Search

मध्यप्रदेश में 'आयुष्मान भारत' योजना लागू

इस योजना से राज्य में साढ़े 5 करोड़ से अधिक सदस्य के लाभान्वित होने का दावा किया गया जा रहा है. इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के परिवारों और खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम के पात्रता पर्ची वाले सभी परिवारों को भी दिया जायेगा.

Jul 3, 2018 12:42 IST

मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन की 'आयुष्मान भारत' योजना 15 अगस्त 2018 से लागू की जाएगी.

राज्य सरकार ने इस योजना के कार्यान्वयन के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं.

 

महत्व:

इस योजना से राज्य में साढ़े 5 करोड़ से अधिक सदस्य के लाभान्वित होने का दावा किया गया जा रहा है. 

इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के परिवारों और खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम के पात्रता पर्ची वाले सभी परिवारों को भी दिया जायेगा.

 

लाभार्थियों:

इस योजना का लाभ शासकीय और निजी चिकित्सालयों के माध्यम से कैशलेस रूप में दिया जाएगा. इससे शासकीय अस्पतालों को उन्नत किया जा सकेगा और निजी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं की उपलब्धता भी बढ़ेगी.

योजना के लागू होने पर प्रदेश के नागरिकों पर उपचार पर होने वाले खर्च में भी कमी आएगी.

योजना में सामाजिक, आर्थिक और जातीय जनगणना (एसईसीसी) के आधार पर वंचित श्रेणी के 84 लाख परिवारों को शामिल किया गया है.

 

व्यय (खर्चा):

योजना में प्रति परिवार 1200 रुपये की दर से कुल 1648 करोड़ रुपये के व्यय का अनुमान है. एसईसीसी के 84 लाख परिवारों के लिये 600 करोड़ रुपये की राशि केंद्र सरकार अनुदान सहायता के रूप में प्रदान करेगी, लगभग 400 करोड़ रुपये राज्य सरकार द्वारा प्रदान किए जाएंगे.

                                   आयुष्मान भारत योजना के बारे में

आयुष्मान भारत योजना भारत सरकार की एक प्रस्तावित योजना हैं.

वित्त मंत्री अरूण जेटली ने 2018 के बजट सत्र में इस योजना की घोषणा की.

इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है.

इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा.

इस योजना प्रत्यक्ष 10 करोड़ बीपीएल धारक लाभ उठा सकेगें.

इसके अलावा बाकी बची आबादी को भी इस योजना के अन्तर्गत लाने की योजना है.

यह पहली स्वास्थ सुविधा होगी जिसके द्वारा पुरे परिवार को स्वास्थ लाभ दिया जायेगा.

इस योजना के लागू होने के पश्चात गरीब व्यक्ति भी बीमारी या अन्य किसी स्थिति में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कर पायेंगे, ऐसी स्थिति में पैसो की कमी उनके स्वास्थ्य के आड़े नहीं आयेगी.

 यह भी पढ़ें: मध्यप्रदेश सरकार ने ‘माय एमपी रोजगार पोर्टल’ लांच किया