Search

खेल मंत्रालय ने भारत में ‘खेलो इंडिया’ राज्य उत्कृष्टता केंद्रों की स्थापना की

खेल मंत्रालय का प्रयास भारत के प्रत्येक राज्य में उपलब्ध सर्वोत्तम खेल सुविधाओं को विश्व स्तरीय मानक सुविधा के तौर पर बढ़ाना है, जहां पूरे भारत के एथलीट अपने विशिष्ट खेल में प्रशिक्षण लेंगे.

Jun 18, 2020 16:00 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

भारत का खेल मंत्रालय ‘खेलो इंडिया’ योजना के तहत ‘खेलो इंडिया’ राज्य उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने के लिए पूरी तरह तैयार है. इसका उद्देश्य पूरे देश में एक मजबूत खेल पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना है. प्रत्येक राज्य और केंद्रशासित प्रदेश में ऐसे एक केंद्र की पहचान की जाएगी. 

पहले चरण में, खेल मंत्रालय भारत के 8 राज्यों में पहले से ही राज्य के स्वामित्व वाली खेल सुविधाओं की पहचान कर चुका है. इन सुविधाओं को खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्र (KISCE) के तौर पर उन्नत  किया जाएगा. 

राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की यह जिम्मेदारी होगी कि, वे इन केंद्रों के संचालन और इन्हें विश्व स्तरीय खेल सुविधा के तौर पर संचालित करने की क्षमता को विकसित करें. जबकि खेलो इंडिया योजना  के माध्यम से विशेषज्ञ कोच, उपकरण, सहायक स्टाफ और  बुनियादी ढांचे के लिए धन प्रदान किया जाएगा.

खेल मंत्रालय ने प्रत्येक राज्य, केंद्रशासित प्रदेश में एक खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना करने का निर्णय लिया है. पहले चरण में, ओडिशा, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, मिजोरम, मणिपुर, अरुणाचल, नागालैंड में इन खेल सुविधाओं की पहचान की गई है. उन्हें इस सूची की घोषणा करते हुए खुशी हुई है.

मुख्य विशेषताएं 

• इन खेल सुविधाओं की चयन प्रक्रिया अक्टूबर, 2019 में शुरू की गई थी. प्रत्येक राज्य और केंद्र  शासित प्रदेश को अपने यहां उपलब्ध सर्वश्रेष्ठ खेल अवसंरचना की पहचान करनी थी जिसे विश्व स्तरीय खेल सुविधा के रूप में विकसित किया जा सकता है. विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से प्राप्त किये गये 15 प्रस्तावों में से 8 प्रस्तावों को शॉर्टलिस्ट किया गया था.

• मौजूदा केंद्र को KISCE के तौर पर उन्नत बनाने के लिए, सरकार ‘वायबिलिटी गैप फंडिंग’ प्रदान करेगी. यह खेल उपकरण, उच्च प्रदर्शन प्रबंधक और विशेषज्ञ प्रशिक्षकों की आवश्यकता के अंतराल अर्थात कमी को समाप्त कर देगा.

• इन आठ केंद्रों को व्यापक अंतर विश्लेषण अध्ययन के बाद इंगित की गई आवश्यकता के अनुसार निर्धारित की गई वास्तविक राशि के आधार पर अनुदान दिया जाएगा. देश के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को प्रत्येक खेल में ऐसी प्रतिभा की पहचान करके उसे निखारना होगा जिसके लिए केंद्र द्वारा धन प्राप्त किया गया है.

KISCE पर केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री का बयान 

इस पहल के बारे में बोलते हुए, केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने यह बताया कि, ओलंपिक खेलों में भारत के उत्कृष्ट प्रदर्शन को सुनिश्चित करने के लिए ही भारत में खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्रों की स्थापना की जा रही है. खेल मंत्रालय का प्रयास भारत के प्रत्येक राज्य में उपलब्ध सर्वोत्तम खेल सुविधाओं को विश्व स्तरीय मानक सुविधा के तौर पर बढ़ाना है, जहां पूरे भारत के एथलीट अपने विशिष्ट खेल में प्रशिक्षण लेंगे. 

उन्होंने आगे यह भी बताया कि, यह पूरे देश से खेल प्रतिभाओं की ख़ोज करने के लिए सही दिशा में एक कदम है और उन्हें ऐसे सक्षम एथलीटों के तौर पर प्रशिक्षण देना है, जो सभी प्रमुख अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों,  विशेष रूप से ओलंपिक खेलों में, देश के लिए पदक जीतेंगे. 

राज्य के स्वामित्व वाली 8 चयनित खेल सुविधाएं जिन्हें KISCE  द्वारा उन्नत किया जाएगा

• जयप्रकाश नारायण राष्ट्रीय युवा केंद्र, बैंगलोर, कर्नाटक

• संगी लाहेन खेल अकादमी, ईटानगर, अरुणाचल प्रदेश

• जीवी राजा सीनियर सेकेंडरी स्पोर्ट्स स्कूल तिरुवनंतपुरम, केरल 

• खुमान लैंपक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, इंफाल, मणिपुर

• राजीव गांधी स्टेडियम, आइजोल, मिजोरम 

• राज्य खेल अकादमी, आईजी स्टेडियम, कोहिमा, नागालैंड 

• कलिंग स्टेडियम, भुवनेश्वर, ओडिशा 

• रीजनल स्पोर्ट्स स्कूल, हकीमपेट, तेलंगाना

 

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS