1. Home
  2.  |  
  3. GENERAL KNOWLEDGE
  4.  |  
  5. भारत दर्शन
  6.  |  
  7. भारत के राज्य

भारत के राज्य

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

जानें सर क्रीक विवाद क्या है?

Sep 10, 2019
सर क्रीक (Sir Creek) गुजरात (भारत) और सिंध (पाकिस्तान) के बीच विवादित पानी की एक 96 किलोमीटर लंबी पट्टी है. अर्थात सर क्रीक विवाद (Sir Creek) भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर और सियाचिन जैसा ही सीमा विवाद है. भारत को आजादी मिलने से पहले यह क्रीक प्रांतीय क्षेत्र ब्रिटिश भारत के बॉम्बे प्रेसीडेंसी का भाग था. सर क्रीक मामले पर विवाद 1960 के दशक में शुरू हुआ था. इस विवादित पट्टी का सर क्रीक नाम इसमें पाई जाने वाली 'सीरी' नामक मछली के नाम पर पड़ा है.

अक्साई चिन का इतिहास क्या है?

Aug 30, 2019
अक्साई चिन 1950 से चीन और भारत के बीच विवादित सीमा क्षेत्र है. चीन ने 1957 के आस पास इस क्षेत्र से होकर एक सड़क बनायी थी जो कि अक्साई चिन से होकर गुजरती है. इस कारण चीन ने इस क्षेत्र को अपने नक्से में दिखाना शुरू कर दिया. भारत का दावा है कि चीन ने लगभग 38,000 वर्ग किलोमीटर पर कब्जा कर लिया है. भारत का दावा है कि कब्ज़ाया गया क्षेत्र जम्मू और कश्मीर राज्य के लद्दाख क्षेत्र का हिस्सा है.

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के बारे में 15 रोचक तथ्य और इतिहास

Aug 29, 2019
पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य का वह हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने कबीलाई विद्रोहियों के साथ अपने सैनिक शामिल कर धोखे से 1947 में हमला कर अधिकार कर लिया था. अब आर्टिकल 370 को ख़त्म करने के बाद भारत में इस पुराने हिस्से को वापस लाने की मांग जोर पकड़ रही है. लेकिन हम बहुत से भारतीय इस POK का इतिहास और यहाँ के लोगों मी जीविका का मुख्य साधन कृषि, पशुपालन, पर्यटन के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानते हैं. इस लिए हमने इस आर्टिकल में इस POK से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों को बताया है.

जानें पाक अधिकृत कश्मीर (POK) का इतिहास क्या है?

Aug 21, 2019
पाक अधिकृत कश्मीर (POK) ऐतिहासिक रूप से जम्मू और कश्मीर की तत्कालीन रियासत का हिस्सा था जिस पर 1947 में पाकिस्तान द्वारा अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया था. लेकिन इस कब्जे को नाकाम करने के पहले कश्मीर के राजा राजा हरि सिंह और स्वर्गीय पीएम जवाहर लाल नेहरू के बीच "इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेस" पर समझौता हुआ था जिसके बाद कश्मीर भारत का हिस्सा बन गया था इस कारण पाक अधिकृत कश्मीर (POK) भी भारत का हिस्सा है.

परिसीमन क्या होता है और केंद्र सरकार इसे जम्मू कश्मीर में क्यों लागू करना चाहती है?

Aug 14, 2019
परिसीमन से तात्पर्य किसी भी राज्य की लोकसभा और विधानसभा क्षेत्रों की सीमाओं (राजनीतिक) का रेखांकन है. जम्मू-कश्मीर में आख़िरी बार 1995 में परिसीमन किया गया था. केंद्र सरकार जम्मू क्षेत्र में विधान सभा सीटों की संख्या को बढ़ाना चाहती है और कश्मीर क्षेत्र में घटाना चाहती है. जम्मू-कश्मीर की विधानसभा में कुल 111 सीटें हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर के संविधान की धारा 47 के मुताबिक़, 24 सीटों को पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के लिए खाली छोड़ा गया है. बाकी बची 87 सीटों पर ही चुनाव होते हैं.

जानें क्या है आर्टिकल 370?

Aug 7, 2019
आर्टिकल 370 को 17 नवंबर 1952 से लागू किया गया था. यह आर्टिकल कश्मीर के लोगों को बहुत सुविधाएँ देता है जो कि भारत के अन्य नागरिकों को नहीं मिलतीं हैं. यह आर्टिकल स्पष्ट रूप से कहता है कि रक्षा, विदेशी मामले और संचार के सभी मामलों में पहल भारत सरकार करेगी. आर्टिकल 370 के कारण जम्मू & कश्मीर का अपना संविधान है और इसका प्रशासन इसी के अनुसार चलाया जाता है ना कि भारत के संविधान के अनुसार.

J&K से Article 370 हुआ खत्म, सरकार के फैसले का तुलनात्मक अध्ययन

Aug 5, 2019
5 अगस्त 2019 को; एनडीए सरकार ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 (खंड 1 को छोड़कर) हटा दिया है. अब जम्मू और कश्मीर एक केंद्र शासित प्रदेश होगा जिसमें दिल्ली और पुदुचेरी जैसी विधानसभाएँ होंगी. लद्दाख को एक अलग केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है लेकिन इसमें विधान सभा नहीं होगी. अब आइए विस्तार से जानते हैं कि आर्टिकल 370 के हटने से कश्मीर में क्या क्या बदल जायेगा?

जानें आर्टिकल 370 के हटने से जम्मू और कश्मीर में क्या-क्या बदल जायेगा?

Aug 1, 2019
आर्टिकल 370 को 17 नवंबर 1952 से लागू किया गया था. यह आर्टिकल जम्मू और कश्मीर के नागरिकों को दोहरी नागरिकता,अपना राष्ट्रीय झंडा सहित अन्य सुविधाएँ देता है. आइये इस लेख में जानते हैं कि आर्टिकल 370 को हटाने पर जम्मू एंड कश्मीर में क्या-क्या बदल जायेगा?

अंडमान की जारवा जनजाति के बारे में 20 रोचक तथ्य

May 17, 2019
जारवा जनजाति, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की 6 आदिवासी जनजातियों में से एक है. जारवा जनजाति का सम्बन्ध नेग्रिटो समुदाय की जनजाति से है. वर्तमान में यह जनजाति मध्य अंडमान के पश्चिमी भाग और दक्षिण अंडमान के इलाके में रहती है. इस जनजाति का अस्तित्व पिछले 55 हजार सालों से बना हुआ है लेकिन अब इस जनजाति के केवल 380 लोग ही बचे हैं.

क्यों भारतीय वाहनों में अलग-अलग रंग की नम्बर प्लेट इस्तेमाल होती है?

May 16, 2019
आप सभी ने अपनी रोज की जिंदगी में सड़क पर कई रंगों की नंबर प्लेटों जैसे सफ़ेद, पीली, काली और लाल इत्यादि को कारों में लगा हुआ देखा होगा. लेकिन क्या उस नंबर प्लेट को देखकर आप यह समझ गए थे कि इस रंग की प्लेट लगाने वाली कार किस व्यक्ति की है, यदि नही तो इस लेख में हमने इसी प्रकार की प्लेटों के बारे में बताया है.

जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण

Apr 17, 2019
जैन धर्म ने गैर-धार्मिक विचारधारा के माध्यम से रूढ़िवादी धार्मिक प्रथाओं पर जबरदस्त प्रहार किया। जैन धर्म लोगों की सुविधा हेतु मोक्ष के एक सरल, लघु और सुगम रास्ते की वकालत करता है। यहाँ हम जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

जानें हर भारतीय के ऊपर कितना विदेशी कर्ज है?

Apr 17, 2019
भारत का विदेशी ऋण स्टॉक मार्च 2016 के अंत में 485.6 बिलियन अमरीकी डॉलर था जो कि मार्च 2015 के 475 बिलियन अमरीकी डॉलर से 2.2 % या 10.6 बिलियन अमरीकी डॉलर बढ़ गया है l लेकिन यदि सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की नजर से देखा जाये तो 2015 में यह कर्ज GDP का 23.8% था जो कि 2016 में घटकर 23.7% रह गया है l

उत्तर प्रदेश के प्रमुख संग्रहालयों की सूची

Mar 8, 2019
उत्तर प्रदेश सांस्कृतिक और भौगोलिक विविधता का प्रदेश है. यह प्रदेश भारत के सांस्कृतिक, राजनैतिक, शिक्षा, कृषि, पर्यटन और उद्योग के क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है. देश और प्रदेश की प्राचीन विरासत को भविष्य की पीढ़ी के लिए सहेजकर रखने के लिए प्रदेश में समय समय कई संग्रहालयों की स्थापना की गयी है. उत्तर प्रदेश में पहला संग्रहालय लखनऊ में 1863 में बना था.

जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की क्या विशेषताएं हैं?

