1. Home
  2.  |  
  3. GENERAL KNOWLEDGE
  4.  |  
  5. विज्ञान
  6.  |  
  7. भौतिक शास्त्र

भौतिक शास्त्र

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

Large Hadron Collider: जानें Physics की अब तक की सबसे बड़ी खोज के बारे में

Apr 5, 2021
Large Hadron Collider (LHC) अब तक का सबसे शक्तिशाली कण एक्सेलरेटर (Particle accelerator) है. वज्ञानिकों के अनुसार इस खोज के ज़रिये भौतिक विज्ञान के कुछ अनसुलझे सवालों का जवाब मिल सकता है और ये ब्रह्मांड को समझने के हमारे नज़रिए को भी बदलने की शुरुआत हो सकती है. आइये इस लेख के माध्यम से LHC के बारे में विस्तार से अध्ययन करते हैं .

पृथ्वी पर 5 ऐसे स्थान जहां गुरुत्वाकर्षण काम नहीं करता है

Feb 22, 2021
गुरुत्वाकर्षण हर चीज़ को धरती की सतह से बांधे रखता है. अर्थात इस बल के कारण ही हम पृथ्वी पर चल पाते हैं परन्तु पृथ्वी पर कुछ ऐसे भी स्थान है जहां पर गुरुत्वाकर्षण बल शून्य हो जाता है और अजीब प्रकार की घटनाएं देखने को मिलती हैं. इस लेख के माध्यम से जानेंगे की ऐसी कौन सी जगह हैं जहां गुरुत्वाकर्षण बल काम नहीं करता है या फेल हो जाता है?

ऐसे परमाणु मिसाइल जिनसे भारत चीन को टारगेट कर सकता है

Mar 16, 2020
भारत अपने परमाणु हथियारों को आधुनिक बनाता जा रहा है. भारत अब एक ऐसी मिसाइल विकसित कर रहा है जो दक्षिण भारत में अपने सभी अड्डों से चीन को लक्षित कर सकता है. इस लेख में ऐसी मिसाइलों की सूची दी गई है जिससे यह पता चलता है कि कौन सी मिसाइलों की मदद से भारत चीन को टारगेट कर सकता है.

क्या आप जानतें हैं कि 20 छोटे चांदों से मिलकर बना है अपना चांद?

Dec 12, 2019
ब्रहमांड की दुनिया आज भी मनुष्य के लिए के पहेली बनी हुई है. पृथ्वी एक मात्र एक ग्रह  है जिस पर जीवन संभव है. इस पृथ्वी का एकमात्र उपग्रह चंद्रमा  है, जिसके बारे में अभी भी बहुत कुछ जानना बाकी है. इजराइल के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मौजूदा चांद की उत्पत्ति 20 छोटे चांदों से हुई है. आइये इस बारे में विस्तार से जानते हैं.

हवाई जहाज का ब्लैक बॉक्स क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

Nov 18, 2019
हवाई खोज मनुष्य की सबसे बेहतरीन खोजों में से एक है. लेकिन हवाई जहाज दुर्घटना के शिकार होते रहते हैं.इसलिए इस घटना के कारणों का पता लगाने के लिए ब्लैक बॉक्स को हवाई जहाज में लगाया जाता है. हवाई जहाज का ब्लैक बॉक्स या फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर, विमान में उड़ान के दौरान विमान से जुडी सभी तरह की गतिविधियों जैसे विमान की दिशा, ऊँचाई (altitude), ईंधन, गति (speed), हलचल (turbulence), केबिन का तापमान इत्यादि सहित 88 प्रकार के आंकड़ों के बारे में 25 घंटों से अधिक की रिकार्डेड जानकारी एकत्रित रखता है.

नोबेल पुरस्कार क्यों शुरू किये गए थे?

Oct 30, 2019
नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) पूरी दुनिया में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कारों में गिने जाते हैं. ये पुरस्कार 6 क्षेत्रों में हर साल दिए जाते हैं. एक विजेता को लगभग 7 करोड़ 22 लाख रुपये मिलते हैं. इन पुरस्कारों के शुरू होने के पीछे एक अख़बार में छपी गलत खबर थी. आइये इस लेख में जानते हैं कि वह गलत खबर क्या थी?

बुलेटप्रूफ जैकेट कैसे बनती है और यह कैसे रक्षा करती है?

Oct 17, 2019
Bulletproof Vests: दुनिया में बढ़ते युद्धों और अराजकता के माहौल में सैनिकों और अन्य सुरक्षा बालों की सरकार की प्राथमिकता बनती जा रही है. इस दिशा में साइंस एंड टेक्नोलॉजी का पूरा योगदान बहुत जरूरी हो जाता है. बुलेटप्रूफ जैकेट आधुनिक समय में सैनिकों की सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण उपकरण बन गया है. इस जैकेट को इस तरह से बनाया जा है कि इसको पहने हुए व्यक्ति को यदि गोली भी लग जाये तो उसकी जान को कोई खतरा नही होता है.

कभी-कभी किसी वस्तु को छूने से करंट क्यों लगता है?

Oct 17, 2019
जब हम अचानक से किसी वस्तु या व्यक्ति को छूते है तो हल्का सा करंट महसूस होता है. ऐसा क्यों होता है. दरअसल ब्रह्मांड में मौजूद सभी वस्तुएं एटम यानी अणु से बनी हुई है और हर एटम में इलेक्ट्रॉन, प्रोटोन और न्यूट्रॉन होते हैं. करंट को फ्लो करवाने में इनका क्या कार्य होता है. आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि कर्रेंट क्यों लगता है?

