Search

टाटा ग्रुप भारत का सबसे मूल्यवान ब्रांड: रिपोर्ट

लंदन की कंसल्टेंसी फर्म ब्रांड फाइनेंस द्वारा तैयार सूची में नमक से सॉफ्टवेयर तक अनेक क्षेत्रों में सक्रिय टाटा समूह इस साल 86वें स्थान पर आ गया है.

Jan 29, 2019 09:49 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

लंदन की कंसल्टेंसी फर्म ब्रांड फाइनेंस द्वारा हाल ही में विश्व के मूल्यवान ब्रांड्स की सूची जारी की है. इस सूची में टाटा विश्व के 100 सबसे मूल्यवान ब्रांड्स में शामिल होने वाला देश का पहला ब्रांड बन गया है.

इस उपलब्धि पर टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन ने कहा कि इससे हमें पूरी दुनिया में सामाजिक जिम्मेदारी के साथ कारोबार करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा. हम इनोवेशन और उद्यमिता के जरिये उत्कृष्टता पर जोर देते रहेंगे.

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

•    रिपोर्ट के अनुसार टाटा ब्रांड की वैल्यू वर्ष 2019 में 37 प्रतिशत बढ़कर 19.5 अरब डॉलर (1.36 लाख करोड़ रुपये) हो गई है.

•    लंदन की कंसल्टेंसी फर्म ब्रांड फाइनेंस द्वारा तैयार सूची में नमक से सॉफ्टवेयर तक अनेक क्षेत्रों में सक्रिय टाटा समूह इस साल 86वें स्थान पर आ गया है. जबकि, पिछले साल 2018  में टाटा 104वें स्थान पर था.

•    टाटा समूह द्वारा जारी बयान में ब्रांड फाइनेंस के चीफ एक्जीक्यूटिव डेविड हाई के हवाले से कहा गया है कि टाटा समूह ने 2019 में वैल्यू के मामले में अच्छी बढ़त हासिल की है.

•    रिपोर्ट के अनुसार, समूह की वैल्यू में इजाफा मुख्य तौर पर उसकी सबसे मूल्यवान कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) का प्रदर्शन सुधरने के कारण हुआ है.

•    ऑटोमोबाइल और स्टील सेक्टर की समूह की कंपनियों और समूह के अधीन ज्यादा कंपनियों की गणना किए जाने से भी इसकी ब्रांड वैल्यू बढ़ी है.

टाटा ग्रुप की उपलब्धियां

•    टाटा ग्रुप वर्ष 1868 में एक ट्रेडिंग फर्म से शुरू हुआ था, जिसने देश को पहली बड़ी स्टील कंपनी, पहला लग्जरी होटल और पहली देसी कंज्यूमर गुड्स कंपनी दी थी.

•    देश की पहली एविएशन कंपनी टाटा एयरलाइंस की शुरुआत भी टाटा ग्रुप ने ही की थी. आगे चलकर इस एयरलाइंस का नाम एयर इंडिया हो गया.

•    वर्ष 1991 में जब रतन टाटा इस ग्रुप के मुखिया बने, तब टाटा समूह ने टेटली टी का अधिग्रहण किया और बॉस्टन में ज्वाइंट वेंचर के तौर पर इन्श्योरेंस कंपनी भी शुरू की.

•    टाटा की वजह से ही भारत इस्पात संयंत्र बनाने वाला एशिया का पहला देश बना था.

 

यह भी पढ़ें: विनेश फोगाट बनीं लॉरियस अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट होने वाली पहली भारतीय