Search

जी-20 शिखर सम्मेलन: जापान में मिले पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप, राष्ट्रपति बोले-हम मिलकर काम करेंगे

ओसाका में जी-20 बैठक से पहले ब्रिक्स नेताओं की बैठक हुई जिसमें चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिस्सा लिया. जापान के शहर ओसाका में जी-20 की बैठक चल रही है.

Jun 28, 2019 14:44 IST

जापान के ओसाका में जी-20 (G-20) शिखर सम्मेलन से पहले 28 जून 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच बातचीत हुई. दोनों नेताओं के बीच बातचीत के मुख्य मुद्दे ईरान, 5जी, द्विपक्षीय संबंध, रक्षा और व्यापार आदि रहे. ओसाका आने से पहले डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी उत्पादों पर भारत द्वारा लगाए गए टैरिफ को लेकर नाखुशी जाहिर की थी. इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी, राष्ट्रपति ट्रंप और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच मुलाकात हुई थी. इन तीनों के बीच करीब 20 मिनट तक बातचीत हुई थी. राष्ट्रपति ट्रंप ने इस मौके पर पीएम मोदी को लोकसभा चुनावों में जीत के लिए बधाई भी दी.

जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 27 जून 2019 को जापान के ओसाका पहुचें थे. पीएम मोदी जी 20 सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन से लेकर आतंकवाद और प्रमुख वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा कर सकते हैं. वह इस सम्मेलन के दौरान महत्वपूर्ण बहुपक्षीय बैठकों में हिस्सा लेने के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समेत दुनिया के प्रमुख नेताओं से भी मिलेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह छठा जी-20 शिखर सम्मेलन है. जापान के ओसाका शहर में 28-29 जून को इस शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है. प्रधानमंत्री मोदी अगले तीन दिनों तक, वैश्विक मंच पर भारत के नजरिए को रखने के लिये कई द्विपक्षीय और बहुपक्षीय चर्चाओं का हिस्सा होंगे. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि महिला सशक्तीकरण, डिजिटलाइजेशन और जलवायु परिवर्तन जैसी प्रमुख वैश्विक चुनौतियों का समाधान हमारी इस बैठक का मुख्य मुद्दा होगा.

राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान के मुद्दे पर कहा की हमारे पास काफी समय है, कोई जल्दी नहीं है. वे समय ले सकते हैं. समय को लेकर कोई दबाव नहीं है. मुझे विश्वास है कि अंत में सब सही हो जाएगा.

पीएम मोदी सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस से मिले

जी-20 समिट में शिरकत कर रहे पीएम मोदी ने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात की. इस दौरान दोनों नेताओं ने कई मुद्दों पर बातचीत की. ऊर्जा, व्यापार, सुरक्षा, आतंकवाद सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई.

प्रधानमंत्री शिंजो आबे से भी मुलाकात

पीएम मोदी जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से भी मुलाकात किये. इसमें आपसी कारोबार समेत तमाम मुद्दों पर बातचीत हुई. अपनी सरकार की दूसरी पारी में पीएम मोदी का ये पहला बड़ा कूटनीतिक दौरा है. प्रधानमंत्री अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ भी मुलाकात किये. इसके अतिरिक्त ब्रिक्स देशों के राष्ट्र प्रमुखों की बैठक भी होनी तय है.

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें!

जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान

जापान के ओसाका में होने जा रहे जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी जिन देशों के साथ दस द्विपक्षीय वार्ता करेंगे वो फ्रांस, जापान, इंडोनेशिया, अमेरिका और तुर्की हैं. इसके साथ ही, ब्रिक्स यानि ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका और रिक अर्थात रूस-चीन-भारत के नेताओं के बीच बैठक होगी.

यह भी पढ़ें: निर्मला सीतारमण ब्रिटेन-भारत के रिश्तों को आगे बढ़ाने वाली 100 प्रभावशाली महिलाओं की सूची में शामिल

क्यों खास है जी-20

वैश्विक मंच होने की वजह से यहां पर उठने वाले सभी मुद्दे महत्वपूर्ण अहमियत रखते हैं. यह मंच अमेरिका के लिए इसलिए बेहद खास है क्‍योंकि यहां से उठी आवाज सभी देशों के लिए होती है. अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप यहां पर जो कुछ भी कहेंगे वह दूसरे देशों के लिए स्‍पष्‍ट इशारा होगा.

जी 20 की मेजबानी

जी-20 शिखर सम्मेलन इस बार जापान के ओसाका में हो रहा है. जी-20 सम्मेलन का यह चौदहवां संस्करण है. इस साल शिखर सम्मेलन 28 जून से 29 जून 2019 तक ओसाका में अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी केंद्र में आयोजित किया जा रहा है. बता दें कि यह जापान में आयोजित होने वाला पहला जी-20 शिखर सम्मेलन है.

जी-20 शिखर सम्मेलन क्या है और शामिल देश?

जी-20 सदस्यों में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, यूरोपियन यूनियन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, साउथ अफ्रीका, साउथ कोरिया, तुर्की, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल है. जी-20 में विश्व का 80 प्रतिशत व्यापार, दो-तिहाई जनसंख्या और दुनिया का करीब आधा हिस्सा शामिल है.

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने ‘चमकी बुखार’ पर केंद्र और बिहार सरकार को नोटिस जारी किया, सात दिन में मांगा जवाब

यह भी पढ़ें: 44 साल पहले आज के दिन ही लगी थी इमरजेंसी, जानिए किसने क्या कहा?

For Latest Current Affairs & GK, Click here