Search

भारत और रूस के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास: इंद्र-2017

इस अभ्यास में भारतीय थलसेना से 350, वायुसेना के 80 सैनिक, दो आईएल 76 विमान तथा और नौसेना से एक-एक फ्रिगेट और कोरवेट शामिल होंगे जबकि रूस की ओर से इस अभ्यास में करीब 1000 सैनिक भाग लेंगे.

Oct 18, 2017 14:00 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

भारत और रूस 19 अक्टूबर 2017 से रक्षा सहयोग को बढ़ावा देते हुए रूस में संयुक्त आतंकवाद निरोधक सैन्य अभ्यास करेंगे जो देश के बाहर तीनों सेनाओं की होने वाली पहली ऐसी कवायद होगी.

भारत और रूस के बीच पहली बार तीनों सेनाओं का संयुक्त अभ्यास आयोजित किया जा रहा है. आगामी 19 अक्टूबर से 249वीं कंबाइन्ड आर्मी रेंज सर्गीविस्की में और व्लादिवोस्तक के पास जापान सागर में 11 दिवसीय ‘इंद्र-2017’ अभ्यास किया जाएगा. हालांकि ये अभ्यास 19 अक्टूबर से 29 अक्टूबर 2017 तक चलेगा.

चीन ने स्टेल्थ जे-20 जेट को वायुसेना में शामिल किया

इसमें भारतीय थलसेना से 350, वायुसेना के 80 सैनिक, दो आईएल 76 विमान तथा और नौसेना से एक-एक फ्रिगेट और कोरवेट शामिल होंगे जबकि रूस की ओर से इस अभ्यास में करीब 1000 सैनिक भाग लेंगे. भारत के रूस के साथ उत्कृष्ट रक्षा संबंध हैं और हमारा देश इस तरह के अभ्यास के लिए स्वाभाविक साझोदार है.

CA eBook


इंद्र एक्सरसाइज यूएन चार्टर के तहत की जा रही है, जिसका मकसद काउंटर-टेरेरिज्म है. भारत अभी तक इस तरह के साझा काउंटर टेरेरिज्म एक्सरसाइज के लिए थलसेना का ही इस्तेमाल करता था. लेकिन अब इसमें वायुसेना और नौसेना का भी साथ लिया जा रहा है. क्योंकि आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ रूस और अमेरिका जैसे देश वायुसेना और नौसेना का भी इस्तेमाल कर रहा है. यह अभ्यास दोनों देशों के सशस्त्र बलों को तीनों सेनाओं के संयुक्त अभियान में प्रशिक्षण का मौका देगा.

विस्तृत हिंदी करेंट अफेयर्स के लिए यहां क्लिक करें

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS