Search

शेख हसीना ने बांग्लादेश आम चुनावों में लगातार तीसरी बार बहुमत हासिल किया

बांग्लादेश चुनाव आयोग द्वारा जारी जानकारी के अनुसार, हसीना को दक्षिण पश्चिमी गोपालगंज सीट से जीत हासिल की. उन्हें 2,29,539 वोट मिले.

Dec 31, 2018 10:37 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

प्रधानमंत्री शेख हसीना की पार्टी अवामी लीग को 31 दिसंबर 2018 को बांग्लादेश के आम चुनावों में लगातार तीसरी बार बहुमत प्राप्त हुआ. शेख हसीना की अगुवाई में अवामी लीग गठबंधन ने 300 में से 288 सीटों पर बहुमत हासिल किया.

अवामी लीग की मुख्य सहयोगी जतिया पार्टी को 21 सीटें मिलीं. एकदिवसीय टीम के कप्तान मशरफे मुर्तजा ने भी अवामी लीग के टिकट पर चुनाव जीता है. प्रमुख विपक्षी दल नेशनल यूनिटी फ्रंट (एनयूएफ) और इसके सहयोगी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) महज 7 सीटों पर सिमट कर रह गई.

बांग्लादेश आम चुनाव 2018 मुख्य बिंदु

•    बांग्लादेश चुनाव आयोग द्वारा जारी जानकारी के अनुसार, हसीना को दक्षिण पश्चिमी गोपालगंज सीट से जीत हासिल की. उन्हें 2,29,539 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी बीएनपी के उम्मीदवार को महज 123 वोट मिले.

•    चुनावों के लिए 1,848 उम्मीदवार मैदान में उतरे थे. चुनाव के लिए 40,183 मतदान केन्द्र बनाए गए थे. एक उम्मीदवार के निधन के कारण एक सीट पर चुनाव नहीं हुआ.

•    मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बांग्लादेश एकदिवसीय टीम के कप्तान मशरफे मुर्तजा ने भी चुनावों में जीत दर्ज की है.

•    बांग्लादेश का आम चुनाव हिंसा और तनाव के बीच संपन्न हुआ. हिंसा में एक सुरक्षाकर्मी और सत्ताधारी दल और विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं सहित कम से कम 17 लोग मारे गए.

शेख हसीना के बारे में जानकारी

•    शेख हसीना बांग्लादेश की वर्तमान प्रधानमंत्री हैं. उनका जन्म 28 सितंबर 1947 को हुआ था.

•    वे बांग्लादेश के स्वाधीनता संग्राम के प्रधान नेता तथा बांग्लादेश सरकार के प्रथम राष्ट्रपति शेख मुजीबुर्रहमान की पुत्री हैं.

•    वे पहले कार्यकाल के दौरान वर्ष 1996 से 2001 तक बंग्लादेश की प्रधानमंत्री रहीं. इसके उपरांत वे वर्ष 2008 में प्रधानमंत्री चुनाव जीतकर दोबारा बांग्लादेश की प्रधानमंत्री बनीं.

•    इसके बाद में तीसरी बार तथा लगातार दूसरी बार जनवरी 2014 में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री बनीं.

•    शेख हसीना वर्ष 1981 से अवामी लीग पार्टी की नेता हैं तथा पार्टी का मार्गदर्शन कर रही हैं.

 

यह भी पढ़ें: वर्ष 2018 के टॉप-50 घटनाक्रम जिसने दुनिया बदल दी