1. Home
  2.  |  
  3. भूगोल
  4.  |  
  5. पृथ्वी

पृथ्वी

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

पृथ्वी पर भू-आकृति विकास के प्रभावी प्रक्रम तथा उनसे निर्मित भू-आकृतियां

Dec 8, 2017
पृथ्वी के ऊपरी परत अर्थात भू-पृष्ठ पर अनेकों प्रकार की भू-आकृतियां पाई जाती हैं, जिनमें महाद्वीप, महासागर, पर्वत, पठार, मैदान, घाटियां, डेल्टा आदि प्रमुख हैं. इस लेख में हम पृथ्वी पर पाए जाने वाले भू-आकृति विकास के प्रभावी प्रक्रमों तथा उनसे निर्मित विभिन्न भू-आकृतियों का विवरण दे रहे हैं.

जानें भारत के किस क्षेत्र में भूकंप की सबसे ज्यादा संभावना है?

Jul 31, 2017
जब हम घर, ऑफिस या किसी अन्य जगह पर बैठे होते हैं और हमारी पृथ्वी अचानक हिलने लगती है तो घर या ऑफिस का सामान गिरने लगता है. इसे ही भूकंप कहा जाता है. यदि ये भूकंप बड़ी तीव्रता वाला होता है तो बड़ी बड़ी बिल्डिंग्स भी गिर जातीं हैं. इस प्रकार की घटनाओं को भूकंप कहा जाता है. भारत को चार भूकंपीय क्षेत्रों या जोनों में बांटा है जिनके नाम हैं: जोन 2, जोन 3, जोन 4 और जोन 5.

पृथ्वी पर विभिन्न भू-आकृतियों का निर्माण कैसे होता है?

Mar 1, 2016
स्थलमंडल अनेक प्लेटों में बंटा हुआ है जिन्हें स्थलमंडलीय प्लेटें कहते हैं। ये प्लेटें गतिशील हैं और पृथ्वी के नीचे स्थित पिघले हुए मैग्मा पर तैर रही हैं। स्थलमंडलीय प्लेटों की यह गतिशीलता पृथ्वी की सतह पर बदलाव का कारण बनती हैं। अंतर्जात बल और बहिर्जात बलों के आधार पर पृथ्वी की गतिशीलता दो प्रकार की होती है। ज्वालामुखी और भूकंप जैसी अंतर्जात गतिशीलताएं पृथ्वी की सतह पर बड़े पैमाने पर सामूहिक विनाश का कारण बनती हैं।

प्राकृतिक संसाधन और भूमि प्रयोग

Jul 20, 2011
पृथ्वी हमें प्राकृतिक संसाधन उपलब्ध कराती है जिसे मानव अपने उपयोगी कार्र्यों के लिए प्रयोग करता है। इनमें से कुछ संसाधन को पुनर्नवीनीकृत नहीं किया जा सकता है, उदाहरणस्वरूप- खनिज ईंधन जिनका प्रकृति द्वारा जल्दी से निर्माण करना संभव नहीं है।

जलमंडल व जैवमंडल

Jul 20, 2011
पूरे सौरमंडल में पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जिस पर भारी मात्रा में जल उपस्थित है। यह एक ऐसा तथ्य है जो पृथ्वी को अन्य ग्रहों से विशिष्ट बनाता है। पृथ्वी के समस्त जीव मिलकर जैवमंडल का निर्माण करते हैं। ऐसा विश्वास किया जाता है कि बायोमंडल का विकास लगभग 3.5 अरब वर्ष पूर्व शुरू हुआ था।

वायुमंडल

Jul 20, 2011
पृथ्वी को चारों ओर सैकड़ों किमी. की मोटाई में लपेटने वाले गैसीय आवरण को वायुमंडल कहते हैं। वायुमंडल गर्मी को रोककर रखने में एक विशाल 'काँच घर' का काम करता है, जो लघु तरंगों और विकिरण को पृथ्वी के धरातल पर आने देता है, परंतु पृथ्वी से विकरित होने वाली तरंगों को बाहर जाने से रोकता है। इस प्रकार वायुमंडल पृथ्वी पर सम तापमान बनाए रखता है।

पृथ्वी की धरातलीय संरचनाये

Jul 20, 2011
पर्वत पठार मरुस्थल ज्वालामुखी झील हिमनद मैदान

पृथ्वी की संरचना

Jul 20, 2011
पृथ्वी की आकृति लध्वक्ष गोलाभ (Oblate spheroid) के समान है। यह लगभग गोलाकार है जो ध्रुवों पर थोड़ा चपटी है। पृथ्वी पर सबसे उच्चतम बिंदु माउंट एवरेस्ट है जिसकी ऊँचाई 8848 मी. है। दूसरी ओर सबसे निम्नतम बिंदु प्रशांत महासागर में स्थित मारियाना खाई है जिसकी समुद्री स्तर से गहराई 10,911 मी. है। पृथ्वी की आंतरिक संरचना कई स्तरों में विभाजित है। पृथ्वी की आंतरिक संरचना के तीन प्रधान अंग हैं- ऊपरी सतह भूपर्पटी (Crust), मध्य स्तर मैंटल (mantle) और आंतरिक स्तर धात्विक क्रोड (Core)। पृथ्वी के कुल आयतन का 0.5' भाग भूपर्पटी का है जबकि 83' भाग में मैंटल विस्तृत है। शेष 16' भाग क्रोड है।

पृथ्वी - एक परिचय

Jul 20, 2011
पृथ्वी पूरे ब्रह्मांड में एक मात्र एक ऐसी ज्ञात जगह है जहां जीवन का अस्तित्व है। इस ग्रह का निर्माण लगभग 4.54 अरब वर्ष पूर्व हुआ था और इस घटना के 1 अरब वर्ष पश्चातï यहां जीवन का विकास शुरू हो गया था। तब से पृथ्वी के जैवमंडल ने यहां के वायु मण्डल में काफी परिवर्तन किया है। समय बीतने के साथ ओजोन पर्त बनी जिसने पृथ्वी के चुम्बकीय क्षेत्र के साथ मिलकर पृथ्वी पर आने वाले हानिकारक सौर विकरण को रोककर इसको रहने योग्य बनाया।

 «  

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK