Search

‘नो फर्स्ट यूज’ परमाणु नीति में बदलाव हो सकती है: रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री ने कहा कि परमाणु हथियारों के इस्तेमाल पर भारत अपने 'नो फर्स्ट यूज' सिद्धांत पर पूरी तरह प्रतिबद्ध है लेकिन भविष्य में क्या होगा यह समय पर निर्भर करेगा. यह महत्वपूर्ण बयान रक्षा मंत्री ने पोखरण में दिया.

Aug 17, 2019 10:00 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 16 अगस्त 2019 को राजस्थान के पोखरण में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की प्रथम पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है. रक्षा मंत्री ने परमाणु हथियारों के इस्तेमाल पर भारत के 'नो फर्स्ट यूज' सिद्धांत में बदलाव के संकेत दिए.

रक्षा मंत्री ने कहा कि परमाणु हथियारों के इस्तेमाल पर भारत अपने 'नो फर्स्ट यूज' सिद्धांत पर पूरी तरह प्रतिबद्ध है लेकिन भविष्य में क्या होगा यह समय पर निर्भर करेगा. यह महत्वपूर्ण बयान रक्षा मंत्री ने पोखरण में दिया. रक्षा मंत्री ने कहा कि पोखरण वह जगह है जो अटल बिहारी वाजपेयी के दृढ़ निर्णय का गवाह बना.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा किया गया ट्वीट

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट में लिखा की पोखरण वह जगह है जो अटल जी के परमाणु शक्ति बनने के दृढ़ संकल्प का गवाह बना था. यह नियम अभी भी हम 'नो फर्स्ट यूज’ के सिद्धांत को लेकर प्रतिबद्ध हैं. भारत इस सिद्धांत का पालन करता है. यह नियम भविष्य में क्या होता है समय पर निर्भर करता है.

नो फर्स्ट यूज़ क्या है?

नो फर्स्ट यूज़ (No first use) का मतलब है तब तक न्यूक्लियर हथियार का इस्तेमाल न करना जब तक विराधी पहले इससे हमला न करे. भारत ने साल 1998 में दूसरे परमाणु परीक्षण के बाद इस सिद्धांत को अपनाया था. भारत सरकार ने अगस्त 1999 में सिद्धांत का एक मसौदा जारी किया था.

बता दें कि भारत ने मई 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री रहते हुए पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था. भारत सरकार ने कहा कि परमाणु हथियार केवल निरोध के लिए हैं और भारत केवल प्रतिशोध की नीति अपनाएगा. दस्तावेज में यह भी कहा गया है कि भारत कभी खुद पहल नहीं करेगा लेकिन अगर कोई ऐसा करेगा तो फिर प्रतिशोध के साथ प्रतिक्रिया देगा.

पिछली दलीलें

लगभग तीन साल पहले, नवंबर 2016 में तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी भारत की परमाणु हथियार पहले इस्तेमाल न करने की नीति पर आपत्ति जताई थी. मनोहर पर्रिकर ने पूछा था कि भारत को पहले इस्तेमाल की नीति के लिए क्यों बाध्य होना चाहिए. उसके बाद, रणनीतिक बलों की कमान के पूर्व कमांडर-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल बीएस नागपाल ने कहा था कि ‘नो फर्स्ट यूज’ पॉलिसी आपदा का एक फार्मूला है.

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 'जल जीवन मिशन' का घोषणा किया

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी |अभी डाउनलोड करें|IOS

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS