Search

बजट 2019: मुख्य बातें

परंपरा के मुताबिक, चुनाव के बाद आने वाली सरकार ही पूर्ण बजट पेश करेगी. ऐसी उम्मीद है कि सरकार अंतरिम बजट में किसानों और युवाओं के लिए कई बड़े ऐलान कर सकती है.

Feb 1, 2019 09:37 IST

केंद्र सरकार 01 फरवरी 2019 को संसद में अंतरिम बजट पेश करने जा रही है. लोकसभा में अरुण जेटली के स्थान पर वित्त मंत्रालय संभाल रहे पीयूष गोयल इस बार बजट पेश करेंगे. भारतीय संविधान के प्रावधानों के अनुसार परंपरा के मुताबिक, चुनाव के बाद आने वाली सरकार ही पूर्ण बजट पेश करेगी. ऐसी उम्मीद है कि सरकार अंतरिम बजट में किसानों और युवाओं के लिए कई बड़े ऐलान कर सकती है.

•    1 फरवरी 2019 को 11 बजे अंतरिम वित्तमंत्री पीयूष गोयल बजट 2019 पेश लोकसभा में पेश करेंगे.

•    आजादी के बाद देश में अब तक 14 बार अंतरिम बजट पेश हो चुका है. आज 15वीं बार देश में अतंरिम बजट पेश होगा.

•    इसे लेखानुदान बजट भी कहा जाता है जिसके तहत एक सीमीत समय के लिए जरूरी खर्चे के लिए बजट पेश कर ती है.

•    एनडीए सरकार की तरफ से अंतिम बार 2004 में जसवंत सिंह ने बजट पेश किया था.

•    अंतरिम बजट के बाद चुनाव होने होते हैं, इसलिए सरकार इस बजट को लोक लुभावन माना जाता है.

•    यूपीए-2 की ओर से वर्ष 2014 में अंतरिम बजट पेश किया गया था. इस बजट में तत्कालीन वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने महिलाओं से लेकर मध्यवर्ग और सैनिकों तक के लिए कई घोषणाएं की थीं.

•    वहीं यूपीए-1 के तत्कालीन वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी ने 2009 में अंतरिम बजट पेश किया था. इस बजट में फ्लैगशिप योजनाओं जैसे मनरेगा आदि का ऐलान किया गया था.

अंतरिम बजट क्या होता है?

•    अंतरिम बजट चुनावी वर्ष में एक प्रकार की आर्थिक व्यवस्था है जिसके तहत सरकार बनने तक सरकारी खर्चों का इंतजाम करने की औपचारिकता पूरी की जाती है.

•    नई सरकार बनाने के लिए जो समय होता है, उस अवधि के लिए अंतरिम बजट संसद में पेश किया जाता है.

•    इस बजट में कोई भी ऐसा फैसला नहीं किया जाता है जिसमें ऐसे नीतिगत फैसले हों जिसके लिए संसद की मंजूरी लेनी पड़े या फिर कानून में संशोधन की जरूरत हो.

 

बजट 2019: जानें कैसे पेश होता है बजट