Search

सोनम कपूर वर्ष 2018 के लिए 'पेटा पर्सन ऑफ़ द इयर' चुनी गईं

सोनम कपूर पशुओं के अधिकार को लेकर आवाज उठाती रही हैं. उनका हैंडबैग ब्रांड रेहासोन चमड़े के पर्स या हैंडबैग नहीं बनाता है.

Dec 18, 2018 17:37 IST
सोनम कपूर को वर्ष 2018 के लिए 'पेटा पर्सन ऑफ़ द इयर' चुना गया है.

बॉलीवुड की अभिनेत्री सोनम कपूर को वर्ष 2018 का पेटा इंडिया (पीपल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स - इंडिया) की पर्सन ऑफ द इयर होंगी. पेटा इंडिया का कहना है कि सोनम वीगन हैं और वे चमड़े का कोई भी सामान इस्तेमाल नहीं करतीं.

पेटा इंडिया द्वारा जारी वक्तव्य जारी करते हुए कहा कि सोनम वीगन भोजन का लुत्फ लेती हैं और वह पशुओं के प्रति क्रूरता और अत्याचार के विरोध में हमेशा खड़ी होती हैं. वे हर संभव कोशिश करती हैं कि बेजुबान भी बेहतर जीवन जी पाएं. हम चाहते हैं कि दूसरे लोग भी उनसे प्रेरणा लें और पशुओं के साथ अच्छी तरह व्यवहार करें.

मुख्य बिंदु

•    पेटा इंडिया का कहना है कि उनका हैंडबैग ब्रांड रेहासोन चमड़े के पर्स या हैंडबैग नहीं बनाता.

•    इससे पहले वर्ष 2016 में पेटा ने सोनम कपूर को भारत की सबसे शानदार शाकाहारी सेलेब्रिटी घोषित किया था.

•    इसके बाद उन्हें इसी समूह ने बिजनेस अवॉर्ड भी दिया था जो पशुओं के प्रति क्रूरता को खत्म करने के लिए उनके हैंडबैग लाइन के लिए दिया गया था.

•    गौरतलब है कि उनका हैंडबैग ब्रांड रेहासोन चमड़े के पर्स या हैंडबैग नहीं बनाता है.

•    इससे पहले अनुष्का शर्मा, सनी लियोन, शशि थरूर, कपिल शर्मा, हेमा मालिनी, आर. माधवन और जैकलीन फर्नानडीज को भी यह अवार्ड मिल चुका है.

सोनम कपूर और पशुप्रेम

सोनम कपूर पहले भी पशुओं के अधिकार को लेकर आवाज उठाती रही हैं. वे स्कूल और कॉलेजों में लाइफ साइंस और जूलॉजी छात्रों द्वारा किए जान वाले डिसेक्शन पर भी रोक लगाने की मांग कर चुकी हैं. इसके अलावा उन्होंने महाराष्ट्र सरकार से चाइनीज मांझे पर रोक लगाने के लिए भी अपील की थी. सोनम ने बच्चों को ‘काइंड काइट्स’ बांटी थीं ताकि वे मांझे के नुकसान से परिचित हो सकें और समझ सकें कि यह पक्षियों के लिए कैसे नुकसानदायक है. वह सोशल मीडिया पर पशुओं के बारे में लगातार लोगों को सचेत करती रहती हैं.

पेटा (PETA) क्या है?

पेटा (PETA) या पशुओं के साथ नैतिक व्यवहार के पक्षधर लोग (People for the Ethical Treatment of Animals) एक पशु-अधिकार संगठन है. इसका मुख्यालय यूएसए के वर्जिनिया के नॉर्फोल्क में स्थित है. विश्व भर में इसके लगभग 20 लाख सदस्य हैं और यह अपने को विश्व का सबसे बड़ा पशु-अधिकार संगठन होने का दावा करता है. इन्ग्रिड न्यूकिर्क इसके अन्तरराष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.

 

 

यह भी पढ़ें: BPSC Prelims Exam 2018 में पूछे गये करेंट अफेयर्स प्रश्न (उत्तर सहित)