Search

केंद्र सरकार ने बिजली समस्या से निपटने हेतु PRAKASH पोर्टल लॉन्च किया

इस पोर्टल के तहत खदानों पर कोयले की उपलब्धता की स्थिति क्या है, बिजली उतपादक कंपनियों के पास कितना कोयला है तथा बिजली संयंत्रों के पास कब तक कोयला पहुंचेगा इसकी सटीक जानकारी मिल सकेगी.

Oct 5, 2019 11:55 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राज कुमार सिंह और कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने संयुक्त रूप से बिजली समस्या से निपटने हेतु 'PRAKASH' पोर्टल लॉन्च किया है. सरकार ने बिजलीघरों को कोयले की अच्छे उपलब्धता को लेकर सभी संबद्ध पक्षों के बीच अच्छे तालमेल हेतु पोर्टल जारी किया है.

PRAKASH पोर्टल खदानों से लेकर ढुलाई तथा बिजली घरों तक में कोयले की उपलब्धता के बारे में सही जानकारी देगा. सरकार उम्मीद कर रही है कि यह परियोजना थर्मल पावर प्लांटों में कोयले की आपूर्ति की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करेगी.

बिजली उत्पादक कंपनियों को पोर्टल पर मौजूद रियल टाइम डेटा के कारण से संबंधित जगह बिजली भेजने हेतु वहां के पास वाले प्लांट से बिजली देने का विकल्प चुनने में आसानी होगी. इस पोर्टल के द्वारा घरों में पीछे से चले आ रहे तकनीकी कारण से बार-बार बिजली गुल होने की समस्या से भी राहत मिलेगी.

PRAKASH पोर्टल के बारे में

• सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली कंपनी एनटीपीसी द्वारा PRAKASH पोर्टल तैयार किया गया है.

• PRAKASH का फुलफॉर्म 'Power Rail Koyla Availibility through Supply Harmony है.

• इस पोर्टल के तहत खदानों पर कोयले की उपलब्धता की स्थिति क्या है, बिजली उतपादक कंपनियों के पास कितना कोयला है तथा बिजली संयंत्रों के पास कब तक कोयला पहुंचेगा इसकी सटीक जानकारी मिल सकेगी.

• इस पोर्टल के जरिये कोयला कंपनियां बिजली घरों में ईंधन भंडार तथा कोयला जरूरतों पर नजर रख सकेंगी.

भारत में टॉप 10 थर्मल पावर प्लांट

थर्मल पावर प्लांट का नाम

राज्य

क्षमता

मुंद्रा थर्मल पावर स्टेशन

गुजरात

4620 मेगावाट

विंध्याचल थर्मल पावर स्टेशन

मध्य प्रदेश

4260 मेगावाट

मुंद्रा अल्ट्रा मेगा पावर प्लांट

गुजरात

4150 मेगावाट

केएसके महानदी पावर प्रोजेक्ट

छत्तीसगढ़

3600 मेगावाट

जिंदल तमनार थर्मल पावर प्लांट

छत्तीसगढ़

3400 मेगावाट

टिरोदा थर्मल पावर स्टेशन

महाराष्ट्र

3300 मेगावाट

बरह सुपर थर्मल पावर स्टेशन

बिहार

3300 मेगावाट

तालचर सुपर थर्मल पावर स्टेशन

ओडिशा

3000 मेगावाट

सीपत थर्मल पावर प्लांट

छत्तीसगढ़

2980 मेगावाट

एनटीपीसी दादरी

उत्तर प्रदेश

2637 मेगावाट

कोयले की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका थर्मल पावर बनाने में होती है. कोयला मंत्रालय का काम कोयला की सप्लाई का देख-रेख करना है. रेलवे का काम कोयले की ढुलाई की देख रेख करना है. ऊर्जा मंत्रालय का काम बिजली बनाने का है. कभी-कभी कोयले की कमी के कारण से पावर प्लांट में ऐसी समस्या आ जाती है कि कोयले का बहुत ही कम दिन का स्टॉक बचता है. इससे बिजली उत्पादन में कमी आती है. इसी कमी को दूर करने के लिए PRAKASH पोर्टल को लॉन्च किया गया है.

यह भी पढ़ें:RBI ने रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की, होम लोन हो सकता है सस्ता

PRAKASH पोर्टल का महत्व

• यह पोर्टल बिजली संयंत्रों हेतु कोयला आपूर्ति श्रृंखला की मैपिंग के लिए बनाया गया है.

• PRAKASH पोर्टल खदान में कोयले के स्टॉक, कोयले की मात्रा तथा बिजली स्टेशन में कोयले की उपलब्धता के बारे में सही जानकारी प्रदान करेगा.

यह भी पढ़ें:Tejas Express: मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस को दिखाई हरी झंडी, जाने इसके बारे में सबकुछ

यह भी पढ़ें:Kartarpur corridor: मनमोहन सिंह ने करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन समारोह में शामिल होने का निमंत्रण स्वीकार किया

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी,अभी डाउनलोड करें| Android|IOS

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS