Search

राष्ट्रीय राइफल संघ और जेएसडब्ल्यू के मध्य समझौता

एनआरएआई के अध्यक्ष रणइंदर सिंह और जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स के निदेशक पार्थ जिंदल ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए. यह साझेदारी दिसंबर 2018 से शुरू होगी.

Dec 21, 2018 09:55 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
एनआरएआई के अध्यक्ष रणइंदर सिंह और जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स के निदेशक पार्थ जिंदल

निशानेबाजी की शीर्ष संस्था भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआई) और 13 अरब डॉलर के भारतीय कारोबारी घराने जेएसडब्ल्यू समूह ने खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये.

यह समझौता टोक्यो 2020 और पेरिस 2024 ओलंपिक खेलों के लिए देश में निशानेबाजी के क्षेत्र में प्रतिभाओं को पहचानने, प्रशिक्षित करने और उनका विकास करने के लिए हाई परफॉरमेंस साझेदारी हेतु किया गया है.

एनआरएआई के अध्यक्ष रणइंदर सिंह और जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स के निदेशक पार्थ जिंदल ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए. यह साझेदारी 1 दिसंबर 2018 से शुरू होगी और 2024 ओलम्पिक तक जारी रहेगी.

भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ

भारतीय राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन अंतरराष्ट्रीय शूटिंग खेल संघों से एसोसिएट है. इनमें एशियाई शूटिंग संघ, राष्ट्रमंडल शूटिंग संघ, दक्षिण एशियाई शूटिंग संघ और भारतीय ओलंपिक संघ शामिल हैं. वर्तमान समय में रणइंदर सिंह इसके अध्यक्ष हैं तथा डी.वी. सीताराम राव इसके सचिव हैं. देश में निशानेबाजी प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने के लिए इसकी स्थापना वर्ष 1951 में की गई. लोकसभा के पहले स्पीकर जी.वी. मावलंकर इसके संस्थापक एवं पहले अध्यक्ष थे.

 

राष्ट्रीय राइफल संघ के अध्यक्षों के नाम

क्रं.सं.

नाम

इस तिथि से

इस तिथि तक

1.

जी.वी.मावलंकर

17.04.51

11.03.56

2.

गोविंद वल्लभ पंत

21.05.56

06.03.60

3.

लाल बहादुर शास्त्री

08.05.61

10.01.66

4.

वाई.बी.चह्वाण

15.05.67

18.08.70

5.

एम.के.कौल

18.08.70

29.12.71

6.

डॉ. जी.एस. ढिल्लों

30.12.71

02.09.74

7.

डॉ. जोगिंदर सिंह

06.12.74

16.02.79

8.

सज्जन सिंह सेठी

16.02.79

01.06.85

9.

सुरेन्द्र सिंह

02.06.85

12.01.99

10.

दिग्विजय सिंह

18.03.99

24.6.2010

11.

रणइंदर सिंह

29.12.2010

अब तक

 

जेएसडब्ल्यू समूह

जेएसडब्ल्यू समूह भारत की अग्रणी कम्पनियों में से एक है. जेएसडब्ल्यू समूह का नेटवर्थ 13 बिलियन डॉलर का है. यह ओ पी पी जिंदल समूह का एक अभिन्न अंग है, और यह उन प्रमुख परियोजनाओं का हिस्सा रहा है जिन्होंने भारत के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. जेएसडब्ल्यू की भारत के शीर्ष व्यापारिक घरों में रैंकिंग होती है. जेएसडब्ल्यू के इस्पात, ऊर्जा, सीमेंट और बुनियादी ढांचे के मुख्य क्षेत्रों में कार्यरत है.


यह भी पढ़ें: वैज्ञानिकों ने 17 क्षुद्रग्रहों पर पानी की मौजूदगी के सबूत खोजे