Search

Yoda Day 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योग दिवस पर कहीं यह 10 प्रमुख बातें

योग दिवस 2019 के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाग लेने वाले लोगों को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने यहां कहा कि आज देश-दुनिया के अनेक हिस्सों में लाखों लोग योग दिवस मना रहे हैं.

Jun 21, 2019 10:38 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 जून 2019 को पांचवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर झारखंड कि राजधानी रांची में योग किया. पीएम मोदी के साथ तकरीबन 40 हजार लोगों ने भी योग किया. इसके अलावा केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने हरियाणा के रोहतक में राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ योग किया.

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 13 योगासन किये जिसके लिए उन्होंने 45 मिनट तक मैदान पर योग किया. इससे पहले अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस का मुख्‍य समारोह 2015 में नई दिल्‍ली में, 2016 में चंडीगढ़ में, 2017 में लखनऊ में और 2018 में देहरादून में आयोजित किया गया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कही गई 10 प्रमुख बातें

•    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि "ड्राइंग रूम से बोर्ड रूम तक, शहरों के पार्क से लेकर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स तक आज योग है. गली-कूचों से वेलनेस सेंटर्स तक आज चारों तरफ योग को अनुभव किया जा सकता है.”
•    पीएम मोदी ने कहा कि "योग अनुशासन है, समर्पण है और इसका पालन पूरे जीवन भर करना होता है. योग आयु, रंग, जाति, संप्रदाय, मत, पंथ, अमीरी-गरीबी, प्रांत और सरहद के भेद से परे है. योग सबका है और सब योग के हैं."
•    प्रधनमंत्री मोदी ने योग के महत्व के बारे में लोगो कों संबोधित करते हुए कहा कि आज के बदलते हुए समय में बीमारी से बचाव के साथ-साथ वेलनेस पर हमारा फोकस होना जरूरी है. यही शक्ति हमें योग से मिलती है, इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन योग करना चाहिए.
•    लोगों से अपील करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि "अब मुझे आधुनिक योग की यात्रा शहरों से गांवों की तरफ ले जानी है, गरीब और आदिवासी के घर तक ले जानी है.”
•    “मुझे योग को गरीब और आदिवासी के जीवन का भी अभिन्न हिस्सा बनाना है, क्योंकि ये गरीब ही है जो बीमारी की वजह से सबसे ज्यादा कष्ट पाता है."
•    प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं के दिल से सम्बंधित बीमारियों के चपेट में आने के बढ़ते मामलों के मद्देनजर कहा कि योग इस बीमारी के रोकथाम में अहम भूमिका निभा सकता है इसलिये इस साल की थी 'योग फॉर हॉर्ट (हृदय के लिये योग) रखी गई है.
•    प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं कों गुरुमंत्र देते हुए कहा कि आज के समय में पानी-पोषण-परिश्रम-पर्यावरण बेहद जरुरी हैं तथा योग द्वारा इनके बीच सामंजस्य स्थापित किया जा सकता है.
•    विदित हो कि 21 जून को योग दिवस मनाने का विचार सर्वप्रथम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने एक भाषण के दौरान प्रस्तावित किया था.
•    उन्होंने इस दिन योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखते हुए कहा था कि उत्तरी गोलार्ध में 21 जून वर्ष का सबसे बड़ा दिन होता है। 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इस प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए प्रत्येक वर्ष 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की घोषणा की.

रांची को योग दिवस का आयोजन स्थल क्यों चुना गया?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रांची में वर्ष 2019 के लिए योग दिवस आयोजित किये जाने के तीन प्रमुख कारण बताए:-

•    उन्होंने कहा कि यह राज्य प्रकृति के करीब है, यही कारण है कि उन्होंने यहां पर योग दिवस मनाने का निर्णय किया.
•    इसके अलावा हमारी सरकार ने आयुष्मान योजना की शुरुआत भी रांची से ही की थी, इसलिए यहां पर योग दिवस मनाना लाजमी था.
•    रांची और स्वास्थ्य का रिश्ता इतिहास में दर्ज है. अब हमें योग को एक अलग स्थान पर ले जाना है. अब हमें गरीबों के घर तक योग को पहुंचाना है.