Search

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 19 जुलाई 2019

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 19 जुलाई 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से -सचिन तेंदुलकर और बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला आदि शामिल हैं.

Jul 19, 2019 18:40 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 19 जुलाई 2019 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से -सचिन तेंदुलकर और बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला आदि शामिल हैं.

Google Doodle: चांद पर अमेरिकी मिशन अपोलो 11 के 50 साल पूरे

Google ने अपोलो 11 मिशन के 50 साल पूरे होने पर डूडल बनाकर याद किया है. अपोलो 11 मिशन के तहत नील आर्मस्ट्रांग ने पहली बार चंद्रमा की सतह पर कदम रखा था. ये विश्वभर के लिए गर्व का दिन था. गूगल ने इसी मौके पर एक खास डूडल बनाया है. अपोलो का शुरुआती सफर 16 जुलाई 1969 को शुरू हुआ था और आज इसको पूरे 50 साल हो गए हैं. इस मिशन को नेडी स्पेस सेंटर के केप कनावेरल, फ्लोरिडा स्थित पैड से लॉन्च किया गया था.

नासा ने अपोलो 11 मिशन में कमांड मॉड्यूल कोलिंस ने चांद से करीब 60 मील दूर कक्षा में स्थापित किया है. अपोलो 11 का मिशन उद्देश्य मानव को चांद की सतह पर ले जाने और फिर उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाने का था. अंतरिक्ष यान में तीन चालक दलों को ले जाया गया था.

सचिन तेंदुलकर आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल, जाने क्या है आईसीसी हॉल ऑफ फेम?

आईसीसी ने सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट के हॉल ऑफ फेम में शामिल किया है. सचिन तेंदुलकर के अतिरिक्त दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज एलन डोनाल्ड, ऑस्ट्रेलिया की पूर्व महिला तेज गेंदबाज कैथरीन समेत तीन लोगों को 18 जुलाई 2019 को लंदन में हुए एक समारोह में आईसीसी क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया.

आईसीसी क्रिकेट हॉल ऑफ फेम ऐसा सूची है जिसका मुख्य उद्देश्य क्रिकेट इतिहास के दिग्गज खिलाड़ियों की उपलब्धियों को पहचान कर उन्हें सम्मानित करना है. सचिन तेंदुलकर 100 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शतक लगाने वाले विश्व के इकलौते क्रिकेटर हैं. हॉल ऑफ फेम में शामिल होने के लिए जरुरी है कि खिलाड़ी ने पिछले पांच सालों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच नहीं खेला हो.

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: सुप्रीम कोर्ट ने 9 महीने के भीतर फैसला सुनाने का आदेश दिया

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने 30 सितंबर को सेवानिवृत होने जा रहे विशेष न्यायाधीश का कार्यकाल इस मामले की सुनवाई के समापन तक बढ़ाने का निर्देश भी दिया है. कोर्ट ने सीबीआई के विशेष जज एसके यादव को नौ महीने के अंदर मामले पर फैसला सुनाने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा कि केस की सुनवाई में सबूतों की रिकार्डिंग छह महीने में पूरी कर ली जाए.

केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष जज ने पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट को बताया था कि मुकदमा को पूरी सुनवाई करने में छह महीने का समय और लगेगा. राम मंदिर के लिए होने वाले आंदोलन के समय 06 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था. इस मामले के तहत आपराधिक केस के साथ-साथ दीवानी मुकदमा भी चला. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 30 सितंबर 2010 को अयोध्या टाइटल विवाद में फैसला दिया था.

Download our Current Affairs& GK app from Play Store