Search

लॉटे कन्फेक्शनरी ने हैवमोर आइसक्रीम लिमिटेड का अधिग्रहण किया

हैवमोर आइसक्रीम लिमिटेड को इस सौदे में अपने वार्षिक मुनाफे से 2.5 गुना से अधिक दाम मिला है.

Nov 25, 2017 10:22 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

दक्षिण कोरिया की कंपनी लॉटे कन्फेक्शनरी ने हाल ही में हैवमोर आइसक्रीम लिमिटेड (एचआईएल) को खरीदने की घोषणा की. दोनों कम्पनियों के मध्य यह सौदा 1020 करोड़ रुपयेमें किया गया. इस सौदे से लॉटे कन्फेक्शनरी के लिए भारत की 5,000 करोड़ रुपये की आइसक्रीम मार्केट में उतरने में मार्ग प्रशस्त हो जायेगा.

अहमदाबाद के चोना परिवार की कंपनी हैवमोर आइसक्रीम लिमिटेड को इस सौदे में अपने वार्षिक मुनाफे से 2.5 गुना से अधिक दाम मिला है. वर्ष 2016-17 में कंपनी का टर्नओवर 400 करोड़ रुपये का था और इसकी सीएजीआर 23-25 पर्सेंट की थी.

हैवमोर के मैनेजिंग डायरेक्टर अंकित चोना ने ईटी को बताया कि वह ब्रांड के सीईओ-एडवाइजर के तौर पर लॉटे की बिजनेस में मदद करना जारी रखेंगे. लॉटे कन्फेक्शनरी ने 23 नवंबर को हुई अपनी बोर्ड मीटिंग में एचआईएल के 100 प्रतिशत शेयर खरीदने का निर्णय लिया.

देश भर में मौजूद लगभग 40 हैवफन आइसक्रीम पार्लर हैवमोर रेस्टोरेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के पास बने रहेंगे, जबकि 115 फ्रेंचाइजी आउटलेट लॉटे के पास जाएंगे.

यह भी पढ़ें: बीआइएफएल ने इंडसइंड बैंक में विलय की घोषणा की

हैवमोर के बारे में -

हैवमोर की शुरुआत सतीश चंद्र चोना ने वर्ष 1944 में कराची में की थी. अगले तीन वर्षों के अंदर ही विभाजन के कारण उन्हें अपना कारोबार समेट कर भारत आना पड़ा. उन्होंने वर्ष 1951 में अहमदाबाद में घर बनाने के बाद आइसक्रीम बिजनेस शुरू किया था.

हैवमोर के प्रॉडक्ट पोर्टफोलियो में लगभग 150 प्रकार के प्रॉडक्ट शामिल हैं. इनकी बिक्री देश के 14 राज्यों में पार्लर नेटवर्क के जरिए की जाती है. कंपनी के पास अहमदाबाद और फरीदाबाद में दो प्लांट हैं.

यह भी पढ़ें: टाटा स्टील एवं थाइसेनक्रप के मध्य विलय हेतु समझौता

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS