वैज्ञानिकों ने टीबी का टीका की खोज की

Nov 28, 2017 15:48 IST

वैज्ञानिकों ने विश्व के सबसे घातक, संक्रामक क्षय रोग (टीबी) के खिलाफ एक प्रभावशाली टीका विकसित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण खोज की. अनुसंधानकर्ताओं ने अनुसार टीबी के कारण प्रति वर्ष विश्वभर में अनुमानित 17 लाख लोगों की मौत हो जाती है. किसी अन्य संक्रमण की तुलना में टीबी के कारण मरने वालों लोगों के इन आकड़ों की संख्या सर्वाधिक है.

वैज्ञानिकों ने तारों के बीच मौजूद सिगार की तरह नजर आने वाले क्षुद्रग्रह की खोज की

संक्रामक क्षय रोग (टीबी) पर एंटीबायोटिक्स का असर समाप्त होता जा रहा है, वैश्विक स्तर पर 20 वर्षों के लगातार प्रयासों के बावजूद कोई प्रभावशाली टीका भी विकसित नहीं हो पाया.

Rojgar Samachar eBook

वैज्ञानिकों ने हाल ही में संक्रमण से लड़ने हेतु आवश्यक परंपरागत मानवीय टी कोशिका की माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्युलोसिस (एमटीबी) में पाए जाने वाले प्रोटीन के अंशों पर प्रतिक्रिया पर ध्यान केंद्रित किया.

इंग्लैंड में साउथैम्पटन और बांगोर विश्वविद्यालयों के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार विशेष प्रकार के लिपिड अन्य ‘गैरपरंपरागत’ प्रकारों की टी कोशिकाओं की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को सक्रिय कर सकते हैं.

टी कोशिका -
टी कोशिका श्वेत रक्त कोशिका है और एमटीबी वह जीवाणु है जिसके कारण मानव शारीर टीबी उत्पन्न होता है.

विस्तृत current affairs  हेतु यहाँ क्लिक करें        

पीएनएएस पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार टीम ने दिखाया कि लिपिड के समूह, जिन्हें माइकोलिक एसिड कहा जाता है वे प्रतिरोधी प्रतिक्रिया तय करने में अहम हो सकते हैं. ये एसिड एमटीबी कोशिका के अहम घटक हैं.

साउथैम्पटन विश्वविद्यालय के सालाह मंसौर के अनुसार, ‘‘यह टीबी के मरीजों के लिए संभावित चिकित्सकीय प्रभावों के संबंधों में उत्साहित करने वाली खोज है’’ उन्होंने कहा कि इससे टीका विकसित किया जा सकता है.

 

Is this article important for exams ? Yes5 People Agreed

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below