Search

बैक्टीरिया को ड्रग प्रतिरोधी बनाने वाले 76 जीनों की पहचान की गई

अधिकांश बीमारी के कारक बैक्टीरिया अपने खुद के डीएनए के उत्परिवर्तन के माध्यम से प्रतिरोधी बन जाते हैं या फिर अक्सर गैरहानिकारक बैक्टीरियाओं से प्रतिरोधी जीन हासिल कर लेते हैं.

Oct 17, 2017 16:21 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

अब तक अज्ञात रहे ऐसी 76 जीनों की पहचान वैज्ञानियों ने की है जो बैक्टीरिया को आखिरी सहारा माने जाने वाले एंटीबायोटिक्स के प्रतिरोधी बनाते हैं. इस खोज से सुपरबग्स के खिलाफ इंसानों की जंग को नया आधार मिल सकता है. एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी बैक्टीरिया द्वारा संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रही वैश्विक समस्या हैं.

अधिकांश बीमारी के कारक बैक्टीरिया अपने खुद के डीएनए के उत्परिवर्तन के माध्यम से प्रतिरोधी बन जाते हैं या फिर अक्सर गैरहानिकारक बैक्टीरियाओं से प्रतिरोधी जीन हासिल कर लेते हैं.

स्वीडन की चाल्मर्स युनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी और युनिवर्सिटी ऑफ गोथेनबर्ग के शोधकर्ताओं ने काफी मात्रा में डीएनए के आंकड़ों का विश्लेषण किया और अध्ययन के बाद 76 नये प्रतिरोधी जीनों का पता लगाया.
सेलेना ने मिस्र में जूनियर एवं कैडेट टेबिल टेनिस में तीन स्वर्ण जीते
इनमें से कुछ जीन एक बैक्टीरिया को कार्बापीनेम्स की क्षमता को कमतर करने की शक्ति देते हैं. कार्बापीनेम्स कई तरह के प्रतिरोधी बैक्टीरिया का इलाज करने के लिये इस्तेमाल होने वाला सबसे शक्तिशाली श्रेणी का एंटीबायोटिक है.

CA eBook

चाल्मर्स युनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के प्रोफेसर एरिक क्रिस्टिएंसन के अनुसार ‘‘हमारा अध्ययन दिखाता है कि अनेक अज्ञात प्रतिरोधी जीन हैं. इन जीनों के बारे में जानकारी से बहु-प्रतिरोधी बैक्टीरिया को ज्यादा प्रभावी तरीके से खोजने और उनसे निपटने में मदद मिलेगी.’’

गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जोआकिम लारसौन के अनुसार ‘‘बैक्टीरिया कैसे एंटीबायोटिक्स के खिलाफ अपना बचाव करते हैं इस बारे में हम जितना जानेंगे उतनी ही ज्यादा प्रभावी नई दवा विकसित करने की हमारी संभावना बढ़ेगी’’.

विस्तृत current affairs  हेतु यहाँ क्लिक करें       


साइंटिफिक जर्नल माइक्रोबायोम में प्रकाशित अध्ययन में दुनियाभर से इंसानों और विभिन्न वातावरणों से जुटाये गये बैक्टीरिया के डीएनए क्रम का विश्लेषण किया गया जिसके बाद नये जीनों का पता लगाया गया.

क्रिस्टियानसन के अनुसार ‘‘प्रतिरोधी जीन अक्सर बेहद दुर्लभ होती हैं और एक नयी जीन का पता लगाया जा सके उससे पहले डीएनए के काफी आंकड़ों के परीक्षण की आवश्यकता होती है’’.

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS