Search

डेली करेंट अफेयर्स डाइजेस्ट: 30 अप्रैल 2019

जागरणजोश.कॉम पाठकों की सुविधा हेतु प्रतिदिन के करेंट अफेयर्स से सम्बंधित जानकारी को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत कर रहा है.

Apr 30, 2019 18:22 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

जागरणजोश.कॉम पाठकों की सुविधा हेतु प्रतिदिन के करेंट अफेयर्स से सम्बंधित जानकारी को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत कर रहा है.

श्रीलंका ने धमाकों के बाद लगे सोशल मीडिया पर प्रतिबंध को हटाया

श्रीलंका ने ईस्टर के मौके पर हुए सिलसिलेवार धमाके के बाद अफवाह फैलने से रोकने के लिए सोशल मीडिया पर लगाए गए प्रतिबंध को अब हटा लिया है. हालांकि, सुरक्षा के इंतज़ाम अब भी पुख्ता हैं. गौरतलब है कि धमाकों में रिपोर्ट्स के अनुसार करीब 250 लोग मारे गए थे जिनमें से लगभग 42 विदेशी नागरिक थे.

बता दें कि बम विस्फोटों के तुरंत बाद, अधिकारियों ने देश में आपातकाल की घोषणा कर दी और सोशल मीडिया सेवाओं जैसें फेसबुक, व्हाट्सएप, वाइबर और स्नैपचैट मैसेजिंग ऐप को ब्लॉक कर दिया गया.

नक्सल-रोधी अभियानों में 1,125 जवान हुए शहीद: गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि साल 2009 से जनवरी 2019 तक नक्सल-रोधी अभियानों में सुरक्षाबलों के 1,125 जवान शहीद हुए. सबसे ज़्यादा 287 जवान 2009 में और 2015 में सबसे कम 34 जवान शहीद हुए. इससे पहले, मंत्रालय ने एक आरटीआई के जवाब में बताया था कि साल 2010 से 1,190 वामपंथी उग्रवादी मार गिराए गए.

आरटीआई के अनुसार साल 2011 में 112, साल 2012 में 108, साल 2013 में 93, साल 2014 में 81, साल 2015 में 34, साल 2016 में 40, साल 2017 में 56 और साल 2018 में 52 सुरक्षा कर्मियों की जान गई. इस वर्ष जनवरी अंत तक किसी भी सुरक्षा कर्मी की जान नक्सल विरोधी अभियान में नहीं गई थी.

अकिहितो 200 साल में सिंहासन छोड़ने वाले पहले जापानी सम्राट

जापान के सम्राट अकिहितो ने 30 अप्रैल 2019 को सिंहासन छोड़ दिया और पिछले 200 साल में ऐसा करने वाले वह पहले जापानी सम्राट हैं. अकिहितो ने अपनी बढ़ती उम्र और खराब स्वास्थ्य के कारण ज़िम्मेदारियों का ठीक से निर्वहन नहीं करने की बात कहते हुए सिंहासन छोड़ा है. अकिहितो के बाद राजकुमार नारुहितो इस सिंहासन पर बैठेंगे. नारुहितो सम्राट अकिहितो के सबसे बड़े बेटे हैं. जापान के 126वें सम्राट के तौर पर उनकी ताजपोशी 01 मई 2019 को होगी. उन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है.

दो सदी में राजगद्दी छोड़ने वाले पहले सम्राट करीब 200 साल में पहली बार ऐसा हुआ जब दुनिया के सबसे पुराने शाही परिवार में कोई सेवानिवृत्त हुआ. अकिहितो ने अपनी इच्छा से राजगद्दी का त्याग किया है. उन्‍होंने साल 2016 में गद्दी छोड़ने के संकेत दिए थे. जापान में सम्राट अकिहितो के गद्दी छोड़ने को लेकर शाही महल में औपचारिक आयोजन किया गया.