Mar 8, 2019
जम्मू एवं कश्मीर भारतीय गणतंत्र में शामिल एक मात्र ऐसा प्रदेश है जिसके पास अपना स्वयं का संविधान है और राष्ट्रीय झंडा है. इस प्रदेश में भारत का संविधान भी लागू होता है और यहाँ के स्थायी निवासियों को भारत के नागरिकों को मिलने वाले सभी अधिकार मिलते हैं. इस लेख में हम जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की मुख्य विशेषताओं के बारे में जानेंगे.

भारत के किन राज्यों में सीनियर सिटीजन को सबसे अधिक वृद्धावस्था पेंशन मिलती है?

Jan 2, 2019
जनगणना 2011 के अनुसार भारत में करीब 104 मिलियन सीनियर सिटीजन्स (60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के) हैं. इन सभी को वृद्धावस्था पेंशन मिलती नहीं मिलती है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस समय देश में 3.5 करोड़ लोगों को वृद्धावस्था पेंशन योजना का लाभ मिल रहा है. देश में केरल, दिल्ली, पुदुचेरी और अंदमान के सीनियर सिटीजन्स को हर माह 2000 रुपये मिलते हैं.

छत्तीसगढ़: एक नजर में

Dec 13, 2018
छत्तीसगढ़ का गठन 1 नवम्बर, 2000 को पूर्वी मध्य प्रदेश के छत्तीसगढ़ी भाषा बोलने वाले 16 जिलों को अलग कर किया गया था। यह मध्य भारत में स्थित है और क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का दसवां सबसे बड़ा राज्य है जिसका क्षेत्रफल 136,904 वर्ग किमी. (52,199 वर्ग मील) है । जनसंख्या की दृष्टि से यह भारत का सोलहवां सबसे बड़ा राज्य है जिसकी कुल जनसंख्या 2.5 करोड़ है। यह लौह अयस्क व विद्युत् उत्पादन के मामले में भारत के अग्रणी राज्यों में से एक है । इसकी गणना भारत के सबसे तेजी से विकसित हो रहे राज्यों में की जाती है।

बिहार का प्राचीन इतिहास

Dec 6, 2018
बिहार का प्राचीन इतिहास का विस्तार मानव सभ्यता के आरंभ तक है। साथ ही यह सनातन धर्म के आगमन संबंधी मिथकों और किंवदंतियों से भी संबद्ध है। यहां, हम 'प्राचीन बिहार के इतिहास' पर पूर्ण अध्ययन सामग्री दे रहे हैं जो उम्मीदवारों को बीपीएससी और अन्य राज्य स्तर की परीक्षाओं जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होने की राह को आसान कर देगा।

भारत में 111 राष्ट्रीय जलमार्गों की सूची

Nov 28, 2018
प्रधानमन्त्री मोदी द्वारा 12 नवंबर, 2018 को हल्दिया-वाराणसी राष्ट्रीय जलमार्ग -1 को चालू किया गया था. राष्ट्रीय जलमार्ग अधिनियम, 2016 के अंतर्गत भारत सरकार ने देश में राष्ट्रीय जलमार्ग (एनडब्ल्यू) के रूप में 111 जलमार्ग घोषित किए हैं. जलमार्ग के द्वारा परिवहन अन्य साधनों की तुलना में सस्ता पड़ता है. जलमार्गों के माध्यम से परिवहन की लागत लगभग प्रति टन 1.06 रुपये प्रति किलोमीटर है जबकि राजमार्ग के माध्यम से प्रति टन 2.5 रुपये प्रति किलोमीटर की लागत आती है.

इनलैंड वॉटरवे टर्मिनल क्या है और इससे भारत को क्या फायदे होंगे?

Nov 15, 2018
वाराणसी-हल्दिया नैशनल वॉटर-वे 1 देश का पहला इनलैंड वॉटरवे (नदी मार्ग) टर्मिनल है. इस टर्मिनल के माध्यम से 1620 किलोमीटर लंबे वॉटरवे से गंगा के जरिए वाराणसी से कोलकाता के हल्दिया के बीच माल ढुलाई आसान होगी. अर्थात इस जल मार्ग के माध्यम से अब मालवाहक जहाजों की मदद से सामान को लाने और ले जाने में आसानी होगी.

उत्तर प्रदेश के प्रमुख हवाई अड्डों की सूची

Oct 1, 2018
भारत में वर्तमान में 27 इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स हैं जिनमे 26 ऑपरेशनल हैं जबकि कस्टम एयरपोर्ट्स की संख्या 8 है. इस समय भारत में कुल 138 एयरपोर्ट्स है जिनमें से केवल 108 ऑपरेशनल हैं बकाया के 30 नॉन ऑपरेशनल हैं. इस लेख में उत्तर प्रदेश के प्रमुख हवाई अड्डों कि लिस्ट के बारे में बताया गया है.

12345 Next   

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...