1. Home
  2.  |  
  3. GENERAL KNOWLEDGE
  4.  |  
  5. पर्यावरण और पारिस्थितिकीय

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

बायो टॉयलेट किसे कहते हैं?

Oct 14, 2019
भारत सरकार ने 2013 से हाथ से मैला उठाने की प्रथा को प्रतिबंधित कर दिया है. इसी कारण भारतीय रेलवे में भी मल से सम्बंधित सभी काम अब मशीन के द्वारा ही कराये जाने की प्रणाली को शुरू करने के लिए सरकार ने ट्रेन में बायो टॉयलेट्स या जैविक शैचालयों को लगाने के निश्चय किया है. बायो टॉयलेट (Bio Toilet), परम्परागत टॉयलेट से अलग एक ऐसा टॉयलेट होता है जिसमें बैक्टेरिया की मदद से मानव मल को पानी और गैस में बदल दिया जाता है.

मौसम के रेड, ऑरेंज और येलो अलर्ट क्या होते हैं और कब जारी किये जाते हैं?

Sep 30, 2019
बिहार में बाढ़ की हालत बिगड़ने के बाद मौसम विभाग ने वहां पर येलो अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग, इस अलर्ट के अलावा अन्य अलर्ट जैसे रेड अलर्ट, ऑरेंज अलर्ट, और ग्रीन अलर्ट को जारी करता है. चेतावनी देने के लिए रंगों का चुनाव कई एजेंसियों के साथ मिलकर किया जाता है. इन अलर्ट को मौसम के ख़राब होने की तीव्रता के आधार पर जारी किया जाता है. यानि भीषणता के माध्यम से रंग बदलते रहते हैं. क्या आप इन सभी अलर्ट का मतलब जानते हैं.? यदि नहीं तो आइये इस वीडियो के माध्यम से जानते हैं.

विश्व ओजोन दिवस: मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल

Sep 16, 2019
विश्व ओजोन दिवस (when world ozone) की शुरुआत 1987 में मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर करने साथ ही हुई थी. मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर 16 सितम्बर 1987 को हुए थे लेकिन 16 सितम्बर को विश्व ओजोन दिवस के रूप में मनाने कीई शुरुआत संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली के द्वारा 1994-95 में की गयी थी. विश्व ओजोन दिवस 2019 की थीम है;'32 years and Healing'.

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान, बाघों का स्वर्गः तथ्य एक नजर में

May 3, 2019
जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है | इसकी स्थापना विलुप्तप्राय बंगाल टाइगरों की रक्षा के लिए 1936 में की गई थी। यह उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित है और इसका नाम इसकी स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले जिम कॉर्बेट के नाम पर रखा गया है। प्रोजेक्ट टाइगर पहल के तहत आने वाला यह पहला उद्यान था। इसका क्षेत्रफल 520.82 वर्ग मील है।

अर्थ आवर (Earth Hour) क्या है और यह हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

Mar 30, 2019
पिछले कुछ दिनों से समाचार-पत्रों, पत्रिकाओं, विभिन्न टीवी चैनलों और इंटरनेट पर अर्थ ऑवर (Earth Hour) की चर्चा चल रही हैl जिसके कारण हर किसी के मन में यह उत्सुकता हो सकती है कि अर्थ ऑवर (Earth Hour) क्या है और किस कारण से यह इतनी चर्चा में है? इस लेख में हम यही जानने की कोशिश कर रहे है कि आखिर यह अर्थ ऑवर (Earth Hour) क्या है और यह किस प्रकार हमारे लिए महत्वपूर्ण है?

विश्व जल दिवस की महत्ता और जल के उपयोग से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

Mar 22, 2019
आज पूरी दुनिया औद्योगीकरण की राह पर चल रही है, किंतु स्वच्छ और रोग रहित जल मिल पाना कठिन होता जा रहा हैl विश्व भर में साफ और पीने योग्य जल की अनुपलब्धता के कारण ही जल जनित रोग महामारी का रूप ले रहे हैंl कहीं-कहीं तो यह भी सुनने में आता है कि अगला विश्व युद्ध जल को लेकर ही होगाl विश्व के हर नागरिक को पानी की महत्ता से अवगत कराने के लिए ही संयुक्त राष्ट्र ने "विश्व जल दिवस" मनाने की शुरुआत की थी। इस लेख में हम विश्व जल दिवस की महत्ता और जल के उपयोग से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों का विवरण दे रहे हैंl

विश्व के 10 सबसे बड़े समुद्री संरक्षित क्षेत्र

Mar 15, 2019
IUCN के अनुसार, विश्व में लगभग 5000 से ज्यादा समुद्री संरक्षित क्षेत्र नामित हैं। यह विश्व के 10 सबसे बड़े समुद्री संरक्षित क्षेत्र हैं जिसमें वैश्विक समुद्री क्षेत्र के 74% संरक्षित और 80% वैश्विक आरक्षित क्षेत्र शामिल हैं। इस लेख में हमने विश्व के 10 सबसे बड़े समुद्री संरक्षित क्षेत्रों को सूचीबद्ध किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

विकसित ऊर्जा दक्षता के लिए राष्ट्रीय मिशन क्या है?

