Search

WHO द्वारा सड़क सुरक्षा पर वैश्विक स्थिति रिपोर्ट-2018 जारी

अफ्रीका में सड़क यातायात में होने वाली मृत्यु की दर सबसे अधिक, प्रति 100,000 की जनसंख्या पर 26.6 है और यूरोप में सबसे कम, प्रति 100,000 की आबादी पर 9.3, है.

Dec 10, 2018 12:20 IST

हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सड़क सुरक्षा पर वैश्विक स्थिति रिपोर्ट- 2018 जारी की है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सड़क हादसों में होने वाली मौतों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है.

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में कहा गया है कि सड़क हादसों में मरने वालों की संख्या वार्षिक 1.35 मिलियन हो गई है. यह भी बताया गया कि विश्व में प्रत्येक 23 सेकेंड में सड़क दुर्घटना के कारण एक मौत होती है.

रिपोर्ट में बताया गया कि 5 से 29 वर्ष की आयु के बच्चों की मौत का एक प्रमुख कारक सड़क हादसों में लगी चोट है. इस रिपोर्ट से पता चलता है कि कुछ मध्यम और उच्च आय वाले देशों में मौजूदा सड़क सुरक्षा प्रयासों के कारण इस स्थिति में कमी आई है.

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

•    अफ्रीका में सड़क यातायात में होने वाली मृत्यु की दर सबसे अधिक (प्रति 100,000 की जनसंख्या पर 26.6) है और यूरोप में सबसे कम (प्रति 100,000 की आबादी पर 9.3) है.

•    रिपोर्ट के पिछले संस्करण के बाद से दुनिया के तीन क्षेत्रों- अमेरिका, यूरोप और पश्चिमी प्रशांत में सड़क यातायात की मौत दरों में गिरावट आई है.

•    सड़क यातायात में होने वाली कुल मौतों में मोटरसाइकिल सवार और यात्रियों की हिस्सेदारी 28% है, लेकिन कुछ क्षेत्रों में यह अनुपात अधिक है, उदाहरण के लिये दक्षिण-पूर्व एशिया में यह 43% और पश्चिमी प्रशांत में 36% है.

•    सड़क सुरक्षा पर WHO की वैश्विक स्थिति रिपोर्ट हर दो से तीन साल जारी की जाती है, और सड़क सुरक्षा कार्यवाही के दशक 2011-2020 हेतु महत्त्वपूर्ण निगरानी उपकरण के रूप में कार्य करती है.

•    सड़क सुरक्षा पर वैश्विक स्थिति रिपोर्ट 2018 ब्लूमबर्ग फिलेंथ्रोपिज़ द्वारा वित्त पोषित है.

भारत के संदर्भ में रिपोर्ट


•    डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार भारत में सड़क दुर्घटना में मरने वालों की दर प्रति 100,000 पर 22.6 है.

•    भारत के शहरों में यातायात दुर्घटनाओं में कमी आई है और मीडिया अभियानों तथा मजबूत प्रवर्तन के माध्यम से अधिकाँश शहरों में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की संख्या में कमी आई है.

•    भारत ने लोगों की सुरक्षा के लिये आवश्यक अधिकांश नियमों को स्थापित किया है, लेकिन ये नियम सडकों पर होने वाली मौतों के आँकड़ों को कम करने में असफल रहे हैं.

•    रिपोर्ट में पाया गया कि सतत् विकास लक्ष्यों 2030 की प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिये सरकारों को अपने सड़क सुरक्षा प्रयासों को बढ़ाने की आवश्यकता है.

 

यह भी पढ़ें: नीति आयोग ने की कृत्रिम बौद्धिकता पर विश्व हैकथॉन की शुरूआत