Search

Priyanka Chopra को मिला यूनिसेफ का 'मानवतावादी पुरस्कार', जाने इस पुरस्कार के बारे में

प्रियंका चोपड़ा पिछले 15 सालों से सद्भावना राजदूत के रूप में यूनिसेफ से जुड़ी हुई हैं. अब उन्हें उनके काम हेतु यूनिसेफ के 'डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार' से सम्मानित किया गया है.

Dec 6, 2019 11:34 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) को यूनिसेफ की ओर से डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार (Danny Kaye Humanitarian Award) से सम्मानित किया गया है. प्रियंका चोपड़ा न केवल मनोरंजन और फैशन की दुनिया में बल्कि सामाजिक कार्यों में भी काफी सक्रिय हैं.

जून 2019 में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने 2019 के पुरस्कार विजेता के तौर पर प्रियंका चोपड़ा के नाम की घोषणा की थी. उन्हें न्यूयॉर्क में स्नोफ्लेक बॉल में कई प्रतिष्ठित हस्तियों की उपस्थिति में इस सम्मान से सम्मानित किया गया था.

प्रियंका चोपड़ा पिछले 15 सालों से सद्भावना राजदूत के रूप में यूनिसेफ से जुड़ी हुई हैं. अब उन्हें उनके काम हेतु यूनिसेफ के 'डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार' से सम्मानित किया गया है. प्रसिद्ध फैशन डिजाइनर डायेन वॉन फॉस्टनबर्ग ने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा को यह पुरस्कार सौंपा.

प्रियंका ने पुरस्कार ग्रहण करने के बाद क्या कहा?

प्रियंका चोपड़ा ने पुरस्कार ग्रहण करने के बाद कहा कि समाज सेवा अब कोई विकल्प नहीं रह गया है. उन्होंने कहा कि समाज सेवा जीवन का एक माध्यम बन गया है.

डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार के बारे में

डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार अभिनेता डैनी काये के नाम पर रखा गया है. वे एक अमेरिकी अभिनेता, नर्तक और गायक थे. वे यूनिसेफ के पहले सद्भावना दूत भी थे.

अभिनेता डैनी काये साल 1954 में यूनिसेफ के पहले सद्भावना राजदूत बने थे. उन्हें इस फिल्म के लिए यूनिसेफ के साथ काम के लिए मानद ऑस्कर से सम्मानित किया गया था.

उन्होंने सार्वजनिक घोषणाओं, साक्षात्कार और अभियानों के माध्यम से यूनिसेफ को लोकप्रिय बनाने में मदद की.

डैनी काये को साल 1974 में लायंस क्लब से मानवतावादी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. डैनी काये का 03 मार्च 1987 को निधन हो गया.

यह भी पढ़ें:डॉ. अंबेडकर की पुण्यतिथि 2019: जाने उनके जीवन की 10 महत्वपूर्ण बातें

यूनिसेफ के बारे में

यूनिसेफ की स्थापना संयुक्त राष्ट्र द्वारा 11 दिसंबर 1946 को न्यूयॉर्क में की गई थी. इसका पूरा नाम संयुक्त राष्ट्र बाल कोष है.

इस संस्था का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर में बच्चों के स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा और विकास के लिए काम करना है.

यूनिसेफ ने भारत में साल 1949 से काम करना शुरू किया. यूनीसेफ का सप्लाई प्रभाग कार्यालय कोपनहेगन, डेनमार्क में है.

यूनिसेफ द्वारा पूरे विश्व में नवजात शिशुओं के टीकाकरण के लिए प्रत्येक साल तीन बिलियन से अधिक टीके दिए जाते हैं.

विश्व के 190 से अधिक देशों में बाल कल्याण के लिए यूनिसेफ के कार्यकर्ता लगातार काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:सुंदर पिचाई बने अल्फाबेट के सीईओ: IIT खड़गपुर से लेकर गूगल तक, जानिए उनके जीवन का सफर

यह भी पढ़ें:Parliament भवन की कैंटीन में अब नहीं मिलेगा सस्ता खाना, खत्म होगी सब्सिडी

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS