उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने विश्व के सबसे लंबे ‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ के निर्माण हेतु मंजूरी दी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि यह दुनिया का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा. प्रयागराज को पश्चिमी यूपी से जोड़ने के लिए एक्सप्रेस-वे बनाने का फैसला लिया गया है.

Created On: Jan 30, 2019 09:54 ISTModified On: Jan 30, 2019 10:17 IST

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में 29 जनवरी 2019 को प्रयागराज में चल रहे कुंभ के दौरान कैबिनेट बैठक आयोजित की गई. इस बैठक में एक महत्वपूर्ण फैसले के तहत 600 किलोमीटर लंबे ‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ बनाने के फैसले पर मुहर लगाई गई है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि यह दुनिया का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा. प्रयागराज को पश्चिमी यूपी से जोड़ने के लिए एक्सप्रेस-वे बनाने का फैसला लिया गया है. इसको बनाने में यूपी सरकार तकरीबन 36 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी.

 

‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ के बारे में जानकारी

  • मेरठ से अमरोहा, बुलंदशहर, बदायूं, शाहजहांपुर, फर्रुखाबाद, हरदोई, कन्नौज, उन्नाव, रायबरेली और प्रतापगढ़ को जोड़ते हुए गंगा एक्सप्रेस-वे प्रयागराज तक आएगा.
  • 600 किमी लंबा यह चार लेन का एक्सप्रेस-वे दुनिया का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा.
  • इस ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए 6556 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी और करीब 36 हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.
  • इसके रास्ते में 6 रेलवे ओवरब्रिज और 18 फ्लाईओवर बनाए जाएंगे.
  • इसके अतिरिक्त गोरखपुर को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जोड़ने की योजना को मंजूरी दी गई है. यह लिंक रोड 91 किलोमीटर लंबा होगा. इसे बनाने में सरकार 5555 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

 

उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने गंगा में स्नान किया तथा प्रयागराज में ही कैबिनेट की बैठक आयोजित की.


यूपी कैबिनेट के अन्य फैसले

•    उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वन ग्रामों में रहने वाले थारू जनजाति को सौ फीसदी आवास देने की योजना शुरू की गई थी. इसी तर्ज पर कुष्ठ रोगियों के लिए आवास योजना शुरू की जा रही है. इससे 3791 कुष्ठ रोगियों को लाभ मिलेगा.

•    कैबिनेट ने तय किया है कि प्रयागराज और चित्रकूट के बीच स्थित पहाड़ी नामक स्थल पर रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमा लगाई जाएगी.

•    वाल्मीकि आश्रम का सौंदर्यीकरण करवाया जाएगा और वहां रामायण शोध संस्थान भी स्थापित किया जाएगा. प्रयागराज से जुड़े शृंगवेरपुर धाम का भी विकास होगा.

•    एम्स की तर्ज पर एसजीपीआई लखनऊ के शैक्षणिक व गैर-शैक्षणिक कर्मियों को सातवें वेतनमान को भी सहमति दे दी गई है.

•    मंडी समितियों के सभापति और उप सभापतियों का भी अब निर्वाचन होगा. किसान समिति के सदस्य होंगे और वही सभापति व उप-सभापति चुनेंगे. अब तक इन पदों पर प्रशासनिक अधिकारी होते थे.

विश्व का सबसे लंबा हाईवे

पैन अमेरिकन हाईवे: पैन-अमेरिकन हाईवे को दुनिया के सबसे लंबे वाहन चलाने योग्य सड़क के रूप में भी जाना जाता है. यह सड़क उत्तरी अमेरिका से दक्षिण अमेरिका की 30,000 मील की यात्रा तय कराती है. इसका नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड  रिकॉर्ड में भी शामिल किया गया है. यह दुनिया के सबसे लंबे राजमार्गों में पहले नंबर पर आता है.

भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे

गंगा एक्सप्रेस-वे आरंभ होने तक लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे है. यह 302 किलोमीटर लंबा है तथा इसके जरिये लखनऊ से आगरा तक की दूरी महज 3 घंटे में पूरी की जा सकती है. इससे पहले यमुना एक्सप्रेस वे (165) देश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे था.


यह भी पढ़ें: चित्रा मुद्गल सहित 24 लेखक साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

8 + 9 =
Post

Comments