Feb 27, 2019
भारत विश्व का पांचवां ऐसा देश है जिसकी ऊर्जा दक्षता सबसे कम है जिसका अर्थ है कि भारत में जीडीपी ऊर्जा की खपत का अनुपात बहुत खराब है। इसलिए, भारत को ऊर्जावान देशों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए, विकास और ऊर्जा दक्षता पर समझौता किए बिना जीवाश्म ईंधन के उपयोग को कम करने के लिए रणनीतिक योजना पर काम करना बेहद जरुरी है। इस लेख में हमने विकसित ऊर्जा दक्षता के लिए राष्ट्रीय मिशन की पहल और दक्षता पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

जलवायु परिवर्तन के ज्ञान का रणनीतिक मंच क्या है?

Feb 26, 2019
जलवायु परिवर्तन के ज्ञान का रणनीतिक मंच, जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपीसीसी) के तहत आठ मिशनों में से एक है, जिसका उद्देश्य मौजूदा ज्ञान संस्थानों की नेटवर्किंग, क्षमता निर्माण और प्रमुख जलवायु प्रक्रियाओं तथा जलवायु जोखिमों की समझ में सुधार करना है। इस लेख में हमने जलवायु परिवर्तन के ज्ञान का रणनीतिक मंच के उद्देश्य और कार्यात्मक क्षत्रों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र पोषणीय मिशन क्या है?

Feb 25, 2019
जलवायु परिवर्तन के खतरों से निपटने के लिए 2008 में भारत सरकार द्वारा आठ मिशन वाली ‘राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन कार्ययोजना’ (NAPCC) प्रारंभ की गई थी। हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र पोषणीय मिशन जलवायु परिवर्तन की चुनौती से निपटने के लिए भारत के आठ मिशनों में से एक है।इस लेख में हमने राष्ट्रीय हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र पोषणीय मिशन या नेशनल मिशन फॉर सस्टेनिंग द हिमालयन इकोसिस्टम (NMSHE) कार्यात्मक क्षेत्र और के उद्देश्यों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

राष्ट्रीय सतत कृषि मिशन क्या है?

Feb 21, 2019
जलवायु परिवर्तन के इस युग में कृषि उत्पादकता को सतत बनाना बहुत ही आवश्यक है लेकिन प्राकृतिक संसाधनों जैसे मृदा एवं जल की गुणवत्ता और उपलब्धता पर भी निर्भर करता है कृषि विकास को समुचित स्थिति विशिष्ट उपायों के माध्यम से इन दुर्लभ प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और सतत प्रयोग को बढ़ावा देकर संधारणीय बनाया जा सकता है। इस लेख में हमने राष्ट्रीय सतत कृषि मिशन के उद्देश्य, कार्यात्मक क्षेत्र और इसकी कमियों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

राष्ट्रीय ग्रीन इंडिया मिशन क्या है?

Feb 20, 2019
राष्ट्रीय ग्रीन इंडिया मिशन जलवायु परिवर्तन की चुनौती से निपटने के लिए भारत के आठ मिशनों में से एक है। इसे फरवरी 2014 में सुरक्षा के लिए लॉन्च किया गया था; अनुकूलन और शमन उपायों के संयोजन से भारत के कम होते वन आवरण को बहाल करना और जलवायु परिवर्तन के खतरे से निपटने के लिए तैयार करना। इस लेख में हमने राष्ट्रीय ग्रीन इंडिया मिशन के उद्देश्य, लक्ष्य और उसके घटकों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

भारत के बाढ़ प्रवण क्षेत्र: शमन और नियंत्रण के उपाय

Feb 18, 2019
बाढ़ नदी के तटीय क्षेत्र में उच्च जल स्तर की स्थिति है जो स्थलों पर बाढ़ का कारण बनती है इस दौरान भूमि भी जलमग्न हो जाती है। नदी बाढ़ और तटीय क्षेत्र बाढ़ के लिए सबसे अधिक संवेदनशील हैं; हालांकि, असामान्य रूप से लंबे समय तक भारी वर्षा वाले क्षेत्रों में बाढ़ आना संभव है। इस लेख में हमने भारत के बाढ़ प्रवण क्षेत्र तथा शमन और नियंत्रण के उपाय बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

ग्लोबल वार्मिंग पर पृथ्वी के एल्बीडो कैसे प्रभाव डालते हैं?

