Search

Nobel Prize 2019: लीथियम बैटरी बनाने हेतु तीन वैज्ञानिकों को केमिस्ट्री का नोबेल पुरस्कार

लीथियम आयन बैटरी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए तीनों वैज्ञानिकों को चुना गया है. इनके कोशिश से लीथियम आयन बैटरी की क्षमता दोगुनी हुई है.

Oct 10, 2019 09:34 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

नोबेल फाउंडेशन ने साल 2019 के लिए केमिस्ट्री के नोबेल पुरस्कार विजेताओं की नाम की घोषणा कर दी है. यह सम्मान अमेरिका के जॉन बी. गुडइनफ, इंग्लैंड के एम. स्टैनली विटिंघम तथा जापान के अकीरा योशिनो को संयुक्त रूप से दिया गया है.

लीथियम आयन बैटरी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए तीनों वैज्ञानिकों को चुना गया है. इनके कोशिश से लीथियम आयन बैटरी की क्षमता दोगुनी हुई है. लीथियम आयन बैटरी अधिक उपयोगी होने से आज मोबाइल फोन, लैपटॉप तथा इलेक्ट्रॉनिक वाहनों में उपयोग हो रही है.

लीथियम आयन बैटरी सुरक्षित होने के साथ-साथ बहुत ही हल्की भी होती है. इस बैटरी का रखरखाव भी काफी आसान है. लीथियम आयन बैटरी के विकास की शुरुआत साल 1970 के दशक में तेल संकट के दौरान हुई थी. ये बैट्रियां सौर उर्जा तथा पवन शक्ति से भी ऊर्जा का निर्माण और संचय करने में समर्थ हैं. इस कारण से विश्व को जीवाश्म ईधनों से स्वतंत्र कराने की नीति में भी इनका महत्वपूर्ण योगदान है.

तीन वैज्ञानिकों को केमिस्ट्री का नोबेल पुरस्कार

जॉन बी. गुडइनफ: वे अमेरिकी प्रफेसर हैं. वे वर्तमान में बिंगम्टन यूनिवर्सिटी में प्रफेसर हैं. जॉन बी. गुडइनफ यह पुरस्कार पाने वाले सबसे उम्रदराज विजेता होंगे. वे 97 साल के है. उनसे पहले साल 2018 में 96 साल के आर्थर अश्किन को नोबेल पुरस्कार मिला था.

एम. स्टैनली विटिंघम: एम. स्टैनली विटिंघम इंग्लैंड के रहने वाले है. वे 77 साल के है. उन्होंने सुपरकंडक्टर्स (Superconductors) पर शोध शुरू किया तथा एक उच्च ऊर्जा से भरपूर एलिमेंट (तत्व) की खोज की. उन्होंने इसका उपयोग लिथियम बैटरी में एक उच्च प्रौद्योगिकी (हाई टेक्नोलॉजी) कैथोड बनाने हेतु किया है.

अकीरा योशिनो: अकीरा योशिनो जापान के रहने वाले है. वे 71 साल के है. इस कैथोड के आधार पर अकीरा योशिनो ने साल 1985 में व्यावसायिक रूप से पहली सक्षम लिथियम आयन बैटरी बनाई थी.

केमेस्ट्री के नोबेल पुरस्कार से जुड़े कुछ मुख्य बिंदु

• केमेस्ट्री में साल 1901 से लेकर साल 2019 तक 111 नोबेल पुरस्कार दिये जा चुके हैं.

• केमेस्ट्री में सबसे कम उम्र में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले व्यक्ति फ्रेडरिक जूलियट है. इन्होने 35 साल की उम्र में ये पुरस्कार जीता था.

• केमेस्ट्री अबतक पांच महिलाओं को ये पुरस्कार मिल चुका है.

• केमेस्ट्री में सबसे ज्यादा उम्र में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले व्यक्ति जॉन बी. गुडइनफ है. इन्होने 97 साल की उम्र में ये पुरस्कार जीता है. ये इस साल (2019) अवॉर्ड हासिल करेगें.

• केमेस्ट्री का नोबेल पुरस्कार दो बार फ्रेडरिक सेंगर को साल 1958 तथा साल 1980 में मिल चुका है.

यह भी पढ़ें:नोबल पुरस्कार 2019: फिजिक्स के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का घोषणा, इन तीन वैज्ञानिकों को मिला अवॉर्ड

पुरस्कार की राशि को तीनों वैज्ञानिकों में बराबर बांटा जायेगा

तीनों वैज्ञानिकों में पुरस्कार के तौर पर मिलने वाली 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (लगभग 6.46 करोड़ रुपये) की राशि को बराबर-बराबर बांटा जायेगा. साल 2018 में यह पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिकों फ्रांसेस अर्नाल्ड और जॉर्ज स्मिथ तथा ब्रिटेन की ग्रेगरी विंटर को एंजाइम के क्षेत्र में शोध हेतु मिला था.

यह भी पढ़ें:केंद्रीय मंत्रिमंडल ने DA में पांच फीसदी बढ़ोतरी को मंजूरी दी

यह भी पढ़ें:नोबेल पुरस्कार 2019: चिकित्सा के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों के नाम की घोषणा

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी,अभी डाउनलोड करें| Android|IOS

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS