ब्रिटेन की कोर्ट ने विजय माल्या को दिवालिया घोषित किया, जानें अब आगे क्या होगा?

कोर्ट के इस फैसले ने अब किंगफिशर कंपनी पर बकाये की वसूली के लिए विजय माल्या की संपत्ति जब्त करने का रास्ता खोल दिया है. 

Created On: Jul 28, 2021 12:05 ISTModified On: Jul 28, 2021 12:05 IST

ब्रिटेन की अदालत ने 26 जुलाई 2021 को भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को दिवालिया (Bankrupt) घोषित कर दिया है. अब इससे भारतीय स्टेट बैंक के कंसोर्टियम को विजय माल्या को दिए गए कर्ज की वसूली करने में मदद मिलेगी. माल्या की संपत्ति को जब्त किया जा सकेगा.

कोर्ट के इस फैसले ने अब किंगफिशर कंपनी पर बकाये की वसूली के लिए विजय माल्या की संपत्ति जब्त करने का रास्ता खोल दिया है. विजय माल्या ने अब बंद हो चुकी अपनी किंगफिशर एयरलाइंस के लिए भारतीय बैंकों से नौ हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज लिया था और जब कंपनी डूबी तो कर्ज चुकाए बिना ही वह लंदन भाग गया.

कोर्ट ने दिवालिया घोषित किया

मुख्य दिवाला और कंपनी न्यायालय (ICC) के न्यायाधीश माइकल ब्रिग्स ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई सुनवाई में कहा कि मैं माल्या को दिवालिया घोषित करता हूं. भारतीय बैकों की तरफ से केस लड़ रहे लॉ फर्म टीएलटी एलएलपी और बैरिस्टर मार्सिया शेकरडेमियन ने इस मामले में पैरवी करते हुए माल्या को दिवालिया घोषित करने की मांग की थी.

फ्रांस में 14 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त

केंद्रीय एजेंसियां समय-समय पर विजय माल्या से जुड़ी हुईं संपत्तियां जब्त करती रही हैं. पिछले साल दिसंबर महीने में मनी लॉन्ड्रिंग कानून के अंतर्गत प्रवर्तन निदेशालय ने फ्रांस में 14 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी. इसके अलावा, हाल ही में ईडी ने विजय माल्या की जब्त की गईं संपत्तियों की नीलामी की थी, जिससे एसबीआई के नेतृत्व वाले विभिन्न बैंकों को 5800 करोड़ रुपये से अधिक मिले थे.

विजय माल्या की कानूनी टीम ने क्या कहा?

विजय माल्या की कानूनी टीम ने कोर्ट में तर्क दिया कि कर्ज विवादित बना हुआ है और भारत में चल रही कानूनी कार्रवाही ब्रिटेन में दिवालियापन के आदेश को बाधित करती है. लेकिन जज ने उसके किसी भी तर्क को स्वीकार नहीं किया. कोर्ट के इस आदेश से भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व वाले भारतीय बैंकों के संघ को कर्ज वसूल करने के लिए दुनिया भर में विजय माल्या की संपत्तियों को फ्रीजिंग करवाने का अधिकार मिल गया है.

भारतीय बैंकों ने याचिका दायर की थी

भगोड़े कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ भारत के 13 बैंकों ने संघ बनाकर लंदन हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. इस संघ में बैंक ऑफ बड़ौदा, कॉर्पोरेशन बैंक, फेडरल बैंक लिमिटेड, आईडीबीआई बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, जम्मू और कश्मीर बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, स्टेट बैंक, बैंक ऑफ मैसूर, यूको बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और जेएम फाइनेंशियल एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड इसमें शामिल थे.

9,000 करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी

ब्रिटेन भाग गए विजय माल्या की भारत में अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के संचालन से जुड़ी कथित 9,000 करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी के संबंध में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा जांच की जा रही है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

5 + 5 =
Post

Comments