भारतीय रिजर्व बैंक ने सात बड़े बैंकों पर जुर्माना लगाया

भारतीय रिजर्व बैंक समय-समय पर बैंकों की जांच करता है. नियमों के उल्लघंन पर बैंकों पर पेनल्टी लगाई जाती है. भारतीय रिजर्व बैंक के केवाईसी नियम के मुताबिक किसी भी ग्राहक का बैंक अकाउंट खोलते समय उसकी पहचान जरूरी है.

Feb 13, 2019 13:28 IST

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने विभिन्न बैंकिंग नियमों का उल्लंघन करने पर इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, एचडीएफसी बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक समेत सात बैंकों पर जुर्माना लगाया है. आरबीआई ने 12 फरवरी 2019 को इसकी जानकारी दी.

ये सात बैंक- इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन ओवरसीज बैंक, आंध्रा बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईडीबीआई बैंक और कोटक मंहिद्रा बैंक है.

आरबीआई द्वारा जुर्माना:

   आरबीआई ने इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और इंडियन ओवरसीज बैंक पर 1.5-1.5 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है. पूंजी के अंतिम उपयोग पर निगरानी, अन्य बैंकों के साथ जानकारी साझा करने, धोखाधड़ी के बारे में सूचना और वर्गीकरण और खातों के पुनर्गठन जैसे विभिन्न दिशा-निर्देशों का अनुपालन नहीं करने के चलते यह जुर्माना लगाया गया है.

   इन्हीं नियमों का उल्लंघन करने पर आंध्रा बैंक पर एक करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया है. भारतीय रिजर्व बैंक ने धन शोधन रोधी (एएमल) मानकों और ग्राहक को जानो (केवाईसी) पर दिशानिर्देशों का अनुपालन नहीं करने पर एचडीएफसी बैंक, आईडीबीआई बैंक और कोटक मंहिद्रा बैंक सभी पर 20-20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है.

हाल ही में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था. एसबीआई पर आरबीआई की तरफ से प्रावधानों का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया गया था. इस सप्ताह की शुरुआत में आरबीआई ने विभिन्न नियमों के उल्लंघन में एसबीआई, एक्सिस बैंक, यूको बैंक और सिंडीकेड बैंक पर भी जुर्माना लगाया था.

 

समय-समय पर बैंकों की जांच:

भारतीय रिजर्व बैंक समय-समय पर बैंकों की जांच करता है. नियमों के उल्लघंन पर बैंकों पर पेनल्टी लगाई जाती है. भारतीय रिजर्व बैंक के केवाईसी नियम के मुताबिक किसी भी ग्राहक का बैंक अकाउंट खोलते समय उसकी पहचान जरूरी है. इसलिए ही बैंक आपकी पहचान और पते का प्रमाणपत्र मांगते हैं. इसके अलावा पैन कार्ड भी मांगा जाता है.

 

यह भी पढ़ें: एलआईसी ने आईडीबीआई में 51% हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया

Loading...