Jagran Josh Logo
  1. Home
  2.  |  
  3. भारत दर्शन

भारत दर्शन

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

अब तक के सभी लोकसभा चुनावों में किस पार्टी को कितनी सीटें मिली हैं?

3 days ago
भारत में लोकसभा के सबसे पहले आम चुनाव 1952 में हुए थे. इस चुनाव में 489 लोक सभा सीटों के लिए चुनाव हुए थे. इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 364 सीटें जीती थीं जबकि जनसंघ को केवल 3 सीटों पर जीत मिली थी. वर्ष 1952 में हुए लोक सभा आम चुनावों के बाद अब तक कुल 16 लोकसभा चुनाव भारत में कराये जा चुके हैं. इस लेख में हम भारत के पहले लोक सभा चुनाव से लेकर अभी तक के चुनावों में विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा जीती गयी सीटों के बारे में बताया गया है.

प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना में कैसे और किन-किन उद्योगों के लिए लोन मिलता है?

Jun 12, 2018
प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना को 8 अप्रैल 2015 को मोदी जी ने शुरू किया था. इस योजना का उद्येश्य देश में स्वरोजगार के अवसरों और विनिर्माण गतिविधियों को बढ़ावा देना शामिल है. मुद्रा योजना के तहत; वित्त वर्ष 2017-2018 के दौरान लगभग 4 करोड़ 80 लाख लोगों को 2.46 लाख करोड़ रुपयों का आवंटन किया जा चुका है. इस लेख में आप पढेंगे कि प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना के तहत कैसे लोन प्राप्त करें.

जानें सियाचिन ग्लेशियर विवाद क्या है?

May 31, 2018
सियाचिन ग्लेशियर को पूरी दुनिया में सबसे अधिक ऊंचाई पर स्थित युद्ध स्थल के रूप में जाना जाता है. सियाचिन ग्लेशियर; पूर्वी कराकोरम/हिमालय, में स्थित है. इसकी स्थिति भारत-पाक नियंत्रण रेखा के पास लगभग देशान्तर: 76.9°पूर्व, अक्षांश: 35.5° उत्तर पर स्थित है. समुद्र तल से इसकी औसत ऊँचाई लगभग 17770 फीट है. सियाचिन ग्लेशियर का क्षेत्रफल लगभग 78 किमी है. सियाचिन, काराकोरम के पांच बड़े ग्लेशियरों में सबसे बड़ा और विश्व का दूसरा सबसे बड़ा ग्लेशियर है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों की सूची

May 24, 2018
कर्नाटक राज्य का गठन 25 अक्टूबर 1947 को हुआ था. इसके गठन के समय राज्य को मैसूर के नाम से जाना जाता था. लेकिन मैसूर को 1 नवंबर 1973 से कर्नाटक के रूप में जाना जाता है. कर्नाटक में द्विसदनीय विधायिका है जिसमें MLC की 75 सीटें और 224 MLA हैं. कांग्रेस के K. चेङ्गलराय रेड्डी मैसूर (अब कर्नाटक) राज्य के पहले मुख्यमंत्री (अक्टूबर 1947- मार्च 1952) थे. वर्तमान में एच.डी. कुमारस्वामी ने गठबंधन सरकार बनाई है और 23 मई को मुख्यमंत्री का पद संभाला है.

क्या आप वाघा बॉर्डर झंडा सेरेमनी के बारे में ये बातें जानते हैं?

May 22, 2018
वाघा, भारत के अमृतसर, तथा पाकिस्तान के लाहौर के बीच ग्रैंड ट्रंक रोड पर स्थित गाँव है; जहाँ से दोनों देशों की सीमा गुजरती है. " वाघा बॉर्डर सेरेमनी" का उद्देश्य औपचारिक रूप से रात के लिए सीमा को बंद करना और राष्ट्रीय ध्वज को नीचे उतारना (Flag Lowering Ceremony) है. झंडा उतारने का काम सूर्यास्त से 2 घंटे पहले किया जाता है. हालांकि, यह एक मनोरंजन समारोह है लेकिन इसको देशभक्ति प्रदर्शन की तरह हर दिन प्रदर्शित किया जाता है.

जानें कैसे भारत ने पोखरण परमाणु परीक्षण को दुनिया की एजेंसियों से छिपाया था?

May 16, 2018
पोखरण-2 परीक्षण मई 1998 में पोखरण परीक्षण रेंज पर किये गए पांच परमाणु बम परीक्षणों की श्रृंखला का एक हिस्सा था। भारत ने 11 और 13 मई, 1998 को राजस्थान के पोरखरण परमाणु स्थल पर पांच परमाणु परीक्षण किये थे। इस परमाणु परीक्षण से पहले भारत ने मई 1974 में "स्माइलिंग बुद्धा" नाम का परमाणु परीक्षण पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के शासनकाल में किया था l

क्या आप भारतीय झंडा संहिता,2002 के बारे में जानते हैं?

May 3, 2018
भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन; प्रतीक और नाम (अनुचित प्रयोग का निवारण) अधिनियम, 1950 और राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम,1971 उपबंधों के अनुसार नियंत्रित होता है. भारतीय ध्वज संहिता, 2002 में इन सभी नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को एक साथ लाने के प्रयास किया गया है. इस लेख में हमने भारतीय ध्वज संहिता, 2002 में वर्णित मुख्य नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को बताया है.

भारत की परमाणु नीति क्या है?

Apr 24, 2018
भारत ने 2003 में अपना परमाणु सिद्धांत अंगीकार किया था. भारत की परमाणु नीति का मूल सिद्धांत " पहले उपयोग नही" है. इस नीति के अनुसार भारत किसी भी देश पर परमाणु हमला तब तक नही करेगा जब कि वह देश भारत के ऊपर हमला नही कर देता है. भारत के पास परमाणु हथियारों की संख्या लगभग 110 -130 के बीच मानी जाती है जबकि पाकिस्तान के पास 130 से 150 के बीच परमाणु हथियार हैं.

कौन से गणमान्य व्यक्तियों को वाहन पर भारतीय तिरंगा फहराने की अनुमति है?

Apr 10, 2018
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारत के हर व्यक्ति को अपनी कार पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की अनुमति नही है. हमारे देश में केवल कुछ गणमान्य व्यक्तियों को ही ऐसा करने की अनुमति है. भारतीय ध्वज संहिता, 2002 ने उन गणमान्य व्यक्तियों का नाम सूचीबद्ध किया है जो कि अपनी कारों पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकते हैं. इस लेख में सभी गणमान्य व्यक्तियों के नामों की सूची दी गयी है.

जनगणना 2011 के अनुसार भारतीय राज्यों में बाल लिंगानुपात कितना है?

Apr 3, 2018
शून्य से 6 वर्ष के बीच की उम्र में प्रति एक हजार लड़कों पर लड़कियों की संख्या को बाल लिंगानुपात कहा जाता है. वर्ष 2001 की जनगणना में भारत बाल लिंगानुपात 927 था जो कि 2011 की जनगणना में घटकर 919 हो गया है. वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में सबसे अधिक बाल लिंगानुपात (972) है जबकि हरियाणा में सबसे कम अर्थात 834 प्रति हजार है.

बुद्ध की विभिन्न मुद्राएं एवं हस्त संकेत और उनके अर्थ

Mar 30, 2018
बुद्ध के अनुयायी, बौद्ध ध्यान या अनुष्ठान के दौरान शास्त्र के माध्यम से विशेष विचारों को पैदा करने के लिए बुद्ध की छवि को प्रतीकात्मक संकेत के रूप में इस्तेमाल करते हैं। भारतीय मूर्तिकला में, मूर्तियाँ देवत्व का प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व करती है, जिसका मूल और अंत धार्मिक और आध्यात्मिक मान्यताओं के माध्यम से व्यक्त किया जाता है।

भारत के संविधान में वर्णित राजभाषाओं की सूची

Mar 27, 2018
भारत के संविधान के भाग XVII में अनुच्छेद 343 से 351 राजभाषा से सम्बंधित है. वर्तमान में संविधान की आठवीं सूची में 22 भाषाएँ वर्णित हैं. संविधान में क्षेत्रीय भाषाओँ को वर्णित करने की पीछे दो उद्येश्य हैं. 1. इन भाषाओँ को राजभाषा आयोग में प्रतिनिधित्व दिया जाना. 2 इन भाषाओँ की रूप शैली और भावों का प्रयोग हिंदी भाषा को समृद्ध बनाने के लिए प्रयोग किया जाना है.

लिंगानुपात के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

Mar 16, 2018
लिंगानुपात का शाब्दिक अर्थ है प्रति एक हज़ार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या. भारत की जनगणना 2011 के अनुसार यह का लिंगानुपात 943 है. इसका मतलब यह हुआ कि 1000 पुरुषों पर सिर्फ 943 महिलाएं हैं. भारत में हमेशा ही महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में कम रही है. वर्तमान में भारत में सबसे कम लिंगानुपात वाला राज्य हरियाणा है जहाँ पर लिंगानुपात केवल 879 है जबकि सबसे अधिक लिंगानुपात वाला राज्य केरल है.

