Search

ईरान ने 53 अरब बैरल के नये तेल भंडार की खोज की

इस नए तेल क्षेत्र की खोज के बाद ईरान के प्रामाणिक तेल भंडारों में लगभग 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जायेगी. हालांकि, ईरान के लिए अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच तेल की बिक्री करना मुश्किल हो गया है.

Nov 12, 2019 09:33 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

ईरान के दक्षिणी हिस्से में हाल ही में कच्चे तेल का एक नया भंडार मिला है. ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने 10 नवंबर 2019 को बताया कि उनके देश में लगभग 50 अरब बैरल के कच्चे तेल के भंडार की खोज की गई है.

इस नए तेल क्षेत्र की खोज के बाद ईरान के प्रामाणिक तेल भंडारों में लगभग 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जायेगी. हालांकि, ईरान के लिए अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच तेल की बिक्री करना मुश्किल हो गया है.

अमेरिका ने साल 2018 में ईरान के साथ न्यूक्लियर डील को रद्द करके उस पर तमाम प्रतिबंध थोप दिए थे. इसके बाद से ईरान के सामने तेल बेचने की चुनौती पैदा हो गई है. यह ऑयल फील्ड ईरान के दक्षिणी कुजेस्तान प्रांत में स्थित है. इसे ऑयल इंडस्ट्री के लिए बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है.

नये तेल भंडार 2,400 वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला है. यह क्षेत्र लगभग 200 किलोमीटर की दूरी में 80 मीटर गहराई तक फैले हैं. ईरान की स्थापित कच्चा तेल भंडार क्षमता अब 155.6 अरब बैरल होने का अनुमान है.

ईरान के पास विश्व का चौथा सबसे बड़ा तेल भंडार है तथा प्राकृतिक गैस का दूसरा सबसे बड़ा भंडार भी इसी देश के पास है. ईरान विश्व के सबसे बड़े तेल उत्पादकों में से एक है, जिसका प्रत्येक साल अरबों डॉलर का निर्यात होता है.

वैश्विक शक्तियों के साथ अपने परमाणु कार्यक्रम को लेकर किसी डील पर पहुंचने में विफल रहने के बाद अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते ईरान का ऊर्जा उद्योग बहुत बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

यह भी पढ़ें:भारत-उज्बेकिस्तान के बीच सैन्य संबंधों को बढ़ाने हेतु तीन समझौतों पर हस्ताक्षर

पृष्ठभूमि

ईरान से तेल खरीदने वाली कोई भी कंपनी या सरकार को अमेरिकी प्रतिबंधों का डर है जिसके कारण से ईरान की अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है तथा ईरान की मुद्रा रियाल में तेजी से गिरावट आई है. न्यूक्लियर समझौता रद्द होने के बाद से ईरान अपना परमाणु कार्यक्रम बढ़ाने की ओर आगे बढ़ रहा है. ईरान ने एक भूमिगत सुविधा (अंडरग्राउंड फैसिलिटी) में यूरेनियम भंडार इकठ्ठा करना भी शुरू कर दिया है.

यह भी पढ़ें:भारत और जर्मनी ने 17 एमओयू और पांच संयुक्त घोषणा पत्रों पर हस्ताक्षर किये

यह भी पढ़ें:आरसीईपी समझौता क्या है, जिससे अलग हुआ है भारत?

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS