Search

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत व ध्रुपद गायिकी के उस्ताद पद्मभूषण रहीम फहीमुद्दीन डागर का निधन

India Current Affairs 2011. हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत व ध्रुपद गायिकी के उस्ताद रहीम फहीमुद्दीन डागर का लम्बी बीमारी के बाद 27 जुलाई  2011 को निधन हो गया. वह 84 वर्ष के थे. उन्हें...

Jul 30, 2011 12:13 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत व ध्रुपद गायिकी के उस्ताद रहीम फहीमुद्दीन डागर का लम्बी बीमारी के बाद 27 जुलाई  2011 को निधन हो गया. वह 84 वर्ष के थे. उन्हें निजामुद्दीन कब्रिस्तान में दफनाया गया. रहीम फहीमुद्दीन डागर को वर्ष 2010 में केंद्रीय संगीत नाटक अकादमी के सर्वोच्च पुरस्कार रत्न सदस्यता पुरस्कार से, वर्ष 2008 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया. इसके आलावा वर्ष 2003 में उन्हें राजस्थान संगीत नाटक अकादमी अवार्ड, 2002 में बिहार ध्रुपद रत्न अवार्ड, 1996 में साहित्य कला परिषद सम्मान व 1993 में संगीत नाटक अकादमी अवार्ड प्रदान किया गया. रहीम फहीमुद्दीन डागर को मुगल संगीतकार तानसेन के गुरु का वंशज कहा जाता था. वह डागर वाणी ध्रुपद संगीत विद्यालय के वरिष्ठ गुरु थे.
डागर घराने की 19वीं पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करने वाले उस्ताद रहीम फहीमुद्दीन का जन्म 1927 में राजस्थान के अलवर में हुआ था. उन्होंने पांच साल की उम्र में अपने चाचा उस्ताद नसीरुद्दीन खान डागर से ध्रुपद की शिक्षा लेनी शुरू की थी.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS