Search

इजराइल और यूएई के बीच हुआ ऐतिहासिक शांति समझौता, जानें विस्तार से

इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के संबंधों के इतिहास में एक बड़ा मोड़ आया है. दोनों देशों में रिश्तों को सामान्य करने के लिए सहमति बन गई है.

Aug 14, 2020 11:06 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सहायता से इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बीच 13 अगस्त 2020 को ऐतिहासिक शांति समझौता किया गया. दोनों देशों के बीच कई सालों से चल रही दुश्मनी नए समझौते के साथ ही महत्वपूर्ण हो गई. नए समझौते के तहत अब दोनों देश एक दूसरे के साथ राजनयिक संबंधो की नई बुनियाद रखेंगे.

इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के संबंधों के इतिहास में एक बड़ा मोड़ आया है. दोनों देशों में रिश्तों को सामान्य करने के लिए सहमति बन गई है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर इस एतिहासिक समझौते की घोषणा की है.

पहला खाड़ी देश

इस समझौते के तहत इजरायल ने फिलिस्तीन के वेस्ट बैंक इलाके में अपनी दावेदारी छोड़ने को तैयार हो गया है. वहीं, यूएई, इजरायल से पूर्ण राजनयिक संबंध बहाल करने को राजी हो गया. ऐसा करने वाला वह पहला खाड़ी देश बन गया है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने क्या कहा?

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ओवल ऑफिस से कहा कि 49 वर्षों के बाद, इजरायल और संयुक्त अरब अमीरात अपने राजनयिक संबंधों को पूरी तरह से सामान्य करेंगे. व्हाइट हाउस द्वारा जारी संयुक्त बयान में तीनों देशों का कहना है कि यह ऐतिहासिक राजनयिक सफलता मध्य पूर्व क्षेत्र में शांति को आगे बढ़ाएगी.

आर्थिक विकास में तेजी

राष्ट्रपति ट्रंप, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और अबू धाबी क्राउन प्रिंस ने संयुक्त बयान में कहा कि मध्य पूर्व के दो सबसे गतिशील समाजों और उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के बीच सीधे संबंध खुलने से आर्थिक विकास में तेजी आएगी, तकनीकी नवाचार बढ़ेगा और लोगों से करीबी लोगों के बीच संबंध बढ़ेगा.

राष्ट्रपति ट्रंप का महत्वपूर्ण योगदान

इस समझौते को अंतिम मुकाम तक पहुंचाने में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का अहम योगदान रहा है. समझौते के तहत इजरायल और संयुक्त अरब अमीरात के प्रतिनिधिमंडल आने वाले हफ्तों में निवेश, पर्यटन, सीधी उड़ान, सुरक्षा, दूरसंचार और अन्य मुद्दों पर द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे.

यूएई अरब राष्ट्रों में तीसरा देश होगा

यूएई अरब राष्ट्रों में इजरायल से राजनयिक संबंध शुरू करने वाला तीसरा देश होगा. अभी केवल मिस्र और जॉर्डन के इजरायल के साथ राजनयिक संबंध हैं. मिस्र ने साल 1979 में इजरायल के साथ एक शांति समझौता किया, उसके बाद साल 1994 में जॉर्डन के साथ हुआ था.