दूरबीन का अविष्कार कैसे हुआ था?

Oct 15, 2019
टेलीस्कोप या दूरबीन एक ऐसा यंत्र जो दूर की चीजों को पास दिखाता है. दरअसल दूरबीन का अविष्कार संयोगवश हुआ था. दूरबीन का अविष्कार 17 वीं सदी की शुरुआत में हॉलैंड के मिडिलबर्ग शहर में रहने वाले एक चश्मा व्यापारी के बेटे द्वारा खेल-खेल में किया गया था. इस व्यापारी का नाम हेंस लिपरशी (Hans Lippershey) था. इसके लिए हेंस लिपरशी ने कोई विशेष कोशिश या प्रयोगशाला नही बनायीं थी और ना ही हेंस लिपरशी कोई बहुत पढ़ा लिखा वैज्ञानिक था. 

बायो टॉयलेट किसे कहते हैं?

Oct 14, 2019
भारत सरकार ने 2013 से हाथ से मैला उठाने की प्रथा को प्रतिबंधित कर दिया है. इसी कारण भारतीय रेलवे में भी मल से सम्बंधित सभी काम अब मशीन के द्वारा ही कराये जाने की प्रणाली को शुरू करने के लिए सरकार ने ट्रेन में बायो टॉयलेट्स या जैविक शैचालयों को लगाने के निश्चय किया है. बायो टॉयलेट (Bio Toilet), परम्परागत टॉयलेट से अलग एक ऐसा टॉयलेट होता है जिसमें बैक्टेरिया की मदद से मानव मल को पानी और गैस में बदल दिया जाता है.

ट्रांजिस्टर क्या है और कैसे काम करता है?

Oct 12, 2019
जर्मनी के भौतिक विज्ञानी Julius Edgar Lilienfeld ने कनाडा में पेटेंट के लिए 1925 में Field-Effect Transistor (FET) के लिए प्रार्थना-पत्र दिया था लेकिन सबूतों के अभाव के कारण इसको स्वीकार नहीं किया गया था. परन्तु बाद में ट्रांजिस्टर का अविष्कार John Bardeen, Walter Brattain और William Shockley ने 1947 में Bell Labs में किया था.

बैलगाड़ी एवं साइकिल द्वारा रॉकेट ढ़ोने से लेकर इसरो का अबतक का सफरनामा

Jul 22, 2019
भारत ने अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत के गणराज्य बनने के साथ ही काम करना शुरू करदिया था ओए एक वर्ष में ही परमाणु उर्जा विभाग कि स्थापना कि गई थी। इसमें कोई संदेह नहीं है कि इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) का अब तक का सफर काबिल-ए-तारीफ है। आइये इस लेख के माध्यम से इसरो के सफरनामा और उपलब्धियों के बारे में अध्ययन करते हैं।      

जानें ISRO भारतीय रेलवे को कैसे सुरक्षा प्रदान करेगा?

Apr 2, 2019
ISRO अपने इंडियन रीजनल नैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) या नेविगेशन सिस्टम नाविक (NaVIC) का उपयोग कर रहा है, जिससे भारतीय रेलवे और इसरो के बीच संयुक्त सहयोग की सहायता से रेलवे मानव रहित फाटकों पर हो रहीं दुर्घटनाओं को रोका जा सकेगा. यह लेख भारतीय रेलवे सुरक्षा के लिए इसरो द्वारा उपयोग किए जाने वाले सैटेलाइट सिस्टम से संबंधित है, यह सिस्टम किस प्रकार से सुरक्षा प्रदान करेगा, IRNSS और NaVIC प्रणाली क्या है आदि.

जानिये घड़ी का आविष्कार कब, किसने और किस देश में किया था?

Jan 2, 2019
वर्तमान समय में इस्तेमाल की जाने वाली घडी का एक बार में अविष्कार नहीं हुआ है. किसी ने पहले घंटे वाली सुई बनायी तो किसी ने मिनट वाली सुई. इस प्रकार विश्व में घड़ी का विकास कई चरणों में हुआ है. जब घडी का अविष्कार नहीं हुआ था तब लोग सूरज की रोशनी और पानी के उतार-चढ़ाव के आधार पर भी समय का पता लगा लेते थे. इस लेख में हमने घड़ी के पूरे इतिहास के बारे में बताया है.

जानें रेडियोएक्टिविटी का उपयोग कहाँ किया जाता हैं?

May 11, 2018
जिन नाभिकों में प्रोटॉनों की संख्या 83 या उससे अधिक होती है, वे अस्थायी होते हैं. स्थायित्व प्राप्त करने के लिए ये नाभिक स्वत: ही अल्फा (α), बीटा (β) तथा गामा (४) किरणों का उत्सर्जन करने लगते हैं. ऐसे नाभिक जिन तत्वों के परमाणुओं में होते हैं उन्हें रेडियोऐक्टिव तत्व कहते हैं तथा उपर्युक्त किरणों के उत्सर्जन की घटना को रेडियोऐक्टिवता कहते हैं. आइये इस लेख के माध्यम से रेडियोऐक्टिवता, इसके प्रकार, उपयोग आदि के बारे में अध्ययन करते हैं.

1234 Next   

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_laddergolden_goalquiz_master

Register to get FREE updates

  • All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Get App