Search

लगातार दूसरे वर्ष बड़े पैमाने पर कोरल ब्लीचिंग का शिकार ग्रेट बैरियर रीफ हुआ: अध्ययन

सर्वेक्षण ग्रेट बैरियर रीफ मरीन पार्क अथॉरिटी और ऑस्ट्रेलियन इंस्टीट्यूट ऑफ मरीन साइंस द्वारा शुरु किए गए अध्ययन का हिस्सा था.

Mar 17, 2017 18:47 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

great barrier reef coralsग्रेट बैरियर रीफः ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी तट के किनारे स्थित दुनिया का सबसे बड़ा कोरल रीफ सिस्टम

ग्रेट बैरियर रीफ मार्च 2017 के दूसरे सप्ताह में खबरों में रहा क्योंकि एक व्यापक हवाई सर्वेक्षण में रीफ के लगातार दूसरे वर्ष कोरल ब्लीचिंग का शिकार होना पाया गया है.

सर्वेक्षण ग्रेट बैरियर रीफ मरीन पार्क अथॉरिटी और ऑस्ट्रेलियन इंस्टीट्यूट ऑफ मरीन साइंस द्वारा शुरु किए गए अध्ययन का हिस्सा था.

ग्रेट बैरियर रीफ के बारे में:

•    पूर्वी ऑस्ट्रेलियाई कॉर्डिलेरा डिविजन की विशिष्टता है ग्रेट बैरियर रीफस, इसमें छोटे मरे द्वीप भी शामिल हैं.

•    ग्रेट बैरियर रीफ को दुनिया के सात प्राकृतिक अजूबों में से एक माना जाता है.

•    यह चीन की दीवार से बड़ा है और अंतरिक्ष से देखा जा सकने वाला पृथ्वी का एकमात्र जीवित वस्तु भी.

CA eBook

•    रीफ, अपतटीय इलाकों में 15 किलोमीटर से 150 किलोमीटर के बीच और कुछ हिस्सों में करीब 65 किलोमीटर चौड़ा है, यह शानदार एवं विशद कोरल प्रजातियों का संग्रह है.

•    रीफ का एक बड़ा हिस्सा ग्रेट बैरियर रीफ मरीन पार्क द्वारा संरक्षित है जो मछली पकड़ने और पर्यटन जैसे मानवीय उपयोग के प्रभावों को सीमित करने में मदद करता है.

•    इसकी प्राकृतिक सुंदरता के कारण, पानी के सतह के नीचे और उपर, दोनों ही जगहों पर, यह रीफ दुनिया के सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्यों में से एक बन गया है.

•    इसकी महत्व को मान्यता प्रदान करते हुए यूनेस्को ने 1981 में ग्रेट बैरियर रीफ को विश्व धरोहर स्थल (डब्ल्यूएचएस) की सूची में शामिल किया था.

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS