Search

वेनेज़ुएला संकट: विश्व में उभरती नई समस्या, जानिए कैसे?

वेनेज़ुएला में जनता द्वारा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन किये जा रहे हैं. विपक्ष के नेता जुआन गोइदो ने स्वयं को देश का नया राष्ट्रपति घोषित कर दिया है.

Jan 25, 2019 19:01 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो द्वारा हाल ही में अमेरिका के साथ सभी राजनीतिक संबंध समाप्त किये जाने की घोषणा की गई. इस घोषणा के बाद वेनेज़ुएला का राजनीतिक संकट एक बार फिर चर्चा में आ गया है.

वेनेज़ुएला में जनता द्वारा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन किये जा रहे हैं. इसमें बहुत से लोगों के मारे जाने और आगजनी की सैंकड़ों घटनाएं सामने आ चुकी हैं. वेनेज़ुएला लंबे समय से आर्थिक संकट झेल रहा था लेकिन अब वह राजनीतिक संकट में भी फंस गया है. वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन से उपजे राजनीतिक संकट में अमेरिका और रूस के अलावा और भी कई देश कूद पड़े हैं जिससे यह एक वैश्विक रूप लेता नज़र आ रहा है.

वेनेज़ुएला संकट क्या है?

  • वेनेजुएला लंबे समय से आर्थिक संकट की समस्या से जूझ रहा है. वेनेज़ुएला के मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो महंगाई रोकने में नाकाम रहे हैं जिसके चलते देश में उनके खिलाफ वृहद स्तर पर रोष प्रदर्शन हो रहे हैं. महंगाई और दवाईयों की कमी के चलते बड़ी संख्या में देश से नागरिकों का पलायन भी हुआ है.
  • निकोलस मादुरो ने जनवरी 2019 के आरंभ में चुनाव जीतकर लगातार दूसरी बार राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी. इस शपथ ग्रहण समारोह के बाद से ही उनपर चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाया गया. विपक्ष के नेता जुआन गोइदो की अपील के बाद लाखों लोगों ने सड़क पर उतरकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किए हैं. इन प्रदर्शनों में लगभग 30 लोगों की मौत भी हो चुकी है.
  • ताज़ा घटनाक्रम में विपक्ष के नेता जुआन गोइदो ने स्वयं को देश का नया राष्ट्रपति घोषित कर दिया जिसके बाद प्रदर्शनों ने हिंसक रूप ले लिया है. अमेरिका ने मादुरो सरकार को अवैध घोषित करते हुए गोइदो का समर्थन किया जबकि रूस और सहयोगी देशों ने मादुरो को समर्थन दिया है.

 

 



वेनेज़ुएला vs अमेरिका कैसे?

•    वेनेज़ुएला में राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ हो रहे देशव्यापी प्रदर्शनों के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा दखल देते हुए कहा गया कि मादुरो को देश का मिजाज़ देखते हुए राष्ट्रपति पद छोड़ देना चाहिए.

•    जबकि, मादुरो ने घोषणा की है कि वे 2025 तक राष्ट्रपति पद पर बने रहेंगे और पद नहीं छोड़ेंगे.

•    निकोलस मादुरो ने अमेरिका के साथ वेनेज़ुएला के राजनैतिक संबंध समाप्त करने की भी घोषणा की.

•    अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा इस घोषणा की आलोचना की गई तथा डोनाल्ड ट्रम्प ने मादुरो सरकार को अवैध घोषित कर दिया तथा विपक्षी दल के नेता को समर्थन देते हुए उसे राष्ट्रपति के तौर पर मान्यता प्रदान कर दी.

•    अमेरिकी सरकार ने कहा है कि वह ‘‘अंतरिम राष्ट्रपति गोइदो’’ के साथ राजनयिक संबंध बनाए रखेगा और देश में आवश्यकता पड़ने पर सैन्य हस्तक्षेप के विकल्प पर सार्वजनिक तौर पर विचार करेगा.

•    राष्ट्रपति निकोलस मादुरो को विपक्षी दल के नेता जुआन गोइदो द्वारा सीधी चुनौती दिए जाने के बीच देश की शक्तिशाली सेना ने मादुरो को अपना समर्थन दिया है और पूरे घटनाक्रम से संकट ग्रस्त देश का भविष्य अधर में लटक गया है

डोनाल्ड ट्रम्प का ट्वीट: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा मादुरो की सरकार गैरकानूनी है जिस वजह से वेनेजुएला के लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. मैं आधिकारिक तौर पर नेशनल असेंबली के अध्यक्ष जुआन गोइदो को देश के अंतरिम राष्ट्रपति के तौर पर मान्यता देता हूं.”

 

 

वेनेज़ुएला संकट वैश्विक समस्या कैसे?

•    निकोलस मादुरो के दोबारा राष्ट्रपति बनने के बाद विपक्ष के नेता जुआन गोइदो ने स्वयं को राष्ट्रपति घोषित किया जिसे अमेरिका और ब्राजील, अर्जेंटीना और कोलंबिया सहित 12 क्षेत्रीय ताकतों ने समर्थन दिया है.

•    दूसरी ओर, रूस और चीन मादुरो के साथ है. मादुरो को मेक्सिको, क्यूबा और बोलीविया का समर्थन भी प्राप्त है.

•    देश के अंदर नागरिकों के मादुरो के खिलाफ प्रदर्शन करने के बावजूद देश की सेना ने मादुरो का समर्थन किया है, जिसका अर्थ है कि नागरिकों के प्रदर्शन को दबाया भी जा सकता है. इसी के चलते अमेरिका ने वेनेज़ुएला में सैन्य हस्तक्षेप का विकल्प भी खुला रखा है जिसका रूस और चीन विरोध कर रहे हैं.

•    रूस ने कहा है कि विपक्षी नेता गोइदो की घोषणा "अराजकता और रक्तपात का सीधा रास्ता" है. रूस की ओर से एक बयान जारी करके कहा गया है, "हम ऐसे जोख़िमों के ख़िलाफ़ चेतावनी देते हैं जो विनाशकारी परिणामों की तरफ जाते हैं."

•    चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ख्वा चुनयिंग ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर कहा, "चीन वेनेज़ुएला के अपनी राष्ट्रीय संप्रभुता, स्वतंत्रता और स्थायित्व बचाए रखने के प्रयासों का समर्थन करता है. चीन ने हमेशा अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने के सिद्धांत को आगे बढ़ाया है और वेनेज़ुएला में बाहरी मध्यस्था का विरोध किया है."

 

यह भी पढ़ें: भारतीय नौसेना ने सबसे बड़ा तटीय रक्षा अभ्यास शुरू किया

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS