1. Home
  2.  |  
  3. GENERAL KNOWLEDGE
  4.  |  
  5. अर्थव्यवस्था
  6.  |  
  7. भारतीय अर्थव्यवस्था
  8.  |  
  9. अंतरराष्ट्रीय एजेंसियाँ और व्यापार

अंतरराष्ट्रीय एजेंसियाँ और व्यापार

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

भारत में विनिमय दर प्रबंधन: इतिहास और प्रकार

विदेशी मुद्रा बाजार वह बाजार है जिसमे विदेशी मुद्राओं को खरीदा व बेचा जाता है। सन 1971 तक IMF के एक सदस्य होने के नाते भारत में ‘निशिचित विनिमय दर प्रणाली' का पालन होता था । ब्रेटन वुड्स प्रणाली के 1971 में ध्वस्त होने के बाद रुपए का मूल्य चार साल तक पौंड के द्वारा निर्धारित होता रहा परन्तु बाद में यह व्यवस्था भी ख़त्म हो गयी I वर्तमान में भारत में प्रबंधित विनिमय दर प्रणाली चलन में है।

दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार क्षेत्र (साफ्टा) और आसियान

दक्षिण एशियाई वरीयता व्यापार समझौता (साप्टा) को 1995 में लागू किया गया। जो कि 2004 से साफ्टा में बदल गया था । इन दोनों समझौते का लक्ष्य दक्षिण एशिया में व्यापार संबंधी बाधाओं को दूर करना है और सार्क देशों के बीच अधिक उदार व्यापार व्यवस्था कायम किए जाने का प्रावधान है।

जानें विश्व के किन देशों में सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है?

May 26, 2017
OECD की ग्लोबल रिपोर्ट के अनुसार, विश्व में सबसे ज्यादा सैलरी देने वाला देश लक्जमबर्ग है, जहाँ पर कर्मचारी को प्रति वर्ष 40 लाख रुपये मिलते हैं. इसके बाद अमेरिका का नंबर आता है जहाँ पर एक कर्मचारी को औसतन 37.85 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलता है. भारत में अत्यधिक कुशल कर्मचारी को औसतन 6 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलते हैं.

विश्व के किन देशों में सबसे ज्यादा टैक्स लगता है?

Oct 24, 2017
हर देश अपनी अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए अपने नागरिकों की आय पर, उत्पादन क्रियाओं और सेवाओं पर कर लगाता है. जब सरकार के पास कर इकठ्ठा हो जाता है तो वह इसका प्रयोग देश में आधारभूत सुविधाओं जैसे बिजली, पानी, शिक्षा, अस्पताल और सड़क बनाने में करता है ताकि लोगों के कल्याण में वृद्धि की जा सके.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ): उद्देश्य और दायित्व

Oct 24, 2017
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) एक अंतरसरकारी संगठन है जिसकी स्थापना अंतरराष्ट्रीय व्यापार में विनिमय दर को स्थिर करने के लिए की गई थी। यह सदस्य देशों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में पर्याप्त तरलता के माध्यम से उनके भुगतान संतुलन (बीओपी) में सुधार में मदद करता है, वैश्विक मौद्रिक सहयोग में बढ़ोतरी को बढ़ावा देता है। यह ब्रिट्टन वुड्स ट्विन्स में से एक है जो 1945 में अस्तित्व में आया था।

चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा क्या है और भारत इसका विरोध क्यों कर रहा है

May 15, 2017
चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (CPEC) पाकिस्तान के ग्वादर से लेकर चीन के शिनजियांग प्रांत के काशगर तक लगभग 2442 किलोमीटर लम्बी एक वाणिज्यिक परियोजना है l इस परियोजना की लागत 46 अरब डॉलर आंकी जा रही है l इस परियोजना का प्रमुख उद्येश्य रेलवे और हाइवे के माध्यम से तेल और गैस का कम समय में वितरण करना है।

अंतरराष्ट्रीय वित्त निगम और मीगा (MIGA): कार्य और उद्येश्य

May 15, 2017
विश्व बैंक समूह (WBG) पांच अंतरराष्ट्रीय संगठनों का एक परिवार है। ये संगठन हैं– अंतरराष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक (IBRD), अंतरराष्ट्रीय विकास संघ (IDA), अंतरराष्ट्रीय वित्त निगत (IFC), बहुपक्षीय निवेश गारंटी एजेंसी (MIGA) और अंतरराष्ट्रीय निवेश विवाद निपटान केंद्र (ICSID). आईएफसी का गठन जुलाई 1956 में हुआ था। यह विकासशील देशों को बिना किसी सरकारी गारंटी के निजी उद्योगों को ऋण (बिना किसी व्याज भुगतान के) मुहैया कराता है MIGA अप्रैल 1988 में अस्तित्व में आया था।

दुनिया के 5 सबसे अधिक ऋणग्रस्त देशों की सूची

Sep 16, 2016
जब किसी देश का व्यय साल दर साल उसकी आय से अधिक होता जाता है तो वह देश ऋण के जाल में फंस जाता है| तथ्यों के विश्लेषनात्मक अध्ययन के बाद हमने पाया कि जापान दुनिया का सबसे अधिक ऋणग्रस्त देश है, जिसके ऊपर उसके सकल घरेलू उत्पाद का 229% कर्ज है। जबकि ग्रीस और लेबनान का स्थान क्रमशः दूसरा एवं तीसरा है|

आसियान शिखर सम्मेलनों की सूचि

Sep 16, 2016
आसियान (स्थापना अगस्त,1967) शिखर सम्मेलन, दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के सांस्कृतिक, आर्थिक मामलों पर अर्ध वार्षिक स्तर पर होने वाला सम्मलेन है यह मीटिंग 3 दिन तक चलती है जिसमे इसके 10 सदस्य देश शामिल होते हैं | इसके सदस्य देश:- ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, म्यांमार, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम  हैं |

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) अपने सदस्य देशों को लोन कैसे देता है?

Mar 22, 2019
अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष अपने सदस्य देशों के प्रतिकूल संतुलन को समाप्त करने के लिए सदस्य देशों को आर्थिक सहायता प्रदान करता है. विश्व में अंतर्राष्ट्ररीय नकदी की समस्या को दूर करने के लिए इसने विशेष आहरण अधिकार (Special Drawing Rights) की शुरुआत 1971 में की थी. SDR एक ऐसी रिज़र्व मुद्रा है जिसके द्वारा IMF का सदस्य देश विदेशी भुगतानों के लिए अन्य सदस्य देशों से अपने कोटे के SDR के बदले में विदेशी मुद्राएँ प्राप्त कर अपने ऋणों या भुगतानों को चुका देता है.

विश्व इतिहास में सबसे बड़ी महामंदी कब, कहाँ और क्यों आई थी?

Nov 16, 2018
वर्ष 1929 में शुरू हुई महामंदी के आने से पहले विश्व के उद्योगपतियों की धारणा यह थी कि “पूर्ती अपनी मांग स्वयं पैदा कर लेती है”. इसी विचारधारा के कारण उद्योगपतियों ने उत्पादन बढ़ाने पर ध्यान दिया उसकी बिक्री पर नहीं. एक समय ऐसा आ गया कि बाजार में वस्तुओं और सेवाओं की पूर्ती ज्यादा हो गयी और मांग कम. इसी कारण पूरा विश्व महामंदी की चपेट में आ गया था.

 «   Prev 1  2  3  

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_laddergolden_goalquiz_master

Register to get FREE updates

  • All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Get App