Search

विश्व हेपेटाइटिस दिवस 2019, जानें हेपेटाइटिस के कारण, लक्षण और बचाव

विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को हेपेटाइटिस के लिए जागरूक करना है. हेपेटाइटिस वायरस के काऱण होने वाली यह एक संक्रामक बीमारी है. यह बीमारी मनुष्य के साथ बंदरों की प्रजाति के लीवर को भी संक्रमित करती है.

Jul 28, 2019 12:11 IST

पूरे विश्व में विश्व हेपेटाइटिस दिवस 28 जुलाई 2019 को मनाया गया. यह दिवस लोगों में इस बीमारी की रोकथाम, परीक्षण और उपचार के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है. हेपेटाइटिस से हरेक साल करीब 14 लाख लोगों की मृत्यु होती है.

हेपेटाइटिस होने पर ये शरीर में विभिन्न तरह के दिक्कतों का भी कारण बनती है. हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किये गए रिपोर्ट के अनुसार, पुरुषों में हेपेटाइटिस का असर उनकी फर्टिलिटी पर पड़ता है. भारत में हेपटाइटिस फैलने का मुख्य कारण मां से बच्चे में वायरस का संचारित होना है.

उद्देश्य और विषय:

विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को हेपेटाइटिस के लिए जागरूक करना है. लोगों में जागरुकता न होने के कारण लोग सही समय पर हेपेटाइटिस का टीका नहीं लगवाते हैं, जिसके कारण यह बीमारी बढ़ती जाती है और एक खतरनाक रूप धारण कर लेती है.

विश्व हेपेटाइटिस दिवस वर्ष 2019 का विषय हेपेटाइटिस उन्मूलन के निवेश करें है. इसमें सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज के तहत साल 2030 तक वैश्विक स्तर पर हेपेटाइटिस उन्मूलन उद्देश्यों को प्राप्त करने हेतु ज़रूरी अधिक निवेश के नए अनुमान शामिल हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट:

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार, विश्वभर में 36 करोड़ से ज्यादा लोग हेपेटाइटिस के गंभीर वायरस से ग्रसित हैं. भारत में करीब चार करोड़ लोग इस वायरस के संक्रमण से ग्रसित हैं. ये सभी हेपेटाइटिस बी के वायरस से इंफेक्टेड हैं.

हेपेटाइटिस के बारे में:

हेपेटाइटिस वायरस के काऱण होने वाली यह एक संक्रामक बीमारी है. यह बीमारी मनुष्य के साथ बंदरों की प्रजाति के लीवर को भी संक्रमित करती है, जिस कारण से लीवर में सूजन और जलन पैदा होती है. हेपेटाइटिस यकृत की सूजन है, जिसे यकृत के ऊतकों में सूजन वाली कोशिकाओं की मौजूदगी से पहचाना जाता हैं.

हेपेटाइटिस के पांच प्रकार के होते हैं हेपेटाइटिस- ए, बी, सी, डी और ई. विश्व की जनसंख्या के एक तिहाई लोग हेपेटाइटिस वायरस से संक्रमित है. हेपेटाइटिस वायरस का संचरण संक्रमित रक्त या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में जाने से होता है.

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें!

हेपेटाइटिस के लक्षण:

हेपेटाइटिस के मुख्य लक्षण में व्‍यक्ति की आंखें और शरीर का रंग पीला पड़ने लगता है. इस संक्रमण की मुख्य पहचान पीलिया, सफेद या काली दस्त, अतिसंवेदनशील त्वचा, भूख मिट जाना, अपच और उल्टी, पेट में दर्द, पेट में सूजन, थकान जैसे लक्षण है. इन लक्षणों के अतिरिक्त बीमार महसूस करना, सिरदर्द होना, चिड़चिड़ापन बढ़ना, अचानक शरीर नीला पड़ना इत्यादि भी हो सकते है.

हेपेटाइटिस से बचाव

हेपटाइटिस, मॉनसून के दौरान अधिक फैलता है, इसलिए इस मौसम में तैलीय, मसालेदार, मांसाहारी और भारी खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए. इस बीमारी से बचने के लिए शाकाहारी आहार, ब्राउन राइस, हरी पत्तेदार सब्जियां, विटमिन सी युक्त फल, पपीता, नारियल पानी, सूखे खजूर, किशमिश, बादाम और इलायची का भरपूर मात्रा में सेवन करना चाहिए.

विश्व हेपेटाइटिस दिवस:

विश्व हेपेटाइटिस दिवस साल 2010 से मनाया जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा चिह्नित किए गए आठ वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मई 2010 में एक प्रस्ताव पारित कर यह दिवस मनाने की घोषणा की थी. इससे पहले क्रोनिक वायरल हैपेटाइटिस के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए विश्व हेपेटाइटिस एलायंस ने साल 2008 में अभियान चलाया था.

28 जुलाई प्रोफेसर बारूक ब्लमबर्ग का जन्मदिन है, उन्होंने हेपेटाइटिस बी वायरस की खोज की थी. उन्हें इस खोज के लिए साल 1976 में चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

यह भी पढ़ें:Kargil Vijay Diwas: ऑपरेशन विजय को 20 साल पूरे

यह भी पढ़ें:फैक्ट बॉक्स: जानिए चंद्रशेखर आजाद (113वीं जयंती) से जुड़ी रोचक जानकारी

For Latest Current Affairs & GK, Click here