर्मित AN-32 परिवहन विमान को साल 1986 में भारतीय वायु सेना में शामिल किया गया था. वर्तमान में, भारतीय वायुसेना 105 विमानों को संचालित करती है. ये विमान ऊंचे क्षेत्रों में भारतीय सैनिकों को लैस करने और स्टॉक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. AN-32 सेना के लिए काफी भरोसेमंद विमान रहा है. विश्वभर में ऐसे लगभग 250 विमान सेवा में हैं. इस विमान को नागरिक और सैनिक दोनों के हिसाब से डिजाइन किया गया है.

यह भी पढ़ें: World cup 2019: भारत-न्यूजीलैंड विश्व कप में 16 साल बाद आमने-सामने

For Latest Current Affairs & GK, Click here