Search

World Mental Health Day 2019: जाने कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस?

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का मुख्य उद्देश्य विश्वभर में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 2019 की थीम आत्महत्या की रोकथाम रखी गई है.

Oct 10, 2019 12:55 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

World Mental Health Day 2019 in hindi: विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस प्रत्येक साल 10 अक्टूबर को पूरी दुनिया में मनाया जाता है. यह दिवस मानसिक स्वास्थ्य के विषय में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से मनाया जाता है.

व्यक्ति के लिए शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य भी स्वस्थ रखना बहुत जरूरी होता है. कोई भी व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है तो अपनी क्षमता से अधिक कार्य करने की कोशिश करता है, लेकिन व्यक्ति मानसिक रूप से अस्वस्थ रहेगा तो उसकी कार्यक्षमता पर प्रभाव पड़ता है.

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का उद्देश्य

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का मुख्य उद्देश्य विश्वभर में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाने का एक मुख्य कारण यह भी है की विश्व में हर वर्ग के लोगों को इस बीमारी के बारे में पता चले तथा वो उस लिहाज से उसके बचाव हेतु पहले से तैयार रहें.

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की थीम

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 2019 की थीम ‘आत्महत्या की रोकथाम’ (Suicide Prevention) रखी गई है. इस बार का विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का थीम ‘आत्महत्या की रोकथाम’ इसलिए रखा गया है क्योंकि बढ़ती हुई आत्महत्यों के बारे में लोगों को बताना है तथा इस दिवस के बारे में लोगों को जागरूक करना है. लोगों के बीच मानसिक परेशानी की रोकथाम की शुरूआत जागरूकता बढ़ाकर तथा मानसिक रोग के प्रारंभिक चेतावनी संकेतों एवं लक्षणों को समझाकर करनी चाहिए.

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का इतिहास

विश्व मानसिक स्वास्थ्य संघ ने साल 1992 में विश्वभर के लोगों के मानसिक स्वास्थ्य देखभाल को वास्तविक रूप देने हेतु विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की स्थापना की थी. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार लगभग 450 मिलियन लोग विश्वभर में मानसिक विकार से ग्रस्त हैं.

चार व्यक्तियों में से एक व्यक्ति मानसिक विकार से ग्रस्त

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, विश्वभर में चार व्यक्तियों में से एक व्यक्ति मानसिक विकार से ग्रस्त है. इनमें लगभग 10 साल से 19 साल की उम्र के व्यक्तियों की वैश्विक रोग भार में 16 फीसदी हिस्सेदारी है.

मानसिक रोग क्या है?

मानसिक रोग बहुत से प्रकार का हो सकता है. इसमें मस्तिष्क से जुड़े प्रत्येक तरह की समस्याओं को शामिल किया जा सकता है. जैसे अल्जाइमर, ऑटिज्म, डिप्रेशन, तनाव, चिंता, डिस्लेक्सिया, कमजोर याददाश्त, डर लगना, भूलने की आदत आदि है.

मानसिक रोग के कारण क्या है?

मानसिक रोग होने के बहुत से कारण हो सकते है. मानसिक रोग होने का अधिक संभावना उन लोगों में होता है जिनके रिश्तेदारों को भी मानसिक बीमारी होती है. न्यूरोट्रांसमीटर स्वाभाविक रूप से वातावरण के प्रभाव में मस्तिष्क के रसायनों को आपके दिमाग तथा शरीर के अन्य भाग में ले जाता है. इनसे जुड़े तंत्रिका तंत्र जब ठीक से काम नहीं करता हैं तो तंत्रिका तंत्र में कुछ परिवर्तन हो जाते हैं और लोगों को डिप्रेशन की समस्या हो जाती है. कभी-कभी शराब या ड्रग्स के पीने से भी मानसिक रोग हो सकते हैं.

मानसिक रोग के लक्षण क्या है?

मानसिक रोग के कुछ लक्षण इस प्रकार है जैसे की उदास रहना, व्याकुल होना, मन न लगना, डर लगना, बार-बार मन में परिवर्तन होना, थकान, कमजोरी होना तथा नींद में दिक्कतों का सामना करना आदि. दैनिक कार्यों में कभी-कभी असमर्थता तथा भूलने की समस्या होना भी मानसिक रोग के लक्षण है.

यह भी पढ़ें:अंतरराष्ट्रीय कॉफी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

मानसिक रोग को दूर करने के उपाय

मानसिक रोग को दूर करने का सबसे बढ़िया उपाय आत्मविश्वास बढ़ाना तथा खुद की एहमियत एवं कीमत को समझना है. अपने परिवार के साथ थोड़ा समय बिताने की कोशिश करना चाहिए. मानसिक रोग को दूर करने के लिए अपने आप को जितना हो सके व्यस्त रखे. इस रोग को दूर भगाने का सबसे मुख्य और आसान तरीका मनोचिकित्सक की सलाह लेना भी है.

यह भी पढ़ें:World Tourism Day 2019: क्यों मनाया जाता है विश्व पर्यटन दिवस, जाने इसके उद्देश्य और महत्व

यह भी पढ़ें:World Alzheimer's Day 2019: जानिए क्या है अल्जाइमर, लक्षण और बचाव

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी,अभी डाउनलोड करें| Android|IOS

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS