Search

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 10 जून 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 10 जून 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से -मशहूर अभिनेता गिरीश कर्नाड और युवराज सिंह आदि शामिल हैं.

Jun 10, 2019 17:18 IST

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 10 जून 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से -मशहूर अभिनेता गिरीश कर्नाड और युवराज सिंह आदि शामिल हैं.

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता गिरीश कर्नाड का निधन, जाने विस्तार से

10 जून 2019 को बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता गिरीश कर्नाड का निधन हो गया. वे 81 साल के थे. गिरीश कर्नाड पिछले कई दिनों से बीमार थे. गिरीश कर्नाड ने सलमान खान की फिल्म 'एक था टाइगर' और 'टाइगर जिंदा है' में भी काम किया था. वे दस बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुके हैं. उन्हें दक्षिण भारतीय रंगमंच और फिल्मों का पितामह माना जाता था. गिरीश कर्नाड भारत में आठ जननपीठ सम्मान पाने वाले लोगों में से एक थे.

गिरीश कर्नाड को साल 1994 में साहित्य अकादमी पुरस्कार, साल 1998 में ज्ञानपीठ पुरस्कार, साल 1974 में पद्म श्री, साल 1992 में पद्म भूषण, साल 1972 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, साल 1992 में कन्नड़ साहित्य अकादमी पुरस्कार, साल 1998 में ज्ञानपीठ पुरस्कार और साल 1998 में उन्हें कालिदास सम्मान से सम्‍मानित किया गया है.

युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया सन्यास

यह घोषणा युवराज सिंह ने साउथ मुंबई होटल में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में किया. युवराज सिंह ने 18 साल के लंबे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा किया. युवराज सिंह ने मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेस के दौरान घोषणा करते हुए कहा कि अब वो कैंसर पीड़ितों की मदद करेंगे. युवराज सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहते समय भावुक हो गए और उन्होंने कहा कि विश्वकप जीतना सपना था. उन्होंने कहा कि अब कैंसर पीड़ितों की मदद करूंगा. युवराज के साथ उनकी पत्नी हेजल और मां शबनम भी मौजूद रहीं.

युवराज सिंह ने इस सीजन मुंबई इंडियंस के लिए खेला था. हालांकि उनकी टीम चैंपियन बनी पर वो ज्यादा मुकाबले नहीं खेल सके थे. उन्हें मुंबई की टीम ने एक करोड़ के बेस प्राइज पर खरीदा था. युवराज सिंह का जन्म 12 दिसंबर 1981 को चंडीगढ़ पंजाब में हुआ था. इनके पिता योगराज सिंह है जो कि एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर भी रह चुके है.

अमेरिका ने भारत को सशस्त्र ड्रोन बेचने की मंजूरी दी, जानिए इसकी खासियत

इस ड्रोन के आने से भारत की सामरिक शक्ति बढ़ेगी. इससे सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी. अमरीका से यह अनुमति भारत की सीमाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखकर दी गई है. इसका मुख्य उद्देश्य भारत की सैन्य क्षमता में बढ़ोतरी करना और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में दोनों देशों के हित में सुरक्षा इंतजामों को बढ़ाना है.

चीन की बढ़ती सैन्य ताकत भी भारत के लिए चिंता का विषय रही है. इसके साथ ही भारत एशिया में संतुलन शक्ति स्थापित करने में भी अमेरिका के लिए मददगार साबित हो सकेगा. ट्रंप सरकार अपनी सबसे बेहतर सैन्य तकनीक को भारत को ऑफर करने के लिए पूरी तरह तैयार है.

यह भी पढ़ें: मई 2019 के 30 महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स घटनाक्रम

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें!

Download our Current Affairs& GK app from Play Store