टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 11 जून 2021

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 11 जून 2021 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से उत्तर पूर्वी अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र और कोरोना वायरस आदि शामिल हैं.

Created On: Jun 11, 2021 18:05 ISTModified On: Jun 11, 2021 17:26 IST

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 11 जून 2021 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से उत्तर पूर्वी अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र और कोरोना वायरस आदि शामिल हैं.

इसरो अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के माध्यम से करेगा पूर्वोत्तर विकास परियोजनाओं में मदद

पूर्वोत्तर क्षेत्र में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का उपयोग अब रेलवे, कृषि, चिकित्सा प्रबंधन, सड़कों और पुलों, समय पर उपयोग प्रमाणपत्रों की खरीद, टेलीमेडिसिन, मौसम, आपदा पूर्वानुमान और प्रबंधन, बाढ़ पूर्वानुमान, बारिश सहित विभिन्न क्षेत्रों में किया जा रहा है.

उत्तर पूर्वी अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (NESAC) को पूर्वोत्तर राज्यों से कई प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं. एक बार पहचान हो जाने के बाद, ऐसी सभी परियोजनाओं को NESAC और संबंधित राज्यों द्वारा संयुक्त रूप से वित्त पोषित किए जाने की संभावना है.

 

UN अध्यक्ष ने भारतीय राजदूत नागराज नायडू को बनाया वरिष्ठ अधिकारी

मालदीव के विदेश मंत्री और संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रेसिडेंट चुने गए अब्दुल्ला शाहिद ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी है. अगले एक साल तक के. नागराज नायडू अब्दुल्ला शाहिद के सहायक के तौर पर कामकाज देखेंगे. मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने ट्वीट कर नागराज को यह जिम्मेदारी दिए जाने की जानकारी दी है.

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में इस पद के लिए नागराज नायडू का मुकाबला अफगानिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री डा. जालमाई रसूल से था. इस क्रम में नागराज नायडू को 143 वोट हासिल हुए वहीं रसूल को केवल 48 वोट मिले. नियुक्ति के बाद नागराज नायडू ने वर्तमान महासभा अध्यक्ष वोल्कन बोजकिर से मुलाकात की.

 

गंदे पानी में कोविड-19 का पता लगाने के लिए सेंसर विकसित

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में अब भारत और ब्रिटेन दोनों देश साथ मिलकर लड़ाई लड़ रहे हैं. इसी क्रम में भारतीय और ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने एक ऐसा सेंसर विकसित किया जो सीवेज के पानी में कोरोना वायरस की मौजूदगी का पता लगा सकता है. फिलहाल, इसका परीक्षण मुंबई में किया जा रहा है.

दोनों देशों के वैज्ञानिकों द्वारा संयुक्त तौर पर तैयार इस सेंसर की लागत भी कम है. इससे इसका उपयोग भारत जैसे विशाल आबादी वाले देश में आसानी से किया जा सकता है. शोधकर्ताओं ने पाया कि सेंसर 10 पिकोग्राम प्रति माइक्रोलीटर जितने सूक्ष्म स्तर पर भी वायरस की आनुवंशिक सामग्री का पता लगाने में सक्षम था.

 

जी-7 शिखर सम्मेलन: कोरोना वैक्सीन की 100 करोड़ डोज़ दान करेंगे विश्व के अमीर देश

ब्रिटेन इस शिखर सम्मेलन की दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड में मेजबानी कर रहा है. इस सम्मेलन में ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा, जापान, जर्मनी, फ्रांस, इटली और यूरोपीय संघ शामिल हैं. शिखर सम्मेलन में भारत, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका को अतिथि देशों के रूप में आमंत्रित किया गया है.

सात राष्ट्रों का समूह जी7 पूरी दुनिया के साथ कोरोना वायरस के टीकों की कम से कम एक अरब खुराकें साझा करने का संकल्प लेगा. ये घोषणा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने की है. इनमें से लगभग आधी खुराकें अमेरिका दान देगा जबकि 10 करोड़ खुराकें ब्रिटेन की तरफ से दी जाएंगी.

 

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

3 + 0 =
Post

Comments