भारतीय सेना में शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम किया गया शामिल

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने 02 जुलाई, 2021 को भारतीय सेना में 12 शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम की पहली खेप को शामिल किया है. यहां पढ़ें सारी जरुरी जानकारी.

Created On: Jul 3, 2021 13:37 ISTModified On: Jul 3, 2021 13:38 IST

02 जुलाई, 2021 को सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने दिल्ली कैंट के करियप्पा परेड ग्राउंड में आयोजित एक समारोह के दौरान भारतीय सेना में 12 शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम की पहली खेप को शामिल किया है. कुल 100 ऐसे सिस्टम्स को अगले दो वर्षों में भारतीय सेना में शामिल किया जाएगा.

इस अवसर पर DRDO के अध्यक्ष और रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव डॉ. जी. सतीश रेड्डी उपस्थित थे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस प्रणाली को भारतीय सेना में सफलतापूर्वक शामिल करने पर भारतीय सेना, DRDO और उद्योग जगत को बधाई दी है.

यह शॉर्ट स्पैन ब्रिज पूरी तरह से मेड इन इंडिया है. इसका उत्पादन L&T द्वारा किया गया है और DRDO द्वारा इस सिस्टम को डिजाइन किया गया है. यह आत्मानिर्भर भारत की ओर एक और कदम है. यह पुल भारतीय सेना की क्षमता को बढ़ाएगा.

शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम के बारे में


• 'मेक इन इंडिया' अभियान के एक हिस्से के रूप में, ये शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम पश्चिमी सीमाओं के साथ संचालन के मामले में नहरों और छोटी नदियों जैसी भौगोलिक बाधाओं को दूर करने के लिए भारतीय सेना के सैनिकों की सहायता करेगा.

शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम: लागत और विकास


• 492 करोड़ रुपये की लागत वाला यह शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम प्रोजेक्ट DRDO और भारतीय सेना के इंजीनियरों द्वारा डिजाइन किया गया है और लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड द्वारा इसे निर्मित किया गया है.
• इस सिस्टम में टाट्रा 8x8 री-इंजीनियर्ड चेसिस पर SSBS-10m के दो प्रोटोटाइप और टाट्रा 6x6 चेसिस पर SSBS-5m के दो प्रोटोटाइप का विकास शामिल था.

भारतीय सेना को शॉर्ट स्पैन ब्रिजिंग सिस्टम से कैसे होगा फायदा?

• यह SSBS-10m 9.5m तक की दूरी को पाटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और इस प्रकार सैनिकों की तेजी से आवाजाही को सक्षम करेगा. अब तक भारतीय सेना के पास ऐसे ब्रिजिंग सिस्टम थे जो 5 मीटर चौड़े और 15 मीटर लंबे थे.
• यह सिस्टम विभिन्न प्रकार की जल बाधाओं पर 70 टन तक के टैंक ले जा सकता है. इस सिस्टम को 04 सैनिकों के साथ 08 से 10 मिनट के भीतर काम पर लॉन्च किया जा सकता है.
• इस नए शामिल किए गए ब्रिजिंग सिस्टम की अनूठी विशेषताओं में से एक, मौजूदा ब्रिजिंग सिस्टम के साथ इसकी संगतता है जो पश्चिमी सीमाओं के साथ, पानी की किसी भी किस्म की बाधाओं के माध्यम से नेविगेट करने की इसकी क्षमता को बढ़ाता है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

4 + 8 =
Post

Comments