ताजमहल के बारे में 13 रोचक तथ्य

Mar 15, 2018
ताजमहल का निर्माण मुग़ल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में 32 मिलियन रुपये खर्च करके बनवाया था| इसका निर्माण 1632–53 के बीच हुआ था| इस लेख में ताजमहल के उन अनजाने तथ्यों के बारे में बताया गया है जो कि बहुत कम लोगों को पता हैं|

भारत में राज्यवार अक्षय ऊर्जा उत्पादन की स्थिति क्या है?

Mar 15, 2018
नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत की कुल अक्षय ऊर्जा उत्पादन क्षमता 896602 मेगावाट है. राजस्थान सौर ऊर्जा उत्पादन और देश में कुल अक्षय ऊर्जा उत्पादन का सबसे बड़ा उत्पादक है, इसके बाद 118208 मेगावाट उत्पादन क्षमता के साथ जम्मू और कश्मीर दूसरे और 74500 मेगावाट अक्षय ऊर्जा का उत्पादन करके महाराष्ट्र तीसरे स्थान पर है.

जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण

Feb 13, 2018
जैन धर्म ने गैर-धार्मिक विचारधारा के माध्यम से रूढ़िवादी धार्मिक प्रथाओं पर जबरदस्त प्रहार किया। जैन धर्म लोगों की सुविधा हेतु मोक्ष के एक सरल, लघु और सुगम रास्ते की वकालत करता है। यहाँ हम जैन धर्म, महावीर की शिक्षाएं और जैन धर्म के प्रसार के कारणों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

नाथ सम्प्रदाय की उत्पति, कार्यप्रणाली एवं विभिन्न धर्मगुरूओं का विवरण

Feb 13, 2018
भारत में जब तांत्रिकों और साधकों के चमत्कार एवं आचार-विचार की बदनामी होने लगी और साधकों को शाक्त, मद्य, मांस तथा स्त्री-संबंधी व्यभिचारों के कारण घृणा की दृष्टि से देखा जाने लगा तथा इनकी यौगिक क्रियाएँ भी मन्द पड़ने लगी, तब इन यौगिक क्रियाओं के उद्धार के लिए नाथ सम्प्रदाय का उदय हुआ थाl नाथ सम्प्रदाय हिन्दू धर्म के अंतर्गत शैववाद की एक उप-परंपरा हैl यह एक मध्ययुगीन आंदोलन है जो शैव धर्म, बौद्ध धर्म और भारत में प्रचलित योग परंपराओं का सम्मिलित रूप हैl इस लेख में हम नाथ शब्द का अर्थ, नाथ सम्प्रदाय की उत्पति, उसके प्रमुख गुरूओं तथा इस सम्प्रदाय के क्रियाकलापों का विवरण दे रहे हैंl

बैलगाड़ी एवं साइकिल द्वारा रॉकेट ढ़ोने से लेकर इसरो का अबतक का सफरनामा

Feb 9, 2018
इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) का अब तक का सफर काबिल-ए-तारीफ है। एक समय ऐसा भी था जब संसाधनों की कमी की वजह से रॉकेटों को बैलगाड़ी से जाया गया था। इसके अलावा भारत के पहले रॉकेट के लांच के समय भारतीय वैज्ञानिक हर रोज तिरूवंतपूरम से बसों में आते थे और रेलवे स्टेशन से दोपहर का खाना खाते थे। साथ ही पहले रॉकेट के कुछ हिस्सों को साइकिल पर भी ले जाया गया था। इस लेख में हम इसरो के सफरनामा और उपलब्धियों का विस्तृत विवरण दे रहे हैं|

सिंधु घाटी सभ्यता की अर्थव्यवस्था का संक्षिप्त विवरण

Feb 8, 2018
सिंधु घाटी सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता) की अर्थव्यवस्था कृषि और व्यापार पर आधारित थी| कृषि कार्य हड़प्पाकालीन शहरों के आसपास के दूरस्थ और अविकसित क्षेत्र में किया जाता था, जहाँ से शासक वर्ग भविष्य में उपयोग हेतु कृषि अधिशेष को लाकर धान्यकोठारों में जमा करते थे| यहाँ हम सिंधु घाटी सभ्यता की अर्थव्यवस्था का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है|

भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची

Feb 7, 2018
भारत की सबसे बड़ी क्रय शक्ति और विशाल बाजार दुनिया भर के व्यापारियों एवं निवेशकों को आकर्षित कर रही हैl यही कारण है कि आज के समय में चीनी निवेशक और प्रौद्योगिकी उद्यमी भारत में मोबाइल गेमिंग, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, वित्तीय प्रौद्योगिकी और इंटरनेट से जुड़ी चीजों (आईओटी) जैसे क्षेत्रों में भारतीय स्टार्ट-अप कंपनियों के साथ विशाल मात्रा में निवेश कर रहे हैंl यहां, हम सामान्य ज्ञान की दृष्टि से भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची दे रहे हैंl

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on