Search

शिंजो अबे तीसरे कार्यकाल के लिए जापान के प्रधानमंत्री निर्वाचित

शिंजो अबे (Shinzo Abe) को तीसरी बार जापान का प्रधानमंत्री चुना गया.

Dec 17, 2014 16:38 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

शिंजो अबे (Shinzo Abe) को तीसरी बार जापान का प्रधानमंत्री चुना गया. इनके चयन की घोषणा 14 दिसंबर 2014 को की गई. वह जापान की सत्तारूढ़ गठबंधन (लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी और कोमीटो) द्वारा राष्ट्रीय सभा, दवीसदनीय विधायिका (बीकामेरल लेजिस्लेचर) के नीचले सदन (हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स) के लिए कराए गए स्नैप चुनावों में दो– तिहाई बहुमत से जीत हासिल की.

अबे ने ये स्नैप चुनाव अपने अबेनॉमिक्स जो कि आक्रामक मौद्रिक सहजता, सार्वजनिक खर्च एवं आर्थिक सुधारों का मिश्रण है, के लिए समर्थन हासिल करने हेतु कराए थे.

चुनावों में 52.7% मतदाताओं ने वोट डाला, जो कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद रिकॉर्ड सबसे कम मतदान है. टर्न–आउट भी कम हुआ, यह 2012 में हुए पिछले नीचले सदन के चुनावों का करीब 7 फीसदी ही रहा.
 
स्नैप चुनावों के परिणाम
अबे की पार्टी लीबरल डेमोक्रेटिक  पार्टी (एलडीपी) ने 290 सीटें जीतीं और उसके गठबंधन सहयोगी कोमीटो ने 35 सीटें. दोनों ने मिलकर 475 सीटों वाले नीचले सदन में 325 सींटों पर कब्जा जमाया.
 
हालांकि, सबसे बड़ा विपक्षी दल, द डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ जापान (डीपीजे) ने 73सीटों पर जीत दर्ज की, जो कि उनके पिछले चुनावों के 62सीटों के मुकाबले 11 अधिक है. लेकिन डीपीजे अध्यक्ष जापान कम्युनिस्ट पार्टी ने अपनी सीटें करीब तीन गुणा करते हुए 21 सीटों पर जीत हासिल की जबकि एक और विपक्षी पार्टी, इनोवेटिव पार्टी ने 41 सीटें हासिल की.

टिप्पणी
नीचले सदन में दो तिहाई बहुमत उपरी सदन द्वारा खारिज किए गए बिलों को फिर से अधिनियमन की अनुमति देगा. इसके अलावा, नीचले सदन में दो तिहाई बहुमत सत्तारूढ़ पार्टी को संविधान में संशोधन का प्रस्ताव देने की भी अनुमति देगा.