भारत के 2018-19 घरेलू सत्र में 2000 से अधिक मैच खेले गये

भारत के 2018-19 घरेलू सत्र में 2000 से अधिक मैचों का आयोजन किया गया और इसका अंत रांची में महिला अंडर 23 चैलेंजर ट्राफी फाइनल के साथ हुआ. इंडियन प्रीमियर लीग के 12 मई को हैदराबाद में होने वाले फाइनल के साथ भारत के 2018-19 क्रिकेट सत्र का औपचारिक अंत होगा. भारत घरेलू सत्र में पहली बार 37 टीमों के बीच 2024 मैच खेले गए जिसमें 3444 मैच दिन शामिल हैं. इससे पहले 2017-18 सत्र में 28 टीमों के बीच 1032 मैच खेले गए थे जिसमें 1892.5 मैच दिन शामिल हैं.

बीसीसीआई की विज्ञप्ति के अनुसार मैच के दिनों में 81 प्रतिशत का इजाफा हुआ जबकि इस दौरान सत्र की विंडो में सिर्फ 21 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई. सत्र के दौरान 13015 खिलाड़ियों ने पंजीकरण के लिए आवेदन किया जबकि 6471 खिलाड़ियों ने साल 2018-19 सत्र में हिस्सा लिया. विज्ञप्ति के अनुसार बीसीसीआई ने इस दौरान 170 वीडियो विश्लेषकों और इतने ही स्कोरर की सेवाएं भी ली जिन्होंने सुनिश्चित किया कि आधिकारिक वेबसाइट पर प्रत्येक मैच की लाइव स्कोरिंग हो.

भारतीय मुक्केबाजी लीग लांच करने की घोषणा

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने 30 अप्रैल 2019 को घोषणा की कि भारतीय मुक्केबाजों के लिए फ्रेंचाइजी आधारित लीग इस साल जुलाई-अगस्त में शुरू हो सकती है. इस लीग को शुरू करने पर साल 2017 से काम चल रहा है. बीएफआई ने साल 2017 में पेशेवर शैली की लीग के व्यावसायिक और आयोजन अधिकार के लिए निविदा जारी की थी.

इस लीग का अधिकार रखने वाली दिल्ली की खेल प्रबंधन कंपनी स्पोर्ट्सलाइव के प्रबंध निदेशक अतुल पांडे ने कहा की हम चुनाव खत्म होने के बाद इसके आयोजन का प्रयास कर रहे हैं. स्पोर्ट्सलाइव पहले ही प्रीमियर बैडमिंटन लीग का आयोजन कर रहा है. टूर्नामेंट में हाल में एशियाई चैंपियन बने अमित पंघाल, शिव थापा और अनुभवी एस सरिता देवी जैसे भारतीय मुक्केबाज विदेशी मुक्केबाजों के साथ मिलकर चुनौती पेश करेंगे.

अमित पंघाल और गौरव बिधूड़ी अर्जुन पुरस्कार हेतु नामित

एशियाई खेल और एशियाई चैंपियनशिप के स्वर्ण पदक विजेता अमित पंघाल और विश्व चैंपियनशिप 2017 के कांस्य पदक विजेता गौरव बिधूड़ी को 30 मार्च 2019 को भारतीय मुक्केबाजी महासंघ ने अर्जुन पुरस्कार के लिये नामित किया. अमित ने जकार्ता में एशियाई खेलों में 49 किग्रा में उज्बेकिस्तान के मौजूदा ओलंपिक चैंपियन हसनबाय दुसमातोव को हराकर स्वर्ण पदक जीता था.

अर्जुन पुरस्कार के लिये अमित के नाम की सिफारिश साल 2018 में भी की गयी थी. अमित के नाम पर हालांकि विचार नहीं किया गया था क्योंकि वह साल 2012 में डोप परीक्षण में नाकाम रहे थे. इसके लिये उन पर एक साल का प्रतिबंध भी लगा था. बिधूड़ी का नाम भी दोबारा भेजा गया है. हाल में राष्ट्रीय चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाले बिधूड़ी हैम्बर्ग में 2017 विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय थे.

Download our Current Affairs& GK app from Play Store/For Latest Current Affairs & GK, Click here