बिहार राज्य के पटना शहर में बनेगा एशिया का पहला राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र

गंगा की डॉल्फिन भारत का राष्ट्रीय जलीय जंतु है और यह दुनिया की चार मीठे पानी की डॉल्फ़िन प्रजातियों में से एक है.

Created On: Jul 18, 2021 12:49 ISTModified On: Jul 18, 2021 12:49 IST

भारत और एशिया का पहला राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र (NDRC) बिहार राज्य के पटना विश्वविद्यालय परिसर में गंगा नदी के तट पर स्थापित किया जाएगा. मानसून के मौसम के बाद इस केंद्र पर काम शुरू होने की उम्मीद है.

विशेषज्ञों की टीमों द्वारा गंगा नदी में वर्ष, 2018-19 में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, इस नदी में लगभग 1,455 डॉल्फ़िन देखी गईं.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यह कहा है कि, राज्य सरकार पटना विश्वविद्यालय के परिसर में राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र स्थापित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है.

राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र (NDRC): मुख्य विशेषताएं

• इस राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र की स्थापना गंगा नदी की डॉल्फिन के संरक्षण की दिशा में एक बड़ा कदम है.
• यह केंद्र पटना विश्वविद्यालय के भीतर 4400 वर्ग मीटर भूमि पर स्थापित किया जाएगा और यह  केंद्र गंगा नदी से करीब 200 मीटर की दूरी पर होगा.
• इस केंद्र के वर्ष 2022 तक स्थापित होने की उम्मीद है. शुरू में वर्ष, 2011 में यह परियोजना प्रस्तावित की गई थी.

महत्त्व

यह राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र लुप्तप्राय गंगा डॉल्फिन के संरक्षण के प्रयासों को बढ़ावा देगा और डॉल्फ़िन के बदलते व्यवहार, भोजन की आदतों, उत्तरजीविता कौशल, मृत्यु के कारण और अन्य पहलुओं सहित इन डॉलफिन्स पर गहन शोध को सक्षम करेगा.

यह NDRC परियोजना डॉल्फिन के लिए फायदेमंद होगी, जिसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त, 2020 को की थी.

यह प्रोजेक्ट डॉल्फिन क्या है?

• प्रोजेक्ट टाइगर की सफलता को दोहराने के लिए पिछले साल अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान प्रोजेक्ट लॉयन के साथ प्रधानमंत्री द्वारा प्रोजेक्ट डॉल्फिन की घोषणा भी की गई थी.
• इस प्रोजेक्ट डॉल्फ़िन का उद्देश्य देश की नदियों और महासागरों में डॉल्फ़िन का संरक्षण और सुरक्षा करना है.
• यह परियोजना, विशेष रूप से अवैध शिकार विरोधी गतिविधियों और गणना में आधुनिक तकनीक के उपयोग के माध्यम से डॉल्फ़िन और जलीय आवास के संरक्षण को शामिल करेगी.

गंगा की डॉल्फिन

• गंगा की डॉल्फिन भारत का राष्ट्रीय जलीय जंतु है. यह दुनिया की चार मीठे पानी की डॉल्फ़िन प्रजातियों में से एक है.
• अन्य तीन मीठे पानी की डॉल्फ़िन प्रजातियां चीन की यांग्त्ज़ी नदी (अब विलुप्त), पाकिस्तान की सिंधु नदी और दक्षिण अमेरिका की अमेज़ॅन नदी में पाई जाती हैं.
• गंगा की डॉल्फिन मुख्य रूप से भारतीय उपमहाद्वीप, खासकर गंगा-ब्रह्मपुत्र-मेघना और कर्णफुली-सांगू नदियों में पाई जाती है.
• डॉल्फ़िन्स कम से कम 05 फीट से 08 फीट गहरा पानी पसंद करती हैं. ये आमतौर पर अशांत पानी में पाई जाती हैं, जहां इनके पास खाने के लिए पर्याप्त मछलियां होती हैं.
• बिहार में देश की अनुमानित 3,000 डॉल्फ़िन आबादी का लगभग आधा हिस्सा है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

2 + 0 =
Post

Comments