Search

अफ्रीकी देशों की रक्षा जरूरतों को पूरा करेगा भारत: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

अफ्रीकी देशों से सामरिक सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ भारत वहां अपने रक्षा उत्पादों हेतु नया बाजार भी तलाश रहा है. सम्मेलन में 12 अफ्रीकी देशों के रक्षा मंत्रियों तथा 38 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया.

Feb 7, 2020 10:52 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 06 फरवरी 2020 को कहा कि भारत अफ्रीकी देशों के साथ रक्षा क्षेत्र में संबंधों को नया आयाम देते हुए उनकी जरूरत के अनुसार आधुनिक हथियार तथा सैन्य साजो सामान देने हेतु तैयार है. रक्षा सहयोग पर सम्मेलन में भारत-अफ्रीका घोषणापत्र को भी मंजूर किया गया.

रक्षा मंत्री ने डिफेंस एकस्पो 2020 (DefExpo 2020) में पहली इंडिया-अफ्रीका डिफेंस कॉन्क्लेव को संबोधित करते हुए इस बात के साफ संकेत दिये कि भारत अफ्रीकी देशों के साथ रक्षा सौदो को लेकर आगे बढने हेतु पूरी तरह से तैयार है. भारत, अफ्रीकी देशों का हर वक्त में साथ देने वाला देश है तथा वे उनके साथ खुले मन से साझेदारी का इच्छुक हैं.

अफ्रीकी देशों से सामरिक सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ भारत वहां अपने रक्षा उत्पादों हेतु नया बाजार भी तलाश रहा है. सम्मेलन में 12 अफ्रीकी देशों के रक्षा मंत्रियों तथा 38 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. इस मौके पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव अजय कुमार और कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे.

इससे संबंधित मुख्य तथ्य

• रक्षा मंत्री की इस घोषणा को सरकार की देश को आने वाले समय में रक्षा विनिर्माण के हब के रूप में स्थापित करने और उसे हथियारों का निर्यातक बनाने की दिशा में अहम कदम माना जा रहा है.

• प्रत्येक दो साल में होने वाली प्रदर्शनी में भारत-अफ्रीका सम्मेलन का आयोजन पहली बार इस उद्देश्य को ध्यान में रखकर किया गया है.

• रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अफ्रीकी रक्षा मंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत उनके साथ संबंधों को मजबूत बनाने हेतु कदम उठाता रहेगा.

यह भी पढ़ें:न्यूक्लियर एनर्जी कॉन्क्लेव 2019 का आयोजन किया गया

• रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत अफ्रीकी देशों को गश्ती पोत, इंटरसेप्टर बोट, बख्तरबंद वाहन, नाइट विज़न गॉगल्स, मानव रहित यान, डॉर्नियर विमान, हथियार तथा गोला बारूद देने को तैयार है.

• रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा भारत औऱ अफ्रीका दोनों के हितों से जुड़ी हुई है तथा भारत इसे लेकर गंभीर है एवं ठोस कदम उठा रहा है.

• भारत और अफ्रीका के मध्य समझौतों की बुनियाद में अफ्रीकी देशों की आवश्यकताएं होंगी. भारत आतंकवाद से निपटने, उग्रवाद से लड़ने एवं साइबर स्पेस को सुरक्षित बनाने तथा विश्व शांति कायम करने में भी हर संभव मदद देगा.

यह भी पढ़ें:भारत और बांग्लादेश के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘SAMPRITI-IX’ मेघालय में शुरू

यह भी पढ़ें:भारतीय नौसेना ने मेडागास्कर में ऑपरेशन ‘वनीला’ की शुरूआत की