Feb 18, 2019
भूमंडलीय ऊष्मीकरण या ग्‍लोबल वॉर्मिंग पृथ्वी के वायुमंडल और उसके महासागरों के औसत तापमान में क्रमिक वृद्धि का वर्णन करता है, ऐसा माना जाता है कि यह परिवर्तन स्थायी रूप से पृथ्वी की जलवायु को बदल रहा है। जबकि एल्बीडो सौर विकिरण की मात्रा है जो किसी न किसी सतह से परिलक्षित होती है, और अक्सर प्रतिशत या दशमलव मान के रूप में व्यक्त की जाती है। इस लेख में हमने बताया है की भूमंडलीय ऊष्मीकरण या ग्‍लोबल वॉर्मिंग कैसे पृथ्वी के एल्बीडो से प्रभावित होता है।

भारत का राष्ट्रीय सौर ऊर्जा मिशन क्या है?

Feb 15, 2019
भारत सरकार ने राष्ट्रीय सौर ऊर्जा मिशन शुरू किया है जिसे जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय सौर मिशन भी कहा जाता है। भारत की ऊर्जा सुरक्षा चुनौती को संबोधित करते हुए पारिस्थितिक रूप से स्थायी विकास को बढ़ावा देने के लिए यह भारत सरकार और राज्य सरकारों की एक बड़ी पहल है। यह जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का सामना करने के वैश्विक प्रयास में भारत द्वारा एक प्रमुख योगदान होगा। इस लेख में हमने भारत का राष्ट्रीय सौर ऊर्जा मिशन के उद्देश्य और लक्ष्य पर चर्चा किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

तटीय क्षेत्र प्रबंधन के उद्देश्य और लक्ष्य क्या हैं?

Feb 14, 2019
तटीय क्षेत्र ऐसे उच्च जल चिह्न तक प्रादेशिक जल की सीमा को परिभाषित करता है जो मुख्य भूमि, द्वीपों और समुद्र के संकीर्ण क्षेत्र से तटीय डोमेन की बाहरी सीमा बनाती हैं। इस लेख में हमने तटीय क्षेत्र प्रबंधन (सीजेडएम) के उद्देश्य, लक्ष्य और चुनौती पर चर्चा किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

भारत में समुद्री विकास कार्यक्रम

Feb 14, 2019
भारत ने महासागर विकास कार्यक्रम के तहत आजीविका में सुधार, तटीय खतरों की समय पर चेतावनी और महासागर संसाधनों के सतत विकास के लिए बहुत सारे कार्यक्रम की शुरुआत की है। इन कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य लंबी अवधि के अवलोकन कार्यक्रमों को लागू करने और लागू करने के माध्यम से महासागर प्रक्रिया की हमारी समझ में सुधार करना है ताकि, हम निर्णय लेने के लिए तटीय क्षेत्र के स्थायी उपयोग मॉडल में सक्षम हों। इस लेख में हमने, भारत द्वारा शुरू किये गए विभिन्न महासागर विकास कार्यक्रम पर नीचे चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

सोलर जियो-इंजीनियरिंग क्या है?

Jan 30, 2019
हमारे सौर मंडल में पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जहां सभी प्रकार का जीवन अस्तित्व में है। स्ट्रैटोस्फेरिक सलफेट एयरोसोल (stratospheric sulphate aerosols) के आवश्यकता से अधिक उपयोग के कारण ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन जैसी स्थितियां पैदा हुई हैं। मौजूदा समय में बहुत से पर्यावरणविद ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए जलवायु इंजीनियरिंग पर काम कर रहे हैं। इस लेख में हमने सोलर जियो-इंजीनियरिंग के बारे में बताया जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

भारत का राष्ट्रीय सतत पर्यावरण मिशन क्या है?

Jan 22, 2019
राष्ट्रीय सतत पर्यावरण मिशन शमन रणनीति के तहत भारत सरकार के आठ जलवायु मिशनों में से एक है। इस नीति को इसलिए सूत्रबद्ध किया गया है ताकि भवनों ऊर्जा क्षमता के सुधार, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन तथा लोग यातायात के प्रकार में परिवर्तन लाया जा सके। इस लेख में हमने भारत का राष्ट्रीय सतत पर्यावरण मिशन के बारे में बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम क्या है?

Jan 15, 2019
पर्यावरण में हो रहे बदलाव से पूरी दुनिया समस्या का सामना कर रही है। इसलिए दुनिया कुछ वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की तलाश कर रही है जो पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ-साथ किफायती भी हो सके। इस लेख में हमने बायोगैस (Biogas) तथा राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...