]}
Search

मायावती के प्रेस कॉन्फ्रेंस की 10 बड़ी बातें, जानिए विस्तार से

मायावती के अकेले उपचुनाव लड़ने की खबरों के बाद अब अखिलेश यादव ने भी कहा है कि वो अपने संसाधनों पर चुनाव लड़ेंगे.

Jun 4, 2019 11:37 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

लोकसभा चुनाव 2019 में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन की हार के बाद नाराज चल रहीं बीएसपी प्रमुख मायावती ने 04 जून 2019 को समाजवादी पार्टी के साथ अपने गठबंधन को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

मायावती के अकेले उपचुनाव लड़ने की खबरों के बाद अब अखिलेश यादव ने भी कहा है कि वो अपने संसाधनों पर चुनाव लड़ेंगे. बसपा प्रमुख मायावती ने कहा की जब से सपा-बसपा गठबंधन हुआ है तब से अखिलेश और डिंपल ने मुझे पूरे मन से सम्मान दिया है.

मायावती के प्रेस कॉन्फ्रेंस की 10 बड़ी बातें:
1.    बीएसपी सुप्रीम मायावती ने कहा की जब से सपा के साथ बीएसपी का गठबंधन हुआ तब से अखिलेश जी ने मुझे बड़ा सम्मान दिया है. हमारे साथ उनके रिश्ते लंबे समय तक बने रहेंगे.
2.    SP-BSP का वोट आपस में जुटते तो नतीजे अलग आते.
3.    SP-BSP गठबंधन निजी स्वार्थ का गठबंधन नहीं था.
4.    एसपी के लोगों में बदलाव जरूरी है, अगर ऐसा नहीं होता है तो अकेले चलना ही बेहतर होगा.
5.    चुनाव परिणाम में ईवीएम की भूमिका खराब रही है. सपा बसपा का बेस वोट जुड़ने पर हमें नहीं हारना चाहिए था.
6.    समाजवादी पार्टी के साथ यादव समाज नहीं टिका रह सका, यादव बाहुल्य सीटों पर भी सपा के मजबूत उम्मीदर को भी हरा दिया है.
7.    अक्षय और डिम्पल का हार जाना हमें बहुत कुछ सोचने को मजबूर करता है.
8.    मायावती ने कहा की ऐसी स्थिति में यह आंकलन किया जा सकता है कि जब सपा का बेस वोट खुद सपा को नहीं मिला, तो बीएसपी को कैसे मिला होगा.
9.    वर्तमान स्थिति में हमने यूपी की कुछ सीटों पर होने वाले उपचुनावों में अकेले लड़ने का फैसला लिया है.
10.    एसपी-बीएसपी गठबंधन पर कोई भी परमानेंट ब्रेक नहीं लगा है, आगे मिलकर काम कर सकते हैं.

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें!

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम की समीक्षा के लिये मायावती ने 03 जून 2019 को उत्तर प्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों और निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की बैठक में कहा था कि बसपा को जिन सीटों पर कामयाबी मिली उसमें सिर्फ पार्टी के परंपरागत वोटबैंक का ही योगदान रहा.

मायावती ने लोकसभा चुनाव 2019 में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन पर क्षेाभ व्यक्त करते हुये पार्टी के पदाधिकारियों से ‘गठबंधनों’ पर निर्भर रहने के बजाय अपना संगठन मजबूत करने का संकेत दिया था.

Download our Current Affairs & GK app from Play Store

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS